भूकंप

Author:सुबोध महंती
Source:विज्ञान प्रसार

लगभग प्रत्येक व्यक्ति को पृथ्वी के कांपने संबंधी विपदा का अक्षरशः अनुभव होगा। लेकिन प्रत्येक बार जब भूकंप आता है तो हमारे मस्तिष्क में अनेक सवाल उठते हैं। भूकंप क्यों आता है? क्या भूकंप की भविष्यवाणी की जा सकती है? क्यों भूकंप कुछ क्षेत्रों में ही आते हैं? भूकंपों की तीव्रता में परिवर्तन क्यों होता है? क्यों कुछ भूकंपों के दौरान हल्का कंपन होता है? और क्यों कुछ भूकंपों से भारी उथल-पुथल होती है? किस प्रकार भूकंप से होने वाली क्षति को न्यूनतम किया जा सकता है? क्या इमारतों को गिरने से रोका जा सकता है? पिछला भूकंप कब आया था? अगला भूकंप कब और कहां आएगा?

“अभी तक वैज्ञानिक इस बात को भली-भांति नहीं समझ सके हैं कि हमारे ग्रह की आरंभिक अवस्था को अनावृत करने के लिए भूविज्ञान की सभी शाखाओं को प्रमाण उपलब्ध कराने में योगदान देना चाहिए और इस विषय की सच्चाई को केवल इन सभी प्रमाणों को मिलाकर ही समझा जा सकता है। हम यहां सत्य का निर्धारण भूविज्ञान संबंधी शाखाओं को खंगाल कर ही कर सकते हैं। कहने का आशय यह है कि हमें ऐसी तस्वीर प्रस्तुत करना है, जिसमें सभी ज्ञात तथ्य उचित रूप से व्यवस्थित हों और वह संभाव्यता की अधिकतम सीमा को अभिव्यक्त करते हों। इसके अलावा हमें इस संभावना के लिए भी हमेशा तैयार रहना चाहिए कि हर नई खोज, चाहे उसका परिणाम जो भी हो, हमारे पूर्व निष्कर्षों को भी बदल सकती है।”

‘दि ओरिजिन्स ऑफ कांटिनेंट्स एंड ओशंस’ में अल्फ्रेड लोथर वैगनर (शन् 1929)
पृथ्वी के भूपटल में उत्पन्न तनाव का, उसकी सतह पर अचानक मुक्त होने के कारण पृथ्वी की सतह का हिलना या कांपना, भूकंप कहलाता है। भूकंप प्राकृतिक आपदाओं में से सबसे विनाशकारी विपदा है जिससे मानवीय जीवन की हानि हो सकती है। आमतौर पर भूकंप का प्रभाव अत्यंत विस्तृत क्षेत्र में होता है। भूकंप, व्यक्तियों को घायल करने और उनकी मौत का कारण बनने के साथ ही व्यापक स्तर पर तबाही का कारण बनता है। इस तबाही के अचानक और तीव्र गति से होने के कारण जनमानस को इससे बचाव का समय नहीं मिल पाता है।

बीसवीं सदी के अंतिम दो दशकों के दौरान पृथ्वी के विभिन्न स्थानों पर 26 बड़े भूकंप आए, जिससे वैश्विक स्तर पर करीब डेढ़ लाख लोगों की असमय मौत हुई। यह दुर्भाग्य ही है कि भूकंप का परिणाम अत्यंत व्यापक होने के बावजूद अभी तक इसके बारे में सही-सही भविष्यवाणी करने में सफलता नहीं मिली है। इसी कारण से इस आपदा की संभावित प्रतिक्रिया के अनुसार ही कुछ कदम उठाए जाते हैं।

विज्ञान की वह शाखा जिसके अंतर्गत भूकंप का अध्ययन किया जाता है, भूकंप विज्ञान (सिस्मोलॉजी) कहलाती है और भूकंप विज्ञान का अध्ययन करने वाले वैज्ञानिकों को भूकंपविज्ञानी कहते हैं। अंग्रेजी शब्द ‘सिस्मोलॉजी’ में ‘सिस्मो’ उपसर्ग ग्रीक शब्द है जिसका अर्थ भूकंप है। भूकंपविज्ञानी भूकंप के परिमाण को आधार मानकर उसकी व्यापकता को मापते हैं। भूकंप के परिमाण को मापने की अनेक विधियां हैं।

लगभग प्रत्येक व्यक्ति को पृथ्वी के कांपने संबंधी विपदा का अक्षरशः अनुभव होगा। लेकिन प्रत्येक बार जब भूकंप आता है तो हमारे मस्तिष्क में अनेक सवाल उठते हैं। भूकंप क्यों आता है? क्या भूकंप की भविष्यवाणी की जा सकती है? क्यों भूकंप कुछ क्षेत्रों में ही आते हैं? भूकंपों की तीव्रता में परिवर्तन क्यों होता है? क्यों कुछ भूकंपों के दौरान हल्का कंपन होता है? और क्यों कुछ भूकंपों से भारी उथल-पुथल होती है? किस प्रकार भूकंप से होने वाली क्षति को न्यूनतम किया जा सकता है? क्या इमारतों को गिरने से रोका जा सकता है? पिछला भूकंप कब आया था? अगला भूकंप कब और कहां आएगा? समाचार पत्रों में दिए गए किसी भूकंपों के केंद्र या अधिकेंद्र से हमारा क्या आशय है? यद्यपि वैज्ञानिकों ने भूकंप की पूरी प्रक्रिया को समझ लिया है और उन्होंने वैश्विक स्तर पर भूकंप की पुनरावृत्ति की व्याख्या करने की एक पद्धति विकसित की है। इस प्रकार अनेक गतिविधियों से वैज्ञानिक समुदाय भूकंप के कारण और उसके स्वरूप को जानने का प्रयास कर रहे हैं।

भूकंप के भयानक और विनाशकारी परिणामों के कारण यह परिघटना अनेक काल्पनिक कथाओं और मिथकों का विषय बनी हुई है। प्राचीन काल से ही विभिन्न सभ्यताओं ने धरती के हिलने या कांपने को समझने के लिए विभिन्न काल्पनिक कथाओं से कई मिथकों का सहारा लिया है।

भूकंपों से संबंधित पौराणिक कथाएं, किंवदंती और धारणाएं


प्राचीन भारत में ऐसा माना जाता था कि पृथ्वी एक कछुए की पीठ पर खड़े चार हाथियों पर टिकी है और यह कछुआ भी एक सांप के फन पर संतुलन बनाए खड़ा है। जब इनमें से कोई जानवर हिलता है तब धरती के कंपित होने के कारण भूकंप आता है। एक अन्य मान्यता के अनुसार पृथ्वी आठ हाथियों के सिरों पर टिकी है और जब इनमें से कोई एक थक कर अपना सिर हिलाता है तब भूकंप आता है।

नार्स या स्केडिनेवियन की प्रौराणिक कथा के अनुसार भूकंप कलह और बुराई के देवता ‘लोकी’ के प्रचंड संघर्ष के कारण आता है। लोकी को सुंदरता और प्रकाश के देवता ‘बालडर’ को मारने के कारण दंडित किया जाता है। लोकी को कसकर बांध कर एक जहरीले सर्प के साथ एक गुफा के अंदर कैद कर दिया जाता है। जहरीला सर्प लोकी के सिर पर जहर छोड़ता रहता है। लोकी के पास उसकी पत्नी ‘सिग्याम’ सर्प के जहर को झेलने के लिए एक प्याला लिए खड़ी होती है जिससे लोकी के चेहरे पर जहर न टपके। सर्प के जहर से प्याले के भर जाने पर जब सिग्याम प्याला खाली करने के लिए हटती है तब लोकी के चेहरे पर जहर के टपकने से वह झटके से अपना सिरा हिलाता है और जहर से बचने का प्रयास करने के साथ छटपटाता भी है। लोकी के ऐसा करने के कारण धरती के कांपने से भूकंप आता है।

ग्रीक की पौराणिक कथा के अनुसार जब धरती पर कुछ बुरा घटता है तब देवता जीयस दंड के रूप में बिजली उत्पन्न करते हैं, जिससे धरती के कंपित होने से भूकंप की उत्पत्ति होती है।

एक जापानी किंवदंती के अनुसार भूकंप के लिए धरती के अंदर रहने वाली मांजू नामक विशाल कैटफिश (अशल्क मीन) जिम्मेदार हैं।

350 ईसा पूर्व ग्रीक विचारक अरस्तू (384 ईसा पूर्व से 322 ईसा पूर्व) ने भूकंप के संबंध में यह विचार प्रस्तुत किया था भूमिगत गुफाओं में हवाओं के बहने के कारण भूकंप आता है। ओविड नामक रोमन कवि (43 ईसा पूर्व से 17 ईसवी) के अनुसार पृथ्वी का सूर्य के अत्यंत समीप आना भूकंप का कारण है। इस स्थिति में सूर्य की विस्मयी विकिरणों के कारण धरती कांप उठती है।

अब हम जानते हैं कि भूकंप मानवीय प्रभाव या उनके नियंत्रण से मुक्त विश्वव्यापी विवर्तनिक प्लेटों का परिणाम है। हम भूकंप को रोक तो नहीं सकते, लेकिन हम इस विपदा को पहचान कर सुरक्षित संरचना वाली इमारतों का निर्माण करने के साथ जनमानस में भूकंप से सुरक्षा की शिक्षा का प्रसार कर इसके विनाशकारी प्रभावों में काफी हद तक कमी कर सकते हैं। चलिए भूकंप क्या है इस प्रश्न से शुरुआत की जाए।

भूकंप क्या है?


