बारिश की मात्रा में आई गिरावट

Source:दैनिक जागरण, 23 जुलाई, 2018


वर्षावर्षा उत्तराखण्ड में बारिश की मात्रा में लगातार कमी आती जा रही है। इसकी बड़ी वजह जलवायु परिवर्तन को माना जा सकता है। मौसम विभाग द्वारा जारी किये गये आँकड़ों के अनुसार मानसून के सक्रिय होने के बाद से अभी तक यहाँ सामान्य से 9 प्रतिशत कम बारिश हुई है।

प्रदेश में साल-दर-साल औसत बारिश का आँकड़ा सिमटता जा रहा है। जुलाई 1973 में देहरादून में 1256.7 मिलीमीटर बारिश दर्ज की गई थी, 2017 में घटकर यह मात्र 593.2 मिलीमीटर रह गई थी। इस वर्ष एक जून से 20 जुलाई तक देहरादून में 499 मिलीमीटर बारिश हुई, जबकि 25 जुलाई, 1966 को देहरादून में 487.1 मिलीमीटर बारिश हुई थी। साल-दर-साल बारिश की कम होती मात्रा मौसम विशेषज्ञों के लिए चिंता का विषय बानी हुई है।

मानसून के सक्रिय होने के बाद से अभी तक यहाँ मात्र 364.7 मिलीमीटर बारिश हुई है जो सामान्य से 9 प्रतिशत कम है। मौसम विभाग के अनुसार इस दरमियान यहाँ लगभग 402.7 मिलीमीटर बारिश होनी चाहिए। प्रदेश के कुल तेरह जिलों में से मात्र तीन ऐसे हैं जिनमें सामान्य से थोड़ी ज्यादा बारिश हुई है।

बढ़ती जनसंख्या, औद्योगिकीकरण और सिकुड़ता हरियाली क्षेत्र जलवायु परिवर्तन के कारण माने जा सकते हैं। लेकिन प्रदेश के सात पहाड़ी जिले ऐसे हैं जिनमें इस मानसून सीजन में सामान्य से कम बारिश दर्ज की गई है। इस जिलों में बारिश की मात्रा में आयी यह कमी पर्यावरण के लिए अच्छा सूचक नहीं है।

राज्य मौसम विज्ञान केंद्र के निदेशक बिक्रम सिंह के मुताबिक, अभी तक प्रदेश में बारिश सामान्य से नौ फीसद कम हुई है। आशा है कि बचे हुए मानसून सीजन में अच्छी बारिश होगी।

कुटी गाँव में फटा बादल

उच्च हिमालय में चीन सीमा से लगे साढ़े बारह हजार फीट से अधिक ऊँचाई पर स्थित भारत की सीमा में पड़ने वाले अन्तिम गाँव कुटी के पास बादल फटने से बरसाती नदी कुटी ने विकराल रूप ले लिया है। नदी में पानी का प्रवाह इतना तेज हो गया है कि वह कुटी गाँव को जोड़ने वाले पुल को ही बहा ले गया। मलबे की वजह से नदी का प्रवाह प्रभावित हो रहा है जिससे कुटी नदी और इसकी सहायक बरसाती नदी के संगम स्थल पर झील बनने की आशंका बढ़ गई है।

 

एक जून से 20 जुलाई तक हुई बारिश की स्थिति (फीसद में)

जिला

सामान्य

बारिश हुई

फीसद में

पौड़ी
373.6
131.6
-65
अल्मोड़ा
 298.5       
122.5
 -59
यूएस नगर    
382.4
214.4
-44
टिहरी           
 337.8
235.9
-30
नैनीताल                            
 502
392.7
-22
हरिद्वार       
290.5
 229
-21
चम्पावत         
484.5
 419
-14
उत्तरकाशी                        
355.5
312.8
-12
देहरादून                             
550.6
499
-09
पिथौरागढ़                       
601.1
581.9
 -03
चमोली                              
261
460.8
 77
बागेश्वर                           
298.5
525.8
76
रुद्रप्रयाग                           
514.5
 573.1
04

 

 

Latest

मिलिए 12 हज़ार गायों को बचाने वाले गौरक्षक से

स्वस्थ गंगा: अविरल गंगा: निर्मल गंगा

पीएम मोदी का बचपन जहाँ गुजरा कभी वहां था सूखा आज बदल गई पूरी तस्वीर 

वायु प्रदूषण के सटीक आकलन और विश्लेषण के लिए नया मॉडल

गंगा का पानी प्लास्टिक और माइक्रोप्लास्टिक से प्रदूषित, अध्ययन में पता चला

शेरनी:पर्यावरण और वन्यजीव संरक्षण पर ध्यान आकर्षित करने का प्रयास

जलवायु परिवर्तन के संकट से कैसे लड़ रहे है पहाड़ के किसान

यूसर्क द्वारा “वाटर एजुकेशन लेक्चर सीरीज” के अंतर्गत “जल स्रोत प्रबंधन के सफल प्रयास पर ऑनलाइन कार्यक्रम का आयोजन

वर्ल्ड एक्वा कांग्रेस 15वाँ अंतरराष्ट्रीय सम्मेलन का आयोजन

कोविड-19 के जोखिम को बढ़ा सकता है जंगल की आग से निकला धुआं: अध्ययन