आकाश नीला क्यों है

Author:सी.वी. रमन
Source:विज्ञान प्रसार

जब मुझसे (अपने) भाषण के लिए कोई वैज्ञानिक विषय चुनने को कहा गया तो मुझे यह विषय “आकाश नीला क्यों है” चुनने में कोई दिक्कत नहीं हुई। सौभाग्य से आज प्रकृति कृपालु है। मैं जब निगाहें ऊपर को उठाता हूं तो देखता हूं कि आकाश नीला है, सभी जगह तो नहीं, क्योंकि बादल बहुत हैं। मैंने यह विषय सिर्फ इसलिए चुना कि यह एक ऐसा उदाहरण है जिसे देखने के लिए आपको प्रयोगशाला में जाने की जरूरत नहीं है। बस आप आकाश की ओर देखिए और मुझे लगता है कि वैज्ञानिक चेतना का भी एक उदाहरण है। आप अपनी आंखे-कान खुले रखकर, अपने चारों ओर की दुनिया को देखते हुए विज्ञान सीखते हैं।

विज्ञान की असली प्रेरणा, कम से कम मुझे तो मूलतः प्रकृति-प्रेम से मिली है। सममुच, इस दुनिया में जहां भी निगाह जाती है, प्रकृति में तमाम तरह के चमत्कार होते दिखाई देते हैं। मेरे लिए, जो भी मैं देखता हूं, वह अद्भुत है, एकदम अद्भुत है और हम सब को देखकर सोच लेते हैं कि यह तो ऐसे ही होता है लेकिन मैं मानता हूं कि वैज्ञानिक चेतना का तत्व इसमें निहित है कि हम पीछे देखें, भविष्य की ओर देखें और यह समझें कि जिस दुनिया में हम रहते हैं, वह कितनी अद्भुत है और जो कुछ भी हम देखते हैं, वह हमारे लिए केवल उत्सुकता का विषय ही नहीं, बल्कि एक चुनौती भी है, एक ऐसी चुनौती जो मनुष्य की आत्मा को- अपने आसपास फैले इस विराट रहस्य को समझ पाने के लिए प्रेरित करती है।

पूरा कॉपी पढ़ने के लिए अटैचमेंट देखें