भूकंप को इस प्रकार परिभाषित किया जा सकता है कि “पृथ्वी के भूपटल में उत्पन्न तनाव के आकस्मिक मुक्त होने से धरती की सतह के हिलने की घटना भूकंप कहलाती है”। इस तनाव के कारण हल्का सा कंपन उत्पन्न होने पर पृथ्वी में व्यापक स्तर पर उथल-पुथल विस्तृत क्षेत्र में तबाही का कारण बन सकती है।

जस बिंदु पर भूकंप उत्पन्न होता है उसे भूकंपी केंद्रबिंदु और उसके ठीक ऊपर पृथ्वी की सतह पर स्थित बिंदु को अधिकेंद्र अथवा अंतःकेंद्र के नाम से जाना जाता है। अधिकेंद्र की स्थिति को उस स्थान के अक्षांशों और देशांतरों के द्वारा व्यक्त किया जाता है।

भूकंप के समय एक हल्का सा झटका महसूस होता है। फिर कुछ अंतराल के बाद एक लहरदार या झटकेदार कंपन महसूस होता है, जो पहले झटके से अधिक प्रबल होता है। छोटे भूकंपों के दौरान भूमि कुछ सेकंड तक कांपती है, लेकिन बड़े भूकंपों में यह अवधि एक मिनट से भी अधिक हो सकती है। सन् 1964 में अलास्का में आए भूकंप के दौरान धरती लगभग तीन मिनट तक कंपित होती रही थी।

भूकंप के कारण धरती के कांपने की अवधि विभिन्न कारणों जैसे अधिकेंद्र से दूरी, मिट्टी की स्थिति, इमारतों की ऊंचाई और उनके निर्माण में प्रयुक्त सामग्री पर निर्भर करती है।

कितनी जल्दी आते हैं भूकंप?


भूकंप एक सामान्य घटना है। एक अनुमान के अनुसार विश्व में लगभग प्रत्येक 87 सेकंड में कहीं न कहीं धरती हल्के से कांपती है। इन झटकों को महसूस तो किया जा सकता है लेकिन ये इतने शक्तिशाली नहीं होते कि इनसे किसी प्रकार की क्षति हो सके। प्रति वर्ष धरती पर औसतन 800 भूकंप ऐसे आते हैं जिनसे कोई नुकसान नहीं होता है। इनके अतिरिक्त धरती पर प्रति वर्ष 18 बड़े भूकंप आने के साथ एक अतितीव्र भूकंप भी आता है।

बिरले ही भूकंप की घटना थोड़े ही समय अंतराल के दौरान भूकंपों के विभिन्न समूह रूप में हो सकती है। उदाहरण के लिए संयुक्त राज्य अमेरिका के न्यू मैड्रिड में सात सप्ताह (16 दिसंबर 1811, 7 फरवरी और 23 फरवरी 1812) के दौरान भूकंप की तीन तीव्र घटनाएँ घटित हुई थी। इसी प्रकार ऑस्ट्रेलिया के टेनेट क्रीक में 22 जनवरी, 1988 को 12 घंटे की अवधि के दौरान भूकंप की तीन तीव्र घटनाएँ घटित हुई थीं।

किसी बड़े भूकंप से पहले अथवा बाद में विभिन्न तीव्रता के कंपन उत्पन्न होते हैं। भूकंपविज्ञानियों ने इस परिघटना की व्याख्या करने के लिए अग्रलिखित तीन शब्दों का उपयोग किया है:

1. पूर्ववर्ती आघात,
2. मुख्य आघात, और
3. पश्चवर्ती आघात।

किसी भी भूकंप समूह के सबसे बड़े भूकंप को, जिसका परिमाण सर्वाधिक हो, मुख्य आघात कहते हैं। मुख्य आघात से पहले के कंपन को पूर्ववर्ती आघात और मुख्य आघात के बाद आने वाले कंपनों को पश्चवर्ती आघात कहा जाता है।

भूकंप के प्रकार


भूकंप को मुख्यतः दो प्रकारों में विभाजित किया जा सकता है :-
1. प्राकृतिक कारणों से आने वाले भूकंप, और
2. मानव गतिविधियों से भूकंप।

प्राकृतिक कारणों से आने वाले भूकंप


प्राकृतिक रूप से आने वाले भूकंप विवर्तनिक भूकंप भी कहलाते हैं क्योंकि ये पृथ्वी के विवर्तनिक गुण से संबंधित होते हैं। प्राकृतिक रूप से आने वाले अधिकतर भूकंप भ्रंश (फाल्ट) के साथ आते हैं। भ्रंश भूपटल में हलचल के कारण उत्पन्न होने वाली दरार या टूटन है। ये भ्रंश कुछ मिलीमीटर से कई हजार किलोमीटर तक लंबे हो सकते हैं। भूविज्ञान कालक्रम के दौरान अधिकतर भ्रंश दोहरे विस्थापनों का निर्माण करते हैं।

मानवीय गतिविधियाँ भी भूकंप को प्रेरित कर सकती हैं। गहरे कुओं से तेल निकालना, गहरे कुओं में अपशिष्ट पदार्थ या कोई तरल भरना अथवा निकालना, जल की विशाल मात्रा को रखने वाले विशाल बांधों का निर्माण करना और नाभिकीय विस्फोट जैसी विनाशकारी घटना के समान गतिविधियाँ मानव प्रेरित भूकंप का कारण हो सकती हैं।यदि भ्रंश लम्बवत होता है तब भ्रंश को सामान्य भ्रंश कहा जाता है जहां प्रत्येक तरफ की चट्टानें एक-दूसरे से विपरीत गति करती हैं। विलोम भ्रंश में एक किनारा दूसरे किनारे पर चढ़ जाता है। निम्न कोण का विलोम भ्रंश, क्षेप (थ्रस्ट) कहलाता है। दोनों किनारों में एक-दूसरे के सापेक्ष गति होने पर पार्श्वीय भ्रंश या चीर भ्रंश का निर्माण होता है।

विवर्तनिक भूकंप को पुनः दो उपभागों आंतरिक प्लेट भूकंप और अंतर प्लेट भूकंप में वर्गीकृत किया गया है। जब कोई भूकंप विवर्तनिक प्लेट की सीमा के साथ होता है तो उसे आंतरिक प्लेट भूकंप कहते हैं। अधिकतर विवर्तनिक भूकंप प्रायः इसी श्रेणी के होते हैं। अंतर प्लेट भूकंप प्लेट के अंदर और प्लेट सीमा से दूर आते हैं।

भूकंप, महाद्वीप के स्थायी महाद्वीप क्षेत्र कहलाने वाले पुराने और अधिक स्थायी भाग में भी आते रहते हैं।

ज्वालामुखी के मैग्मा में होने वाली हलचल भी प्राकृतिक रूप से आने वाले भूकंपों का कारण हो सकती है। इस प्रकार के भूकंप ज्वालामुखी विस्फोट की अग्रिम चेतावनी देने वाले होते हैं।

मानव गतिविधियों से प्रेरित भूकंप


मानवीय गतिविधियाँ भी भूकंप को प्रेरित कर सकती हैं। गहरे कुओं से तेल निकालना, गहरे कुओं में अपशिष्ट पदार्थ या कोई तरल भरना अथवा निकालना, जल की विशाल मात्रा को रखने वाले विशाल बांधों का निर्माण करना और नाभिकीय विस्फोट जैसी विनाशकारी घटना के समान गतिविधियाँ मानव प्रेरित भूकंप का कारण हो सकती हैं।

कृत्रिम जलाशय के कारण आने वाले बड़े भूकंपों में से एक भूकंप सन् 1967 में महाराष्ट्र के कोयना क्षेत्र में आया था। भूकंप का कारण बनी एक और कुख्यात मानवीय गतिविधि संयुक्त राज्य अमेरिका के कोलरेडो स्थित राकी माउटेंन पर डेनवेर क्षेत्र में तरल पदार्थ को गहरे कुओं में प्रवेश कराए जाने से संबंधित रही है।

भूकंप कैसे पैदा होते हैं?


प्लेट विवर्तनिक सिद्धांत के अनुसार पृथ्वी की बाहरी पर्त या भूपटल की बनावट बड़ी और छोटी कठोर प्लेटों से बनी चौखटी आरी (जिग्सॉ) जैसी होती है। इन प्लेटों की मोटाई सैकड़ों किलोमीटर तक हो सकती है। संभवतः प्रावार के नीचे संवहन धाराओं के प्रभाव से ये प्लेटें एक-दूसरे के सापेक्ष गति करती हैं। पृथ्वी को अनेक भूकंपी प्लेटों में बांटा गया है। इन प्लेटों के अंतर पर, जहां प्लेटें टकराती या एक-दूसरे से दूर जाती हैं वहां बड़े भूमिखंड पाए जाते हैं। इन प्लेटों की गति काफी धीमी होती है। अधिकतर तीव्र भूकंप वहीं आते हैं, जहां ये प्लेटें आपस में मिलती हैं। कभी-कभी ऐसा भी होता है कि प्लेटों के किनारे आपस में एक दूसरे में फंस जाती हैं जिससे यह गति नहीं कर पाती और इनके मध्य दबाव उत्पन्न होता है। नतीजतन प्लेटें एक-दूसरे को प्रचंड झटका देकर खिसकती है और धरती प्रचंड रूप से कंपित होती है। इस प्रक्रिया में विशाल भ्रंशों के कारण पृथ्वी की भूपटल पर्त फट जाती है।

किसी क्षेत्र में एक बार भ्रंशों के उत्पन्न हो जाने पर वह क्षेत्र कमजोर हो जाता है। भूकंप वस्तुतः पृथ्वी के अंदर संचित तनाव के बाहर निकलने का माध्यम है, जो सामान्यतया इन भ्रंशों के दायरे में ही सीमित होते हैं। जब पृथ्वी के अंदर का तनाव मौजूद भ्रंशों से दूर स्थित किसी अन्य स्थान पर निस्तारित होता है, तब नए भ्रंश उत्पन्न होते हैं।

भूकंप की शक्ति का कैसे पता लगाएं?


