भारत जल पोर्टल

Author:admin

भारत जल पोर्टल जल प्रबंधन के कार्य से जुड़े लोगों के बीच इससे संबंधित जानकारी बाँटने का एक खुला और संयुक्त मंच है, जो वेब-आधारित है।

इसका प्रयास है जल-विशेषज्ञों का अमूल्य अनुभव प्राप्त कर, उसे संकलित किया जाए, प्रौद्योगिकी की सहायता से उसकी उपयोगिता में संवर्धन किया जाए और तत्पश्चात इंटरनेट के माध्यम से समुदाय के उपयोगार्थ उसका व्यापक प्रसारण किया जाए।

हमारा मानना है कि जल संसाधनों के चिरस्थायी प्रबंधन में प्रमुख रोड़ा है - इस सेक्टर से जुड़े पणधारियों में ज्ञान की असम्मति(asymmetry)। पोर्टल के माध्यम से अनुकरणीय प्रथाओं की जानकारी बांटी जाएगी, चिरस्थायी तरीकों की वकालत की जाएगी, जन सूचना और जानकारी में पारदर्शिता लाई जाएगी और जागरूकता बढ़ाई जाएगी।

पोर्टल का अंतिम उद्देश्य होगा - पानी के सेक्टर में न्याय और चिरस्थायित्व के विषयों से निपटना। इसीलिए हम प्रचार-प्रसार के अन्य माध्यम- जैसे प्रिन्ट मीडिया, रेडियो और कार्यशालाओं - का भी उपयोग कर रहे हैं, ताकि यह ज्ञान उन जमीनी कार्यकर्ताओं को प्राप्त हो जिन्हें इसकी सर्वाधिक आवश्यकता है।

पोर्टल अर्घ्यम्‌ न्यास द्वारा संयोजित एक स्वैच्छिक प्रयास है, जो खुलापन और लेन-देन की भावना से प्रेरित है। इस प्रयास में पानी से संबंधित तकनीकी विशेषज्ञ, अनुसंधान संस्थाएं, गैर शासकीय संगठन, शासकीय विभाग, इतिहासकार और भू-जल विशेषज्ञ, सूचना प्रौद्योगिकी के विशेषज्ञ, शिक्षाविद्‌ एवं अन्य भागीदार हैं।

हम और भी अनेक भागीदारों को मिलाकर जल सेक्टर से संबंधित इस ज्ञानाधार का विस्तार करना चाहते हैं। यदि आप इस सेक्टर में कार्यरत हों और हमसे जुड़ने के इच्छुक हों तो कृपया निम्नलिखित पते पर हमसे संपर्क करें : -

अर्घ्यम्‌,

सम्पर्क नं- 91 9250725116
minakshi@indiawaterportal.org
hindi@indiawaterportal.org
kesar@indiawaterportal.org

Latest

गंगा का पानी प्लास्टिक और माइक्रोप्लास्टिक से प्रदूषित, अध्ययन में पता चला

शेरनी:पर्यावरण और वन्यजीव संरक्षण पर ध्यान आकर्षित करने का प्रयास

जलवायु परिवर्तन के संकट से कैसे लड़ रहे है पहाड़ के किसान

यूसर्क द्वारा “वाटर एजुकेशन लेक्चर सीरीज” के अंतर्गत “जल स्रोत प्रबंधन के सफल प्रयास पर ऑनलाइन कार्यक्रम का आयोजन

वर्ल्ड एक्वा कांग्रेस 15वाँ अंतरराष्ट्रीय सम्मेलन का आयोजन

कोविड-19 के जोखिम को बढ़ा सकता है जंगल की आग से निकला धुआं: अध्ययन 

गौरैया को मिल गया नया आशियाना

गंगा की अविरलता और निर्मलता को स्थापित करने के लिये वर्चुअल मीटिंग का आयोजन 

चरखा ने "संजॉय घोष मीडिया अवार्ड्स 2020" सम्मान समारोह का किया आयोजन

पर्यावरण संरक्षण, खुशहाली और समृद्धि का प्रतीक है हरेला