अनपढ़ समाज ने सिखाया पानी सहेजना : अनुपम मिश्र

Author:लोकसभा टीवी
Source:लोकसभा टीवी


जब अंग्रेज भारत में राज करने आए थे तो यहां पर करीब 25 लाख तालाब, झील व अन्य वाटर बॉडीज, पानी का काम हो चुका था। आज के वाटर बॉडीज तालाब, झील छोटा हो या बड़ा उसे सिविल इंजीनियर बनाता है लेकिन तब हमारे यहां कोई सिविल इंजीनियरिग की इंस्टीट्यूट नहीं थी, ऐसी पदवी, डिग्री वाले लोग नहीं थे जो पांच साल की पढ़ाई करते हों।हमारे देश में करीब 25 हजार तालाब थे कन्याकुमारी से लेकर कश्मीर तक तथा बाड़मेर, जैसलमेर से लेकर पूरब के मेघालय तक। जिस राज्य का नाम मेघ पर है उस राज्य के लोगों को मेघ का पानी रोकना आता था। आज हम जिसको अंग्रेजी में वाटर हार्वेस्टिंग कहते हैं ये नया शब्द है पांच, दस साल पहले हमारे में से किसी साथी ने चलाया होगा लेकिन हमारा समाज इस शब्द को सिर्फ चलाता नहीं था उसका उपयोग करता था। हमारे अनपढ़ समाज द्वारा सहेजे गए पानी के काम को अनुपम मिश्र द्वारा प्रस्तुत करता यह वीडियो।


Latest

IIT-कानपुर के शोधकर्ताओं ने पानी साफ करने वाला सबसे सस्ता उपकरण बनाया

नदियों को सदानीरा बनाने के लिए संकल्पित मध्यप्रदेश

तीन दिवसीय जल-विज्ञान प्रशिक्षण कार्यक्रम का शुभारंभ

चंद्रमा खींच रहा है पृथ्वी का पानी, वैज्ञानिक ने खोजा अनोखा चंद्र स्रोत

यदि 50 डिग्री सेल्सियस तापमान हो जाए तो हालात कैलिफोर्निया जैसे होंगे

मूलभूत सुविधा भी नहीं है गांव के स्कूलों में

घातक हो सकता है ऐसे पानी पीना

20 साल पुराना पानी पीते है अमित शाह जो है एकदम शुद्व ,जाने कैसे

चीनी शोधकर्ताओं ने मंगल में ढूंढ लिया पानी

गोवा के कृषि मंत्री ने बता दिया गृहमंत्री अमित शाह कितना महंगा पानी पीते है