परिमाण और तीव्रता किसी भूकंप की प्रबलता मापने के दो तरीके हैं। भूकंप के परिमाण का मापन भूकंप-लेखी में दर्ज भू-तरंगों के आधार पर किया जाता है। भूकंप-लेखी भूकंप का पता लगाने वाला उपकरण है। किसी भूकंप की प्रबलता भूकंप-लेखी में दर्ज हुए संकेतों के अधिकतम आयाम एवं भूकंप स्थल से उपकरण की दूरी के आधार पर निर्धारित की जाती है।

परिमाण का मापन


रिक्टर पैमाने (रिक्टर स्केल) पर भूकंप के परिमाण का मापन भूकंप द्वारा प्रसारित भूकंपी ऊर्जा द्वारा किया जाता है। सन् 1935 में कैलिफोर्निया इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी में कार्यरत अमेरिकी भौतिकविद चार्ल्स एफ, रिक्टर ने विश्व की रिक्टर पैमाने से परिचित कराया था। उनके इस योगदान के लिए बाद में इस पैमाने का नामकरण रिक्टर पैमाने किया गया है। रिक्टर ने यह पैमाना सैकड़ों भूकंपों के अध्ययन से ज्ञात प्रतिरूपों के आधार पर विकसित किया था।

रिक्टर पैमाना


रिक्टर पैमानें पर निर्धारित परिमाण के आधार पर भूकंपों का वर्गीकरण नीचे दिया गया है।

तीव्रता

प्रभाव

2.0 से कम

सामान्यतः महसूस नहीं किया जा सकता लेकिन पैमाने पर अंकित हो जाता है।

2.0 से 2.9

अनुभव किए जाने की संभावना रहती है।

3.0 से 3.9

कुछ लोग महसूस कर लेते हैं।

4.0 से 4.9

अधिकतर लोग महसूस कर लेते हैं।

5.0 से 5.9

नुकसानदेह आघात।

6.0 से 6.9

आवासीय इलाकों में विनाशकारी प्रभाव।

7.0 से 7.9

बड़े भूकंप, इनके कारण बहुत हानि होती है।

8.0 से अधिक

प्रबल भूकंप, अधिकेंद्र के निकट भारी तबाही होती है।

 



रिक्टर पैमाना आरंभ तो एक इकाई से होता है लेकिन इसका कोई अंतिम छोर तय नहीं किया गया है, वैसे अब तक ज्ञात सर्वाधिक प्रबल भूकंप की तीव्रता 8.8 से 8.9 के मध्य मापी गई है। चूंकि रिक्टर पैमाने का आधार लघु गणकीय होता है, इसलिए इसकी प्रत्येक इकाई उसके ठीक पहले वाली इकाई से दस गुनी अधिक होती है। रिक्टर पैमाना भूकंप के प्रभाव को तो नहीं मापता है, यह पैमाना तो भूकंप-लेखी द्वारा भूकंप के दौरान मुक्त हुई ऊर्जा के आधार पर भूकंप की शक्ति का निर्धारण करता है।

अभी तक भारत में आए सर्वाधिक प्रबलता के भूकंप का परिमाण रिक्टर पैमाने पर 8.7 मापा गया है, यह भूकंप 12 जून, 1897 को शिलांग प्लेट में आया था। रिक्टर परिमाण का प्रभाव भूकंप के अधिकेंद्र वाले समीपवर्ती क्षेत्रों में महसूस किया जाता है। भूकंप के सर्वाधिक ज्ञात प्रबल झटके का परिमाण 8.8 से 8.9 के परास (रेंज) तक देखा गया है।

भूकंप की तीव्रता


भूकंप की तीव्रता का मापन भूकंप का व्यक्तियों, इमारतों, और भूमि पर दृष्टिगोचर होने वाले प्रभावों की व्यापकता के आधार पर किया जाता है। किसी विशिष्ट क्षेत्र में भूकंप की प्रबलता भूकंप द्वारा पृथ्वी में होने वाली हलचल की प्रबलता के आधार पर मापी जाती है, जिसका निर्धारण जीव-जंतुओं, मानवों, इमारतों, फर्नीचरों और प्राकृतिक परिवेश में आए बदलावों के आधार पर किया जाता है। किसी विशिष्ट भूकंप के परिमाण के अद्वितीय होने के विपरीत भूकंप की तीव्रता उस स्थान से अधिकेंद्र की दूरी, उद्गम केंद्र की गहराई, स्थानीय भूमि विन्यास और भ्रंश की गति के प्रकार पर निर्भर करती है।

भूकंप की तीव्रता मापने के लिए बारह अंकों में वर्गीकृत संशोधित मर्कली तीव्रता पैमाने का व्यापक उपयोग किया जाता है। आरंभिक मर्कली पैमाने का विकास सन् 1902 में इटली के भूकंप विज्ञानी गिउसेपे मर्कली ने किया था। मर्कली पैमाना में मानवों और अन्य जीवों पर भूकंप के प्रभाव को दर्ज किया गया था। सन् 1931 में अमेरिकी भूकंप वैज्ञानिक हैरी वुड और फ्रेंक नॉयमान ने संशोधित मर्कली पैमाना प्रस्तुत किया। भूकंप की तीव्रता मापने के मर्कली पैमाने में I से लेकर XII तक रोमन अंकों का प्रयोग किया जाता है।

संशोधित मर्कली पैमाना


I. केवल कुछ लोगों के अलावा अन्य लोग इसे अनुभव नहीं कर पाते हैं।
II. आराम कर रहे, विशेषकर ऊपरी मंजिलों में मौजूद, लोगों को इसका अनुभव होता है। ढीले-ढाले ढंग से लटकाई गई वस्तुएँ हिल सकती हैं।
III. मकान के अंदर विशेषकर ऊपरी मंजिल में रहने वाले अधिकांश व्यक्ति इसे महसूस करते हैं। भूकंप के समय पास से ट्रक गुजरने जैसा स्पंदन होता है। भूकंप के दौरान खड़ी हुई कारें हल्के से हिल सकती हैं।
IV. दिन के समय इसे घर के अंदर बहुत से लोग एवं बाहर कुछ लोग महसूस कर सकते हैं। इससे रात में कुछ लोग उठ सकते हैं। तश्करियों, खिड़की, दरवाज़े शोर करने लगते हैं और दीवारों के चटखने की आवाजें आने लगती हैं। ऐसा महसूस होता है कि कोई भारी ट्रक किसी इमारत से टकरा गया हो। खड़ी हुई मोटर-कारों में कंपन अधिक होता है।
V. लगभग सभी लोग इसे अनुभव करते हैं। कई लोग सोते से जाग उठते हैं। कुछ तश्तरियां और खिड़कियां टूट सकती हैं। लोलक (पेंडुलम) वाली घड़ियां रुक जाती हैं।
VI. सभी महसूस करते हैं। कई लोग बाहर की ओर दौड़ते हैं। अनेक लोग भयभीत हो जाते हैं। कुछ भारी फर्नीचर हिलने लगते हैं और इस दौरान प्लास्टरों के टूटकर गिरने की एवं चिमनियों के क्षतिग्रस्त होने के कुछ घटनाएँ भी घटित होती हैं। हल्का नुकसान होता है।
VII. सभी लोग बाहर की ओर दौड़ते हैं। अच्छे ढंग से बने भवनों को नहीं के बराबर नुकसान पहुँचता है। औसत स्तर के अच्छे निर्माण को थोड़ा-सा नुकसान होता है। लेकिन खराब ढंग से निर्मित इमारतों को पर्याप्त क्षति होती है। कुछ चिमनियां टूट जाती हैं। कार चला रहे लोगों को इसका अनुभव होता है।
VIII. विशेष प्रकार से निर्मित किए गए निर्माण को कुछ क्षति पहुँचती है। साधारण ढंग से बनी विशाल इमारतें व्यापक रूप से क्षतीग्रस्त होती हैं। खराब ढंग से बनी इमारतें सर्वाधिक क्षतिग्रस्त होती है। खम्भे, स्मारक, दीवारें गिर सकती हैं। भारी फर्निचर उलट जाते हैं। कम मात्रा में रेत और मिट्टी निष्कासित होती है। कुओं के जल स्तर में परिवर्तन होता है। कार चालक घबरा जाते हैं।
IX. विशेष ढंग से बनाई गई इमारतें भी क्षतिग्रस्त हो जाती हैं। इमारतों के बुनियादें हिल जाती हैं। भूमि में दरारें स्पष्ट रूप से देखी जा सकती है। भूमिगत पाइप टूट जाते हैं।
X. इसमें अच्छे निर्माण भी नींव सहित धवस्त हो जाते हैं। अधिकांश इमारतें और ढांचागत संरचनाएं नींव समेत नष्ट हो जाती हैं। भूमि पर बहुत सी दरारें पड़ जाती हैं। रेल की पटरियां मुड़ जाती हैं। नदियों के किनारों और ढलानों पर भूस्खलन होता है। पानी किनारों को तोड़कर फैल जाता है।
XI. इसमें शायद ही कोई निर्माण बचा रह पाता है। पुल नष्ट हो जाते हैं। ज़मीन में चौड़ी दरारें पड़ जाती हैं। भूमिगत पाइप लाइनें पूर्णतः बेकार हो जाती हैं। नदियों के किनारों और ढलानों पर भूस्खलन होता है। रेल की पटरियां काफी मुड़ जाती हैं।
XII. इस श्रेणी का भूकंप पूर्ण विनाश करता है। भूमि पर तरंगें देखी जा सकती हैं। इसमें दृष्टिगत होने वाली समस्त रेखीय और धरातलीय आकृतियां विरुपति हो जाती हैं। वस्तुएं हवा में उछल जाती हैं।

