‘अदृश्य भारत’ : मैला ढोने के बजबजाते यथार्थ से मुठभेड़’ किताब का विमोचन

Author:इंडिया वाटर पोर्टल (हिन्दी)
Source:इंडिया वाटर पोर्टल (हिन्दी)
जुझारू पत्रकार भाषा सिंह द्वारा लिखित किताब ‘अदृश्य भारत’ मैला ढोने वालों के बजबजाते यथार्थ को बताती है। कश्मीर से लेकर कर्नाटक तक और पूरब से लेकर पश्चिम तक यह उस भारत की दास्तान है, जो दिखाई नहीं देता। एक ऐसा अदृश्य भारत, जो किसी गिनती में नहीं है। यह किताब इसी का आईना है। भाषा सिंह ने देश के दस राज्यों में खदबदा रहे उस परिवर्तन को पकड़ने की कोशिश की है, जिसे उन्होंने पिछेल आठ साल में देखा है।

भाषा सिंह द्वारा लिखित यह किताब छुआछूत व जाति व्यवस्था से सबसे ज्यादा पीड़ित मैला उठाने वाले समुदाय की हृदय विदारक दास्तान है। इस किताब में छलका दर्द, तकलीफ व अपमान मैला ढोने वाले समुदाय से लगातार बने संवाद का नतीजा है यह किताब समानता और मानवीय सम्मान को तरजीह देने वाले लोगों के विवेक को झकझोरेगी।

लोकार्पण व बातचीत


लोकार्पणः मैले के नर्क से मुक्ति के लिए जमीनी संघर्ष कर रहीं आंध्र प्रदेश की नारायणम्मा, हरियाणा की सरोज, कश्मीर की महजबीं और उत्तर प्रदेश की माया गौतमद्वारा

मुख्य वक्ताः दिल्ली विश्वविद्यालय में प्रोफेसर कौशल पनवार, भाकपा नेता डी.राजा, केंद्रीय मंत्री जयराम रमेश, यूजीसी के पूर्व चेयरमैन सुखदेव थोराट,साहित्यकार मैत्रेयी पुष्पा, भाकपा (माले) नेता श्रीलता स्वामीनाथन

कॉंस्टीट्यूशन क्लब, नई दिल्लीः 8 जून 2012
शाम 4.30 बजे
आप सादर आमंत्रित हैं

निवेदक
सफाई कर्मचारी आंदोलन व पेंग्विन बुक्स

Latest

मिलिए 12 हज़ार गायों को बचाने वाले गौरक्षक से

स्वस्थ गंगा: अविरल गंगा: निर्मल गंगा

पीएम मोदी का बचपन जहाँ गुजरा कभी वहां था सूखा आज बदल गई पूरी तस्वीर 

वायु प्रदूषण के सटीक आकलन और विश्लेषण के लिए नया मॉडल

गंगा का पानी प्लास्टिक और माइक्रोप्लास्टिक से प्रदूषित, अध्ययन में पता चला

शेरनी:पर्यावरण और वन्यजीव संरक्षण पर ध्यान आकर्षित करने का प्रयास

जलवायु परिवर्तन के संकट से कैसे लड़ रहे है पहाड़ के किसान

यूसर्क द्वारा “वाटर एजुकेशन लेक्चर सीरीज” के अंतर्गत “जल स्रोत प्रबंधन के सफल प्रयास पर ऑनलाइन कार्यक्रम का आयोजन

वर्ल्ड एक्वा कांग्रेस 15वाँ अंतरराष्ट्रीय सम्मेलन का आयोजन

कोविड-19 के जोखिम को बढ़ा सकता है जंगल की आग से निकला धुआं: अध्ययन