बांदा में वृक्षारोपण के संदर्भ में सूचना के अधिकार अधिनियम 2005 के तहत आवेदन (Application under the Right to Information Act for information on plantation in Banda)

pp

सेवा में,

 

जन सूचना अधिकारी

कार्यालय- जिला वन अधिकारी (डी.एफ.ओ.)

जनपद-बांदा (उ.प्र.)

 

विषयः सूचना के अधिकार अधिनियम 2005 के तहत आवेदन

 

महोदय,

 

तहसील नरैनी, जिला बांदा के अन्तर्गत आने वाले ग्रामों/वन भूमि (जंगलों) में वन विभाग द्वारा वर्ष 2008-09 में करवाये गये वृक्षारोपण के संदर्भ में निम्नलिखित सूचनायें उपलब्ध करवायें-

 

1. तहसील नरैनी के अन्तर्गत करवाये गये वृक्षारोपण के संदर्भ में विवरण निम्न बिन्दुओं के तहत दें-


 

क्र.सं.

ग्राम का नाम जिसकी भूमि/वन भूमि (जंगल) में वृक्षारोपड़ करवाया गया

लगवाये गये वृक्षों की संख्या व किस्म

व्यय की गयी कुल धनराशि

कार्य करने वाले मजदूरों की संख्या

दी गयी मजदूरी की धनराशि

      

 

 

 

2. तहसील नरैनी के ग्राम महुई, कुलसारी, छतैनी, पथरा व दिवली के जंगलों में करवाये गये वृक्षारोपण का विवरण निम्न बिन्दुओं के तहत दें-

 

क. लगवाये गये वृक्षों की संख्या तथा किस्म।

ख. स्थान/जंगल का नाम।

ग. व्यय की गयी धनराशि

घ. कार्य करने वाले मजदूरों के मस्टर रोलों की प्रमाणित छायाप्रतियां।

ङ. एम.बी. की प्रमाणित छायाप्रतियां।

च. इस्टमेटों की प्रमाणित छायाप्रतियां।

छ. उक्त ग्रामों के वृक्षारोपड़ कार्य में धनराशि व्यय किये जाने हेतु जिन बैंक खातों का उपयोग किया गया हो उनकी अप्रैल 2008 से सूचना दिये जाने के दिनांक तक के बैंक स्टेटमेंट तथा बैंक पासबुकों की प्रमाणित छायाप्रतियां भी उपलब्ध करवायें।

 

3. तहसील नरैनी में ग्रामशः वृक्षारोपण कार्य का निरीक्षण एवं भुगतान की संस्तुति प्रदान करने वाले अधिकारियों के नाम, पद व पते की सूचना भी दें।

 

मैं आवेदन शुल्क 10.00 रु. भारतीय पोस्टल आर्डर सं. ........................... के द्वारा जमा कर रहा हूँ। यदि आप यह पाते हैं कि मेरे द्वारा मांगी गयी सूचनाओं के बदले फोटोकापी शुल्क दिया जाना है तो कृपया यह भी बतायें कि बैंक ड्राफ्ट या पोस्टल आर्डर कितने का और किस नाम से बनेगा।

 

प्रार्थी

 

नाम -

पता -

फोन. नं.

 

Latest

मिलिए 12 हज़ार गायों को बचाने वाले गौरक्षक से

स्वस्थ गंगा: अविरल गंगा: निर्मल गंगा

पीएम मोदी का बचपन जहाँ गुजरा कभी वहां था सूखा आज बदल गई पूरी तस्वीर 

वायु प्रदूषण के सटीक आकलन और विश्लेषण के लिए नया मॉडल

गंगा का पानी प्लास्टिक और माइक्रोप्लास्टिक से प्रदूषित, अध्ययन में पता चला

शेरनी:पर्यावरण और वन्यजीव संरक्षण पर ध्यान आकर्षित करने का प्रयास

जलवायु परिवर्तन के संकट से कैसे लड़ रहे है पहाड़ के किसान

यूसर्क द्वारा “वाटर एजुकेशन लेक्चर सीरीज” के अंतर्गत “जल स्रोत प्रबंधन के सफल प्रयास पर ऑनलाइन कार्यक्रम का आयोजन

वर्ल्ड एक्वा कांग्रेस 15वाँ अंतरराष्ट्रीय सम्मेलन का आयोजन

कोविड-19 के जोखिम को बढ़ा सकता है जंगल की आग से निकला धुआं: अध्ययन