मर्कली पैमाने पर 12 की तीव्रता वाले भूकंप से चट्टानों के बड़े पैमाने पर गिरने के अलावा नई झीलों के बनने से उस स्थान की स्थलाकृति भी बदल सकती है।

इतिहास में अभी तक के सर्वाधिक विनाशकारी भूकंप की तीव्रता 9 थी। यह भूकंप सन् 1556 में चीन के साक्षी प्रांत में आया था और जिसमें करीब 8,30,000 लोगों की मौत हुई थी।

एमएसके (MSK) पैमाना


सन् 1964 के आरंभ में यूरोप और भारत में भूकंपी तीव्रता के मापने के लिए मेडवेडेव-स्पोन्हुअर-कार्निक (MSK) पैमाने का व्यापक उपयोग हुआ। यह पैमाना समान परास के रोमन अंकों में I (न्यूनतम) से लेकर XII (अधिकतम) तक वितरित है।

भूकंप के दौरान धरती के कांपने का मापन करने वाला उपकरण भूकंप-लेखी कहलाता है। भूकंप-लेखी, भू-स्पंदन को अंकित करने वाला उपकरण है। भूकंप को मापने की इस आरंभिक युक्ति की खोज चीनी दार्शनिक चांग हेंग द्वारा 132 ईसा में की गई थी। यह उपकरण वस्तुतः एक बड़ा घड़ा था। इस उपकरण में बाहर की ओर ड्रैगन के आठ सिर बने हुए थे, जो कुतुबनुमा की आठों मुख्य दिशाओं, उत्तर, दक्षिण, पूर्व, पश्चिम, उत्तरपूर्व, दक्षिण-पूर्व, उत्तर-पश्चिम और दक्षिण-पश्चिम की ओर उन्मुख थे। यह एक आधार से जुड़ा रहता था। परिमाण और तीव्रता में आधारभूत अंतर को समझना आवश्यक है। परिमाण द्वारा भ्रंश विभंग (फॉल्ट रेंप्चर) यानी फटाव से उत्पन्न विकृति ऊर्जा के कारण आने वाले भूकंप की व्यापकता को मापते हैं। यह किसी भूकंप के परिमाण का एक मान है। भूकंप की तीव्रता किसी स्थान की कंपन प्रबलता की माप होती है। यह देखा गया है कि भूकंप से दूर स्थित स्थानों के बजाय उत्केंद्र बिंदु या उद्गम स्थल पर कंपन अधिक होता है। इसलिए किसी निश्चित परिमाण वाले भूकंप के दौरान विभिन्न स्थानों पर विभिन्न तीव्रता स्तर का अनुभव किया जा सकता है।

भूकंप प्रभावित क्षेत्र


भूकंप किसी भी क्षेत्र में और किसी भी समय आ सकता है। प्रशांत-चक्रीय भूकंप पट्टी के नाम से प्रसिद्ध अश्वाकार क्षेत्र में विश्व के अधिकतर भूकंप आते हैं। करीब चालीस हजार किलोमीटर लंबा यह क्षेत्र प्रशांत अग्नि वलय या अग्नि वलय के नाम से भी जाना जाता है।

वैज्ञानिकों ने पृथ्वी के ऐसे तीन विशाल क्षेत्रों की पहचान की है, जहां अन्य स्थानों की अपेक्षा अधिक भूकंप आते हैं।

क्षेत्र I


विश्व का पहला भूकंप क्षेत्र प्रशांत-चक्रीय भूकंप पट्टी है। पृथ्वी पर घटित होने वाली कुल भूकंपी घटनाओं में से 81 प्रतिशत भूकंपी घटनाएँ इसी क्षेत्र में घटित होती हैं। प्रशांत महासागर के किनारे पर पाई जाने वाली यह पट्टी चिली से उत्तर की ओर बढ़ कर दक्षिण अमेरिका के समुद्री किनारे से होते हुए मध्य अमेरिका, मैक्सिको, अमेरिका के पश्चिमी किनारे, जापान के एल्यूशियन द्वीप समूह, फिलीपीन द्वीप समूह, न्यू गिनी, दक्षिण-पश्चिम प्रशांत महासागर में स्थित द्वीप समूह और न्यूजीलैंड तक जाती है।

क्षेत्र II


भूकंप के प्रति दूसरी अति संवेदनशील पट्टी में अल्पाइड क्षेत्र शामिल है। इस क्षेत्र में विश्व के 17 प्रतिशत भूकंप आते हैं। यह पट्टी जावा से होती हुई सुमात्रा, हिमालय, भूमध्य सागर और अटलांटिक क्षेत्र तक विस्तारित है। यह विश्व का दूसरा सबसे अधिक भूकंप प्रभावित क्षेत्र है।

क्षेत्र III


तीसरी महत्वपूर्ण भूकंपी पट्टी जलमग्न मध्य-अटलांटिक कटक का अनुसरण करती है।

भूकंप को किस प्रकार मापें


भूकंप के दौरान धरती के कांपने का मापन करने वाला उपकरण भूकंप-लेखी कहलाता है। भूकंप-लेखी, भू-स्पंदन को अंकित करने वाला उपकरण है। भूकंप को मापने की इस आरंभिक युक्ति की खोज चीनी दार्शनिक चांग हेंग द्वारा 132 ईसा में की गई थी। यह उपकरण वस्तुतः एक बड़ा घड़ा था। इस उपकरण में बाहर की ओर ड्रैगन के आठ सिर बने हुए थे, जो कुतुबनुमा की आठों मुख्य दिशाओं, उत्तर, दक्षिण, पूर्व, पश्चिम, उत्तरपूर्व, दक्षिण-पूर्व, उत्तर-पश्चिम और दक्षिण-पश्चिम की ओर उन्मुख थे। यह एक आधार से जुड़ा रहता था। प्रत्येक ड्रैगन के सिर के नीचे मेढ़क का एक बच्चा बना हुआ था। मेढ़क के खुले हुए मुंह ड्रैगन के सिरों की ओर थे। भूकंप आने पर उनमें से कोई एक अथवा कई ड्रैगनों के मुंह से एक-एक गेंद निकल कर नीचे बैठे मेढ़क के बच्चों के मुंह में गिरती थी। भूमि के कंपन की दिशा का निर्धारण इस बात से किया जाता है कि गेंद किस ड्रैगन के मुंह से निकली है।

वर्तमान भूकंप-लेखी (सिस्मोग्राफ) उपकरण का आविष्कार टोकियो के ‘इम्पीरियल कॉलेज ऑफ इंजीनियरिंग’ में भूविज्ञान के प्रोफेसर जॉन मिल्न (1850 से 1913) ने सन् 1880 में किया। यह उपकरण छोटा होने के कारण विश्व के विभिन्न स्थानों में स्थापित किया जा सकता था। इस उपकरण से भूकंप के भौगोलिक वर्गीकरण के संबंध में प्रारंभिक आंकड़े प्राप्त करने में काफी मदद मिली। एक जटिल भूकंपलेखी में तीन मुख्य अवयव संवेदक (सेन्सर), रिकार्डर और समयसूचक टाइमर) होते हैं।

भूकंप-लेखी द्वारा भूकंप की स्थिति और परिमाण की गणना भूकंप-अभिलेखी (सिस्मोग्राम) में लिपिबद्ध में समांतर अक्ष समय को प्रदर्शित करता है, जिसकी गणना सेकंड में की जाती है। सामान्यतया भूकंप अभिलेखी में भूमि विस्थापन को दर्शाने वाले लंबवत अक्ष को मिलीमीटर में मापते हैं।

किसी भूकंप-मापी (सिस्मोमीटर) की सहायता से भूकंप-अभिलेखी तैयार करने के कई तरीके हैं जैसे किसी ड्रम के आस-पास लिपटे हुए कागज़ पर किसी पेन की सहायता से लकीरें खींची जाती हैं अथवा घूमता हुआ कोई प्रकाशपुंज किसी घूमती हुई फोटोग्राफी फिल्म पर अपना प्रभाव चिन्हित कर सकता है और विशिष्ट प्रक्रिया से विद्युत चुंबकीय प्रणाली विद्युत धारा को इस प्रकार उत्पन्न कर सकती है, जिससे उसे इलेक्ट्रानिक प्रणाली से टेप पर अंकित किया जा सकता है। स्थानीय व्यवधान एवं शोर आदि के कारण होने वाली अत्यंत लघु कुलबुलाहट को छोड़कर भूकंप के न होने पर भूकंप-अभिलेखी एक सरल रेखा होती है।

