अविरल-गंगा के लिये दिल्ली में क्रमिक अनशन शुरू

Author:इण्डिया वाटर पोर्टल (हिन्दी)
Source:इण्डिया वाटर पोर्टल (हिन्दी)
स्वामी आत्मबोधानंद (फोटो साभार: अमर उजाला)स्वामी आत्मबोधानंद (फोटो साभार: अमर उजाला) 28 जनवरी 2019, नई दिल्ली। अविरल गंगा के लिये आत्मबोधानंद जी के उपवास के 97 दिन होने पर पर जन्तर-मन्तर पर भी क्रमिक उपवास शुरू किया गया। अविरल-गंगा के लिये सानंद के 111 दिन के अखंड उपवास के बाद हुई मृत्यु के बाद 24 अक्टूबर, 2018 से 26 वर्षीय युवा सन्त ब्रह्मचारी आत्मबोधानंद जी उपवास पर हैं। केरल में कम्प्यूटर साइंस के छात्र रहे 22 वर्ष के युवा ने मातृसदन में स्वामी शिवानंद जी के सानिध्य में संन्यास लिया और अब अविरल-गंगा के लिये अपना जीवन समर्पित कर दिया है।

सुप्रीम कोर्ट के वरिष्ठ वकील शारदा जी ने कहा कि हमारे लिये इस समय प्रमुख मुद्दा तो गंगा जी हैं जिनकी स्थिति आज अत्यन्त दयनीय है। हम आने वाली पीढ़ी को क्या ऐसी गंगा सौंप कर जाना चाहते हैं? डॉ. विजय वर्मा ने कहा कि हम चाहते हैं सरकार सन्तो से बात करे। आखिर कब तक नदी व पर्यावरण संरक्षण के लिये सन्त अपना जीवन त्यागते रहेंगे?

धरना स्थल से प्रधानमंत्री, जल संसाधन मंत्री नितिन गडकरी व मुख्यमंत्री उत्तराखण्ड को एक हस्ताक्षरित पत्र भेजा गया जिसमें सरकार से मांग की गई कि वे उपवास पर बैठे आत्मबोधानंद जी से बात करें। एनएपीएम सहित कई संगठनों ने आत्मबोधानंद जी का समर्थन करते हुए सरकार से मांग की है कि सरकार उनसे तुरन्त बातचीत शुरू करे और उनके जीवन की रक्षा करे। आत्मबोधानंद जी के उपवास के समर्थन में लोग प्रधानमंत्री को जगह-जगह से पत्र भेज रहे हैं।

Latest

बीएमसी ने पानी कटौती की घोषणा की; प्रभावित क्षेत्रों की पूरी सूची देखें

देहरादून और हरिद्वार में पानी की सर्वाधिक आवश्यकता:नितेश कुमार झा

भारतीय को मिला संयुक्त राष्ट्र का सर्वोच्च पर्यावरण सम्मान

जल दायिनी के कंठ सूखे कैसे मिले बांधों को पानी

मुंबई की दूसरी सबसे बड़ी झील पर बीएमसी ने बनाया मास्टर प्लान

जल संरक्षण को लेकर वर्कशॉप का आयोजन

देश की जलवायु की गुणवत्ता को सुधारने में हिमालय का विशेष महत्व

प्रतापगढ़ की ‘चमरोरा नदी’ बनी श्रीराम राज नदी

मैंग्रोव वन जलवायु परिवर्तन के परिणामों से निपटने में सबसे अच्छा विकल्प

जिस गांव में एसडीएम से लेकर कमिश्नर तक का है घर वहाँ पानी ने पैदा कर दी सबसे बड़ी समस्या