अगहन द्वादस मेघ अकास

Author:घाघ और भड्डरी

अगहन द्वादस मेघ अकास,
असाढ़ बरसै अखनाधार।


शब्दार्थ- अखनाधार – मूसलाधार

भावार्थ- यदि अगहन की द्वादशी को आकाश में बादलों के समूह घुमड़ रहे हों तो आषाढ़ में मूसलाधार वर्षा होगी।