अधिकतर आधुनिक भूकंप-लेखी नाज़ुक लटकते हुए द्रव्यमान के जड़त्व और भूमि पर अंकित बिंदु से द्रव्यमान के विस्थापन पर आधारित होते हैं। भूमि पर दो बिंदुओं के बीच सापेक्ष विस्थापन अन्य माप का आधार होता है। अंकित स्थान से अधिकेंद्र की दूरी में आवश्यकतानुसार संशोधन की जरूरत भी होती है।

रिक्टर द्वारा विकसित की गई भूकंप मापने की यह पद्धति कुछ निश्चित आवृत्तियों एवं विस्तार क्षेत्रों के लिए ही उपयुक्त है। रिक्टर पैमाना 6.8 से अधिक तीव्रता वाले भूकंपों के बारे में यथार्थ रूप से जानकारी नहीं देता है। अतः विश्व भर में फैले भूकंप-लेखी केंद्रों की बढ़ती संख्या का लाभ उठाने के लिए एवं परिमाण मापने के लिए कायिक तरंग परिमाण, तलीय तरंग परिमाण और आघूर्ण परिमाण जैसे नए पैमानों को विकसित किया गया है। ये पैमानें मुख्यतः रिक्टर द्वारा विकसित की गई अवधारणा का ही विस्तारित रूप है।

आघूर्ण परिमाण द्वारा भूकंप की प्रबलता का उचित अनुमान लगाया जा सकता है। आघूर्ण एक भौतिक परिमाण है जो भ्रंश के सरकाव व सरके हुए भ्रंश क्षेत्र के समानुपाती होता है। आघूर्ण को भूकंप-अभिलेखी और भू-गणितीय पैमानों से मापा जा सकता है। यह भूकंप के दौरान मुक्त हुई कुल ऊर्जा से संबद्ध होता है। परिमाण मापने के अन्य पैमानों से भिन्न, आघूर्ण पैमाने द्वारा भूकंप का अनुमान उसके परिमाण के पूर्ण परास तक प्राप्त होता है। यह पैमाना तीव्रता की कोई उच्च या निम्न सीमा नहीं रखता है। इस पैमाने पर बहुत ही कम तीव्रता के भूकंप का मान या तो शून्य होगा या फिर ऋणात्मक।

विश्व भूकंप आवृत्ति


प्रकार

परिणाम

आवृत्ति औसत

विशाल

8 से अधिक

1

मुख्य

7-7.9

18

शक्तिशाली

6.9

120

मध्यम

5-5.9

180

हल्का

4-4.9

6200 (अनुमानित)

गोण

3-3.9

49000 (अनुमानित)

 



सन् 1954 में गुटनबर्ड और चार्ल्स फ्रांसिस रिक्टर ने ‘दि सिस्मिसिटी ऑफ दि अर्थ’ मोनोग्राफ को प्रकाशित किया। यह पहला सूचीपत्र था, जिसमें विश्वव्यापी भूकंपी क्षेत्रों का विस्तृत विवरण था। गुटनबर्ड और रिक्टर की सूची में भारतीय क्षेत्र का पहला उपकरणीय सूचक भूकंप सन् 1904 में 4 अप्रैल को कांगड़ा क्षेत्र में आया भूकंप था।

गुटनबर्ड-रिक्टर सिद्धांत किसी क्षेत्र और किसी समय में आए कुल भूकंप एवं उसके परिमाण के बीच संबंधों को व्यक्त करता है।

भूकंपी नक्शा


भूकंप वैज्ञानिकों ने किसी विशिष्ट क्षेत्र या स्थान पर विभिन्न स्तर के भूकंपी प्रभाव को दर्शाने के लिए विशेष नक्शे तैयार किए हैं। इन नक्शों को समभूकंपी नक्शों का नाम दिया गया है। ये नक्शे भूमि के कंपन की तीव्रता, कंपन के आयाम आदि विभिन्न भूकंपी प्रभावों के संदर्भ में समान भूकंपी क्षेत्रों के निर्धारण में उपयोग किए जाते हैं। इन नक्शों को भूकंपी संकट नक्शे भी कहा जाता है। इमारत कूटों (कोडों) के अंतर्गत इमारतों के संरचनात्मक अवयवों का भूकंपी विश्लेषण करने के लिए भूकंपी क्षेत्र नक्शों में परिवर्तित करते हैं। इस प्रकार यह नक्शे किसी क्षेत्र के विभिन्न संकट स्तरों वाले भूकंपी संकट की व्याख्या करता है।

भारत का भूकंपी क्षेत्र


भारत को पांच विभिन्न भूकंपी क्षेत्रों में बांटा गया है। इन क्षेत्रों को भूकंप की व्यापकता के घटते स्तर के अनुसार क्षेत्र I से लेकर क्षेत्र V तक वर्गीकृत किया गया है।

1. क्षेत्र I जहां को खतरा नहीं है।
2. क्षेत्र II जहां कम खतरा है।
3. क्षेत्र III जहां औसत खतरा है।
4. क्षेत्र IV जहां अधिक खतरा है।
5. क्षेत्र V जहां बहुत अधिक खतरा है।

भारतीय मौसम विभाग द्वारा तैयार किए गए एक सूचीपत्र (कैटलाग) में भारत में आए भूकंपों में से 1200 भूकंपों को सूचीबद्ध किया गाया है।

भूकंपी तरंगें


भूकंप के दौरान तरंगों के रूप में विशाल मात्रा में मुक्त होने वाली विकृति ऊर्जा को भूकंपी ऊर्जा कहा जाता है। भूकंपी तरंगें भूमि या उसकी सतह के साथ संचरित होती हैं। भूकंपी तरंगों को विश्व भर में अनुभव किया जा सकता है। भूकंपी तरंगों की भौतिकी अति जटिल होती है। यह तरंगें सभी दिशाओं में संचरण करती हुई प्रत्येक अवरोधों से प्रत्यावर्तित और परिवर्तित होती है। ये तरंगें, जो पृथ्वी के आधार के साथ सभी दिशाओं में फैलती हैं, पिंड या काय तरंगें कहलाती हैं। इनके अलावा पृथ्वी सतह के निकट तक सीमित रहने वाली तरंगों को पृष्ठीय तरंगें कहा जाता है।

पी तरंगों के कारण ही भवनों में सर्वप्रथम कंपन होता है। पी तरंगों के बाद ही किसी संरचना के पार्श्वीय भाग को स्पंदित करने वाली एस तरंगों के प्रभाव को अनुभव किया जा सकता है। चूंकि इमारतों को लंबवत कंपनों की तुलना में अनुप्रस्थ कंपन आसानी से क्षतिग्रस्त करती हैं। अतः पी तरंगें अधिक विनाशकारी है। रैले तरंगें और लव तरंगें सबसे अंत में आती है। जहां पी और एस तरंगों के कारण उच्च आवृत्ति के कंपन उत्पन्न होते हैं, वहीं रैले और लव तरंगों के कारण कम आवृत्ति वाले कंपन उत्पन्न होते हैं। पिंड तरंगें दो प्रकार की होती है: पहली प्राथमिक तरंग या पी तरंग और दूसरी द्वितीयक तरंग या एस तरंग। पृष्ठीय तरंगें दो तरंगों, लव तरंग और रैले तरंग से मिलकर बनती है। पी तरंगें सर्वाधिक तीव्र होती हैं और ये तरंगें एस तरंगों, लव तरंगों और रैले तरंगों का अनुसरण करने वाली होती हैं।

पी तरंगों में चट्टानों के कण माध्यम में आगे-पीछे कम्पन करते हैं। हमें सबसे पहले पी तरंगों का अनुभव होता है।

एस तरंगों (जिन्हें अनुप्रस्थ पृष्ठीय तरंग भी कहा जाता है) के द्वारा चट्टानों के कण ऊपर-नीचे और पार्श्वीय रूप से कंपन करते हैं। एस तरंगें तरल से संचरित नहीं होती हैं।

जब पी और एस तरंगें सतह पर पहुँचती हैं तब उनकी अधिकतर ऊर्जा वापस धरती के आंतरिक भाग में पहुंच सकती है। इस ऊर्जा का कुछ भाग चट्टानों और मिट्टी की विभिन्न पर्तों से परावर्तित होकर वापस सतह पर आ जाता है।

रैले तरंगों को यह नाम इन तरंगों की उपस्थिति का अनुमान लगाने वाले वैज्ञानिक लार्ड रैले (1842-1919) के नाम पर दिया गया है। यह तरंगें सतह के ऊपर गति करती हुई चट्टानों के कणों को दीर्घवृत्तीय गति प्रदान करती हैं।

लव तरंगों का नामकरण ऑगस्टस एडवर्ड हंज लव के नाम पर रखा गया है। लव तरंगें चट्टानों के कणों को अपने फैलाव की दिशा से लंबवत विस्थापित करती है और इन तरंगों में कोई लंबवत और अनुप्रस्थ घटक नहीं होता है।

