आस्था और अस्तित्व में फंसी गंगा

Author:एनडीटीवी
Source:एनडीटीवी, 25 मार्च 2012

क्या हमारे देश के नदियों का काम यही है कि वह हमारे पापों को धोएं? जो हमें अपना पानी पिलाती हैं उसी नदी को हम आज विलुप्त होने के लिए मजबूर कर रहे हैं। क्या यहीं हमारा नदियों के प्रति कर्तव्य है? इसी मुद्दे पर एनडीटीवी द्वारा एक विचार विमर्श किया गया।

Latest

भारत में 2030 तक 70 फीसदी कॉमर्शियल गाड़ियां होंगी इलेक्ट्रिक

राष्ट्रीय स्वाभिमान आंदोलन की कार्यकारिणी में पास हुआ प्रकृति केंद्रित विकास का प्रस्ताव

भारतीय नदियों का भाग्य संकट में

गंगा बेसिन में बाढ़ की घटनाओं में वृद्धि

"रिसेंट एडवांसेज इन वॉटर क्वॉलिटी एनालिसिस"पर ऑनलाइन आयोजन

स्वच्छता सर्वेक्षण में उत्तराखण्ड और इंदौर इस बार भी अव्वल कैसे

यूसर्क देहरादून ने चमन लाल महाविद्यालय में एक दिवसीय ऑनलाइन राष्ट्रीय सेमिनार का आयोजन किया

प्राकृतिक नाले को बचाने का अनोखा प्रयास

यमुना हमारे सीवेज से ही दिख रही है, नाले बंद कर देंगे तो वो नजर नहीं आएगी

29 लाख कृषकों को मिलेगा सरयू नहर परियोजना का लाभ