अमोनिया का स्तर बढ़ने से प्रभावित रही जलापूर्ति

Author:भास्कर न्यूज
Source:दैनिक भास्कर, 15 मार्च 2012
यमुना नदी में अमोनिया का स्तर बढ़कर 2.8 पीपीएम हो गया है। दिल्ली जल बोर्ड के दावे के विपरीत प्रदूषण की मात्रा में और वृद्धि हो गई है। प्रदूषण की वजह से बुधवार को भी वजीराबाद और चन्द्रावल जल शोधन संयंत्रों में उत्पादन नहीं हो सका। दोनों संयंत्रों के बंद होने की वजह से दिल्ली के विभिन्न इलाकों में पानी की जबरदस्त किल्लत बनी रही। पश्चिमी, उत्तरी, दक्षिणी और पुरानी दिल्ली के विभिन्न इलाकों में पानी की आपूर्ति बाधित बनी हुई है। हालांकि, डीजेबी ने गुरुवार तक हालात में सुधार आने की उम्मीद जताई है।

विभिन्न भूमिगत जलाशयों और बूस्टर पम्पों में सालाना सफाई किए जाने की वजह से दिल्ली की जनता पहले ही पानी का संकट झेल रही थी। ऐसे में गर्मियों की शुरुआत के साथ ही यमुना के पानी में अमोनिया का स्तर बढ़ने से संकट और गहरा गया है। जल बोर्ड के एक अधिकारी ने बताया कि हरियाणा सिंचाई विभाग से मुनक बैराज से पानी छोड़ने का अनुरोध किया था, ताकि पानी में प्रदूषण की मात्रा कम हो सके और जल शोधन संयंत्रों में उत्पादन चालू किया जा सके। हरियाणा सिंचाई विभाग ने सूचित किया है कि मुनक बैराज से अतिरिक्त मात्रा में पानी छोड़ा गया है, जिसके देर रात तक वजीराबाद बैराज तक पहुंचने की संभावना है। उन्होंने कहा कि पानी के वजीराबाद बैराज पहुंचने पर दोनों संयंत्रों में उत्पादन शुरू होने की उम्मीद है।

गौरतलब है कि पानी में अमोनिया का स्तर 1 पीपीएम से ज्यादा नहीं होना चाहिए। इससे ज्यादा होने पर जल शोधन संयंत्रों में उत्पादन संभव नहीं है। 40 एमजीडी के चंद्रावल संयंत्र के बंद होने की वजह से जामा मस्जिद, चांदनी चौक, दरियागंज, एलएनजेपी अस्पताल, एमसीडी टाउनहॉल, कश्मीरी गेट, मोरी गेट, अजमेरी गेट, रामलीला मैदान, साउथ एक्सटेंशन, ग्रेटर कैलाश, निरंकारी कॉलोनी, गांधी विहार और मुखर्जी नगर के आस-पास के इलाके में पानी की आपूर्ति प्रभावित रही। वहीं वजीराबाद संयंत्र में उत्पादन रोके जाने की वजह से केवल पार्क और उसके आस-पास के इलाके, जगतपुर, गोपालपुर, गुजरावाला टाउन, किंज्सवेकैंप, आजादपुर, जहांगीरपुरी, आदर्श नगर, लारेंस रोड और पंजाबी बाग, बसंत लोक, टीगरी, महरौली, बदरपुर, सुखदेव विहार, तेहखंड, बोडेला एक्सटेंशन, पंचवटी, वेस्ट पटेल नगर, नारायणा विहार, कराला, तंवर पार्क, बसई दारापुर, सुंदर विहार, रोहिणी, मंगोलपुरी, मुबारकपुर गांव, शास्त्री नगर, इंद्रलोक, साकेत, छतरपुर, मुनीरका गांव, हरिजन बस्ती मीठापुर, पुल प्रहलादपुर, जनकपुरी, टोडापुर, पश्चिम विहार, मादीपुर, पीतमपुरा, थान सिंह नगर, आनंद पर्वत, रामजस सोसाइटी, सराय रोहिल्ला, सराय बस्ती, ताहिरपुर, ओल्ड सीमापुरी, पंजाबी बस्ती, बापा नगर, रामजस पार्क आदि क्षेत्रों में पानी की आपूर्ति प्रभावित हुई।

Latest

गुजरात के विश्वविद्यालय ने वर्षा जल को सरंक्षित करने का नायाब तरीका ढूंढा 

‘अपशिष्ट जल से ऊर्जा बनाने में अधिक सक्षम है पौधा-आधारित माइक्रोबियल फ्यूल सेल’: अध्ययन

15वें वित्त आयोग द्वारा ग्रामीण स्थानीय निकायों को जल और स्वच्छता के लिए सशर्त अनुदान

गंगा किनारे लोगों के घर जब डूबने लगे

ग्रामीण स्थानीय निकायों को 15वें वित्त आयोग का अनुदान और ग्रामीण भारत में जल एवं स्वच्छता क्षेत्र पर इसका प्रभाव

जल संसाधन के प्रमुख स्त्रोत क्या है

बाढ़ की तबाही के बीच स्त्रियों की समस्याएं

अनदेखी का शिकार: शुद्ध जल संकट का स्थायी निदान

महाराष्ट्र एक्वीफर मैपिंग द्वारा जलस्रोत स्थिरता सुनिश्चित करना 

बिहार में जलवायु संकट से बढ़े हीट वेव से निपटने का बना एक्शन प्लान