पी तरंगों के कारण ही भवनों में सर्वप्रथम कंपन होता है। पी तरंगों के बाद ही किसी संरचना के पार्श्वीय भाग को स्पंदित करने वाली एस तरंगों के प्रभाव को अनुभव किया जा सकता है। चूंकि इमारतों को लंबवत कंपनों की तुलना में अनुप्रस्थ कंपन आसानी से क्षतिग्रस्त करती हैं। अतः पी तरंगें अधिक विनाशकारी है। रैले तरंगें और लव तरंगें सबसे अंत में आती है। जहां पी और एस तरंगों के कारण उच्च आवृत्ति के कंपन उत्पन्न होते हैं, वहीं रैले और लव तरंगों के कारण कम आवृत्ति वाले कंपन उत्पन्न होते हैं। सूक्ष्म और तीव्र वेग वाली होने के कारण पी एवं एस तरंगें झटकों और धक्कों के लिए जिम्मेदार होती है। पृष्ठीय तरंगें लंबी और धीमी होती हैं और यह लहरदार (रोलिंग) प्रभाव उत्पन्न करती हैं। भूकंपी तरंगों की गति विभिन्न प्रकार की चट्टानों में अलग-अलग होती हैं। जहां पृष्ठीय तरंगें अधिक समय तक बनी रहती हैं वहीं पिंड तरंगें कुछ ही समय में समाप्त हो जाती हैं।

भूकंप क्षति


रिक्टर पैमाने पर आए समान परिमाण के भूकंप के कारण हुई तबाही में अंतर हो सकता है। इसका कारण यह है कि भूकंप से होने वाली क्षति एक से अधिक कारकों पर निर्भर होती है। भूकंप के केंद्र-बिंदु की गहराई ऐसा ही एक महत्वपूर्ण कारक है। यदि भूकंप काफी गहराई में जन्म लेता है तो इससे सतही नुकसान कम ही होता है। 26 जनवरी, 2001 को गुजरात में आया भूकंप का केंद्र-बिंदु अपेक्षाकृत कम गहराई अर्थात उथले स्तर पर स्थित था। इस भूकंप की गहराई 25 किलोमीटर से भी कम होने से इसकी प्रबलता भी कम थी। इसी प्रकार 1999 के मार्च महीनें में गढ़वाल क्षेत्र में आया भूकंप का केंद्र-विंदु भी कम गहराई पर स्थित था।

भूकंप का प्रभाव


सुग्राही भूकंप-लेखी द्वारा प्रतिदिन विश्व के अनेक भागों में आए भूकंपों को मापा जाता है। सौभाग्य से उनमें से अधिकतर भूकंप कम प्रबलता वाले होते हैं, जिनसे कोई विशेष नुकसान नहीं होता है।

भूकंप दो अनुप्रस्थ व एक लंबवृत दिशा के साथ भूमि को तीनों दिशाओं में कंपित कर देता है। भूमि अनियमित रूप से इन तीनों दिशाओं में कंपित होती रहती है। हालांकि अनुप्रस्थ कंपन अधिक विनाशकारी होता है। भूकंप से होने वाला आरंभिक नुकसान इमारतों या संरचनाओं के क्षतिग्रस्त होने के रूप में सामने आता है।

एक भूकंप के दौरान होने वाली हानि मुख्यतः निम्न कारकों पर निर्भर करती हैं।

1. कंपन की शक्ति : भूकंप के कंपन की शक्ति दूरी के साथ घटती जाती है। किसी भूकंप के दौरान भ्रंश खंड के साथ तीव्र कंपन की प्रबलता इसके विसर्पण या फिसलन के दौरान 13 किलोमीटर दूरी में आधी, 27 किलोमीटर में एक चौथाई, 48 किलोमीटर दूरी में आठवां भाग और 80 किलोमीटर में सोलवां भाग रह जाती है।

2. कंपन की लंबाई : कंपन की लंबाई भूकंप के दौरान भ्रंश की टूटन पर निर्भर करती है। इमारतों के लंबे समय तक हिलने से अधिक और स्थायी नुकसान होता है।
3. मिट्टी का प्रकार : भुरभुरी, बारीक़ और गीली मिट्टी में कंपन अधिक होता है।
4. भवन का प्रकार : कुछ इमारतें भूकंप के दौरान कंपन से पर्याप्त सुरक्षित नहीं होते हैं।

किसी भूकंप के दौरान मानव निर्मित संचनाओं के गिरने और वस्तुओं एवं कांच के हवा में उछलने से जान-माल की हानि अधिक होती है। शिथिल या ढीली मिट्टी में बनने वाली दृढ़ संरचनाओं की अपेक्षा आधारशैल पर बनने वाली लचीली संरचनाओं में भूकंप से क्षति कम होती है। कुछ क्षेत्रों में भूकंप से पहाड़ी ढाल से मृदा की परतों के फिसलने से अनेक लोग दब सकते हैं। बड़े भूकंपों के कारण धरती की सतह पर प्रचंड हलचल होती है। कभी-कभी इनके कारण समुद्र में विशाल लहरें उत्पन्न होती हैं जो किनारों पर स्थित वस्तुओं को बहा ले जाती हैं। ये लहरें भूकंप के कारण सामान्य तौर पर होने वाले विनाश को और बढ़ा देती हैं। अक्सर प्रशांत महासागर में इस प्रकार की लहरें उत्पन्न होती है। इन विनाशकारी लहरों को सुनामी कहा जाता है।

न्यूनतम नुकसान


यह संदेश बड़ा सरल है कि भूकंप पूर्व उचित सुरक्षा उपायों को अपनाकर इससे होने वाले नुकसान को कम किया जा सकता है, किंतु हर बार यह संदेश भूकंप के बाद ही भूला दिया जाता है और भूकंप के आने पर यह संदेश फिर से दोहराया जाता है। भूकंप से होने वाली क्षति को कम करने के लिए पर्याप्त सुरक्षा उपायों को अपनाया जाने के साथ ही इमारतों के निर्माण के समय भूकंप संबंधी सुरक्षा उपायों को अपनाने के लिए उचित कानून बनाने की आवश्यकता पर जोर दिया जाना चाहिए।

भारतीय मानक विभाग (ब्यूरो ऑफ इंडियन स्टैंडर्स) ने पहली बार सन् 1962 में एवं फिर 1967 में भूकंप प्रतिरोधी भवनों के लिए मानक (कोड) एवं दिशा-निर्देश निर्धारित किए। बाद में इनमें संशोधन करके इन्हें विस्तारित और आधुनिक बनाया गया। लेकिन इस संहिता की प्रकृति केवल सुझावात्मक हैं, इसलिए संतोषजनक ढंग से अनुपालन नहीं किया जाता है (शायद कुछ सरकारी संगठनों को छोड़कर)। इस विषय में थोड़ा संदेह है कि भविष्य में ऐसे क़ानूनों के दायरे में शहरी और ग्रामीण नियोजन अधिनियम में संशोधन का मास्टर प्लान के विकास से संबंधित नियम एवं स्थानीय निकायों के भवन निर्माण संबंधी उपनियमों में सुरक्षा प्रणालियों का समावेश किया जाएगा।

यदि भूकंप के बाद के राहत कार्य समय से हों और कुशलता बरती जाए तो इस आपदा में हताहत होने वालों की संख्या में कमी लाई जा सकती है। इसके लिए क्रेनों जैसे बड़े उपकरण और अवरोधों को दूर करने के लिए ब्लोटार्चों और ध्वनिक युक्तियों जैसे छोटे उपकरण, दबे लोगों का पता लगाने वाले प्रशिक्षित कुत्ते, डॉक्टरों, विशेषकर विकलांग विज्ञान के शल्य चिकित्सक और पर्याप्त चिकित्सा सुविधाओं वाले उपकरण और आकस्मिक स्थिति के लिए रक्त आपूर्ति की आवश्यकता होती है। इनके अलावा अस्थायी आवास स्थलों, कपड़ों और भोजन के लिए खाद्य सामग्री की आवश्यकता होती है। आपदा के पश्चात उत्पन्न होने वाली परिस्थितियों को संभालने के लिए हमें निम्न बातों पर विशेष ध्यान देने की आवश्यकता होगी:-

1. व्यापक जन जागरुकता अभियान, विशेषकर ग्रामीण क्षेत्रों में।
2. स्वयंसेवी संगठनों और निज क्षेत्रों की अधिक भागीदारी।
3. प्रभावी संचार प्रणाली।

हाल के अनुभवों से भूकंप प्रभावित क्षेत्रों में शौकिया रेडियो या हैम रेडियों की उपयोगिता सिद्ध हुई है। क्योंकि भूकंप प्रभावित क्षेत्रों में सामान्य क्षेत्रों में सामान्य संचार व्यवस्था ठप हो जाती है तब यह युक्ति आपदाग्रस्त इलाकों में संचार स्थापित करने में काफी कारगार सिद्ध होती है। हैम रेडियो बेतार संचार प्रणाली पर आधारित होने के कारण आपातकालीन और आपदा संचार में बहुत उपयोगी साबित होता है। इसलिए हम रेडियो को लोकप्रिय बनाने के लिए प्रयास करने चाहिए। इसके साथ ही इंटरनेट हमें बिना समय गंवाए विश्व के विभिन्न क्षेत्रों में उपलब्ध सारी आवश्यक सूचनाएं उपलब्ध कराने में सहायक हो सकता है। इसके अलावा इंटरनेट संचार व्यवस्था में भी उपयोगी है।

अभियंताओं ने भूकंप-रोधी इमारतों के निर्माण के लिए मानक विकसित किए हैं। यह विचार पूर्णतया भूकंप-सुरक्षित भवनों से संबंधित न होकर भूमि कंपन से प्रतिरोधी गुण संपन्न भवनों से संबंधित है। ये इमारतें सुविन्यासित, पार्श्व से मजबूत, पर्याप्त दृढ़ता एवं अच्छी तन्यता क्षमता वाली होती है।

भूकंप-सुरक्षित ऐसी इमारतें बड़े भूकंपों के दौरान भी नहीं गिरती हैं।

भूकंप पूर्वानुमान


भूकंप का पूर्वानुमान करने के लिए चार घटकों की आवश्यकता पर जोर दिया गया है।

वह अवधि जिसमें यह घटना घटित होगी।
घटना का स्थान।
परिमाण परास।
घटना की सांख्यिकी संभावना।

बीसवीं सदी के उत्तरार्ध में निम्नलिखित घटना ओं के कारण भूकंप विज्ञान ने अत्यधिक प्रगति की :-
1. सन् 1960 में अमेरिकी सरकार ने 120 भूकंप केंद्रों का एक तंत्र स्थापित किया है।
2. प्लेट विवर्तनिक सिद्धांत के विकास से भूकंपों की आधारभूत गतिशीलता का खाका विकसित करने में सहायता मिली है।
3. कम्प्यूटर प्रौद्योगिकी के विकास ने जटिल आंकड़ों का विश्लेषण करना संभव बना दिया है।

यह उम्मीद की जाती रही है कि बड़ी मात्रा में उपलब्ध आंकड़ों से भूकंप की भविष्यवाणी आसान होगी, लेकिन इस संबंध में यह बात सही साबित नहीं हुई है। इतने महत्वपूर्ण विकास के बावजूद भूकंप प्रक्रिया संबंधी हमारी समझ में कई ख़ामियाँ है। यह स्थिति न स्थानों के संबंध में भी है, जहां भूकंप के बारे में पर्याप्त आंकड़े उपलब्ध हैं। हालांकि कुछ भूकंप पूर्वानुमान की घटनाओं में सफलताएँ भी प्राप्त हुई हैं।

पहली बार सन् 1971 में न्यूयार्क में आए ब्लू माउंटेन झील के भूकंप की सही भविष्यवाणी की गई थी। भूकंप के संबंध में सफलतापूर्वक भविष्यवाणी करने का दूसरा उदाहरण सन् 1975 के हाईचेंग भूकंप से संबंधित है। लेकिन पार्क फील्ड भूकंप के बारे में की गई भविष्यवाणी गलत साबित हुई थी। अभी तक भूकंप की परिशुद्ध भविष्यवाणी करने की कोई सफल वैज्ञानिक पद्धति उपलब्ध नहीं है।

भारत में भूकंप की घटनाओं का लंबा इतिहास रहा है। फिर भी इनमें से एक घटना लोगों के दिमाग में अभी तक जमीं हुई है क्योंकि उस समय इस घटना ने सारे देश को गमगीन कर दिया था। 26 जनवरी, 2001 को जब राष्ट्रपति महोदय, देश की राजधानी में गणतंत्र दिवस की 51वीं वर्षगांठ पर सलामी ले रहे थे तब वहां से दूर 23.40 अक्षांश और 70.32 देशांतर पर, गुजरात मे भारतीय समयानुसार 8 बजकर 46 मिनट और 41 सेकंड पर भूकंप का तेज झटका आया, जिसका केंद्र भूतल में 23.6 किलोमीटर गहराई पर स्थित था।कुछ विशेषज्ञ यह मानते हैं कि जटिल और अविश्वसनीय कारकों के समाहित होने के कारण समय सीमा, स्थान और परिमाण की शुद्धता के साथ भूकंप की यथार्थ भविष्यवाणी संभव नहीं है। भूपृष्ठीय प्लेटों की सीमाओं के संकरे क्षेत्र के सुस्पष्ट स्थानिक वितरण के बावजूद इन क्षेत्रों में बहुत अधिक बसावट है। हालांकि यदि सभी आवश्यक आंकड़े उपलब्ध हों तब सांख्यिकीय तकनीक का उपयोग कर भूकंप के कब और कहां आने की संभावना का अनुमान लगाया जा सकता है, लेकिन इन विधियों पर आधारित भूकंप पुर्वानुमान अस्पष्ट होता है जिसके अंतर्गत 10 वर्षों के समय परास में, भूकंप के क्षेत्र बिंदु से 200 किलोमीटर तक कहीं भी भूकंप आ सकता है। अतः यदि इस प्रकार का पूर्वानुमान सही भी साबित हो तब भी आपदा से निपटने की तैयारी के हिसाब से यह अनुपयोगी होगा।

भूकंप को रोकना न ही संभव है और न ही उसकी यथार्थ भविष्यवाणी करना, लेकिन ऐसी संरचनाओं का निर्माण तो संभव है जो भूमि की गति का प्रतिरोध करने के साथ सुरक्षित भी साबित हों। वर्तमान में अभियांत्रिकी क्षेत्र के अंतर्गत निर्माण कार्यों में भूकंप प्रतिरोधी परिकल्पनाओं का विकास हो रहा है।

भारत में भूकंप


भारत में भूकंप की घटनाओं का लंबा इतिहास रहा है। फिर भी इनमें से एक घटना लोगों के दिमाग में अभी तक जमीं हुई है क्योंकि उस समय इस घटना ने सारे देश को गमगीन कर दिया था। 26 जनवरी, 2001 को जब राष्ट्रपति महोदय, देश की राजधानी में गणतंत्र दिवस की 51वीं वर्षगांठ पर सलामी ले रहे थे तब वहां से दूर 23.40 अक्षांश और 70.32 देशांतर पर, गुजरात मे भारतीय समयानुसार 8 बजकर 46 मिनट और 41 सेकंड पर भूकंप का तेज झटका आया, जिसका केंद्र भूतल में 23.6 किलोमीटर गहराई पर स्थित था। तब इस अप्रत्याशित भूकंप ने राष्ट्र की उल्लासमय मनःस्थिति को राष्ट्रीय अवसाद में बदल दिया था।

भारतीय मौसम विभाग के अनुसार गुजरात में गणतंत्र दिवस (2001) पर आए भूकंप का रिक्टर स्केल पर परिमाण 6.9 था, लेकिन अमेरिका के भूगर्भ सर्वेक्षण विभाग ने इसका परिमाण 7.8 बताया था। भूकंप आने के बाद भी दस घंटों के भीतर कम से कम 83 पश्चवर्ती झटके और आए थे। इनमें से कुछ पश्चवर्ती झटकों का परिमाण 5 से 6 तीव्रता का दर्ज किया गया था। गुजरात का रेगिस्तानी कस्बा भुज इस भूकंप का अधिकेंद्र था। पाकिस्तान की सीमा के पास आए इस भूकंप ने हमारे देश की राजधानी नई दिल्ली की इमारतों को भी हिला दिया था। इस भूकंप को नेपाल और बांग्लादेश में भी महसूस किया गया था। कुछ विशेषज्ञों ने इस भूकंप की तुलना 60 मेगा टन क्षमता वाले हाइड्रोजन बम के विस्फोट से की थी। 15 अगस्त, 1950 को उत्तरी असम में आए 8.5 परिमाण वाले भूकंप, जिसमें करीब 11538 लोगों की जान गई थी, के बाद यह भूकंप भारत में आने वाले शक्तिशाली भूकंपों में सर्वाधिक तीव्रता वाला भूकंप था।

सन् 1897 में शिलांग के पठार में आए एक अन्य भूकंप का परिमाण 8.7 था। ये दोनों भूकंप इतने प्रबल थे कि इनसे भूमि के उभार में स्थाई तौर पर परिवर्तन हो गया और पत्थर ऊपर की ओर उठ गए थे। सन् 1819 में कच्छ के रण में आया भूकंप विश्व के बड़े अंतरप्लेट भूकंपों में से एक था, जिसके परिणामस्वरूप यहां 100 किलोमीटर से अधिक लंबी सतह में विभंग (रॅप्चर) उत्पन्न हुआ था। 30 सितंबर, 1993 को लातुर (किलारी) में आया भूकंप विश्व के स्थायी महाद्वीपीय क्षेत्र में आए प्रमुख विनाशकारी भूकंपों में से एक था। लातुर भूकंप का अधिकंद्र अभूकंपी क्षेत्र में स्थित था। इस भूकंप ने भारत के प्रायद्वीपीय क्षेत्र में भूकंप आपदा की प्रवृत्ति के बारे में पुनः विचार करने की आवश्यकता को प्रतिपादित किया है।

भारत का एक बड़ा क्षेत्र अधिकतम तीव्रता और व्यापक प्रबलता वाले भूकंपों की आशंका वाले क्षेत्रों के दायरे में आता है। भारत में भूकंप, भारतीय प्लेट और यूरेशियन प्लेट के मध्य होने वाली टकराहट के कारण उत्पन्न होते हैं। भारतीय प्लेट की उत्तरी, पूर्वी और पश्चिमी सीमा पर सर्वाधिक तीव्रता वाले भूकंप आते हैं। करीब चार करोड़ वर्ष पहले भारतीय और यूरोपियन प्लेटों की टकराहट के परिणामस्वरूप हिमालय पर्वत श्रृंखला का निर्माण हुआ था।

भारत में आए मुख्य भूकंप


दिनांक

उत्केंद्र

परिमाण

16 जून, 1819

कच्छ, गुजरात

8.0

10 जनवरी, 1869

कचार के पास असम

7.5

30 मई, 1885

सोपोर, जम्मू एवं कश्मीर

7.0

12 जून, 1897

शिलांग

8.7

08 फरवरी, 1900

कोयम्बटूर

6.0

04 अप्रैल, 1905

कांगड़ा, हिमाचल प्रदेश

8.0

08 जुलाई, 1918

श्रीमंगल, असम

7.6

02 जुलाई, 1930

दुब्री, असम

7.1

15 जनवरी, 1934

बिहार-नेपाल सीमा

8.3

26 जून, 1941

अंडमान द्वीप

8.1

23 अक्टूबर, 1943

असम

7.2

15 अगस्त, 1950

असम

8.5

21 जुलाई, 1956

अंजार, गुजरात

7.0

10 दिसंबर, 1957

कोयना, महाराष्ट्र

6.5

19 जनवरी, 1975

किन्नौर, हिमाचल प्रदेश

6.2

06 अगस्त, 1988

मणिपुर, म्यांमार सीमा

6.6

21 अगस्त, 1988

बिहार-नेपाल सीमा

6.4

20 अक्टूबर, 1991

उत्तरकाशी

6.6

30 सितंबर, 1993

लातूर, महाराष्ट्र

6.3

22 मई, 1997

जबलपुर, मध्यप्रदेश

6.0

29 मार्च, 1999

चमोली, उत्तराखंड

6.8

26 जनवरी, 2001

भुज, गुजरात

7.8

 



प्रतिवर्ष भारतीय प्लेट का पांच सेंटीमीटर की दर से नीचे की ओर गहराई में खपने का अनुमान लगाया जा रहा है। हिमालय संघटन क्षेत्र में अनेक बड़े भूकंप आए हैं। यह क्षेत्र भूकंपी गतिविधियों के क्षेत्र के रूप में चिन्हित है। इस क्षेत्र में पिछले 53 वर्षों के छोटे से इतिहास में चार बड़े भूकंप आए, जो निम्नांकित है :-

1. 1897 में असम भूकंप,
2. 1905 में कांगड़ा भूकंप,
3. 1934 में बिहार-नेपाल भूकंप, और
4. 1950 में असम भूकंप

भविष्य में इन क्षेत्रों में और बड़े भूकंप आने की संभावना से इंकार नहीं किया जा सकता है।

भारत में भूकंप के कारण आई आपदा का निरीक्षण करने का उत्तरदायित्व मुख्यतया दो सरकारी संस्थाओं भारतीय मौसम विभाग (आई.एम.डी.) और भारतीय भू वैज्ञानिक सर्वेक्षण (जी.एस.आई) विभाग पर है। आई.एम.डी. भूकंपों का पता लगाने, उनकी संभावना वाले क्षेत्रों को चिन्हित करने और देश के विभिन्न स्थानों में भूकंप की संभाव्यता का अनुमान लगाने वाली राष्ट्रीय एजेंसी है।

भारत की पहली भूकंप वेधशाला सन् 1898 में अलीपुर (कोलकाता) में स्थापित की गई थी। सन् 1899 में दो और भूकंप वेधशालाएं मुंबई और चेन्नई में स्थापित की गई थीं। चेन्नई की वेधशाला को बाद में कोडाईकनाल में प्रतिस्थापित किया गया। भूकंप वेधशालाओं के राष्ट्रीय तंत्र को बाद में भारतीय मौसम विभाग द्वारा विस्तारित और अद्यतन किया गया। वर्तमान में पूरे देश में भूकंप प्रेक्षणशालाएं स्थित हैं।

भूकंप के दौरान और उसके बाद क्या किया जाए


यह महत्वपूर्ण बात ध्यान रखना चाहिए कि भूकंप स्वयं व्यक्तियों को ना तो घायल करता है और ना ही मार सकता है। भूकंप के दौरान गिरती वस्तुएँ, ढहती दीवारें और उतरता प्लास्टर किसी व्यक्ति को घायल करने या उसकी मौत के लिए जिम्मेदार हो सकते हैं। इनके अलावा भूकंप से कुछ अन्य खतरे भी जुड़े होते हैं। जैसे गिरता मलबा और उसके फैलाव से अवरोध उत्पन्न होने से एवं विद्युत लाइनों के कारण और जलते स्टोव या गैस से आग लगने से व्यापक क्षति हो सकती है।

भूकंप के दौरान आपको निम्न बिंदुओं को याद रखना चाहिए।


भूकंप के दौरान यदि आप घर के अंदर हैं तबः


1. घबराएं नहीं।
2. घर के अंदर ही रहें।
3. समीपस्थ सुरक्षित स्थल की ओर पहुंचें। अपने को ढक लें। मजबूत फर्निचर के नीचे या दीवारों से दूर खड़े रहें।
4. जब तक कंपन होता रहे तब तक बाहर नहीं निकलें। क्योंकि संभव है कि दरवाज़े या सीढ़ियां टुट जाएं या वे क्षतिग्रस्त हो सकते हैं।
5. लिप्ट या एलिवेटर का उपयोग ना करें।
6. दरवाजों, अलमारियों और कांच की खिड़कियों, दर्पण के पास खड़े न रहें।
7. यदि आप बिस्तर पर हैं तब वहीं रहिये। अपने सिर को तकिये से ढक लें। बिस्तर को कस कर पकड़ लें।

यदि आप खुले स्थल में हैं तबः


1. वृक्षों, विद्युत लाइनों और भवनों आदि से दूर रहकर खुले स्थान की ओर जाएं।
2. होर्डिंग और लैम्पों के गिरने के कारण गलियों से गुजरना खतरनाक हो सकता है।
3. जब तक भूमि का कंपन बंद न हो जाए भूमि पर लेटे रहें।

यदि आप वाहन चला रहे हैं तबः


1. अपने वाहन को इमारतों, वृक्षों और विद्युत लाइनों से दूर खड़ा करें।
2. भूमिगत या ऊपरी पुलों से ना गुजरें और न ही वहां रूकें।
3. गाड़ी के इंजन को बंद कर दें।
4. वाहन के अंदर ही रहें, मजबूत छत वाले वाहन आपको उड़ते या गिरते पदार्थों से बचाए रखेंगे।

भूकंप के बाद


1. यदि आपका घर असुरक्षित लगे तो वहां से बाहर निकल जाएं।
2. पश्चवर्ती आघातों के लिए तैयार रहें।
3. यदि कोई घायल हुआ हो तो उसे संभाले। गंभीर घायल व्यक्तियों के लिए चिकित्सा उपलब्ध कराएं।
4. सुविधा का इंतजाम करें या उचित सुविधा का इंतजार करें।
5. गलियों में भीड़ न लगाएं क्योंकि इससे आपातकालीन सेवाएं बाधित हो सकती हैं।
6. अफवाहों पर न ध्यान दें और न उनको फैलाएं।
7. सभी विद्युत उपकरणों को बंद कर दें। यदि आप छोटी सी चिंगारी या तारों को टूटा हुआ देखें या जलने की गंध का अनुभव करें तो मुख्य फ्यूज बॉक्स से विद्युत आपूर्ति बंद कर या परिपथ को भंग कर दें।
8. आग को बुझाएं।
9. रसोई गैस प्रणालियों को बंद कर दें।
10. अपने पैरों की सुरक्षा के लिए जुते पहनें।
11. तात्कालिक सुचनाओं के लिए बैटरी चालित रेडियों सुने या दूरदर्शन देखें।
12. यह सुनिश्चित कर लें कि जल व्यर्थ न बहे, क्योंकि आग बुझाने के लिए जल की आवश्यकता पड़ सकती है।

भूकंप की तैयारी


1. यदि आप भूकंप के खतरे वाले क्षेत्र रहते हो तब पहले से बनाई गई आपात योजना आपकी सहायता कर सकती है।
2. परिवार के सभी सदस्य को यह जानकारी होनी चाहिए कि किस प्रकार से गैस, पानी और विद्युत के मुख्य तंत्रों को बंद किया जाता है।
3. परिवार में आपातकालीन स्थिति की रिहर्सल करना चाहिए।

सुरक्षा किट का संयोजन


1. लंबे समय तक खराब न होने वाली खाद्य सामग्री का भंडारण।
2. पेयजल।
3. प्राथमिक उपचार किट और दिग्दर्शिका।
4. आग बुझाने वाला उपकरण।
5. कंबल।
6. सीलबंद प्लास्टिक बैग।
7. नई बैटरी और बल्ब के साथ टॉर्च।
8. आपातकालीन दवाएं, अतिरिक्त चश्में।
9. स्क्रूड्राइवर, चिमटी, तार, चाकू, खंबे।
10. पौधों पर पानी छिड़कने वाली छोटी रबर की नली।
11. टीशू पेपर।
12. स्त्रीयोचित समान।
13. यदि भूकंप के दौरान आप अपने परिवार से अलग हो गए हो तो परिवार के पास वापिस जाने की योजना बनाएं।
14. आकस्मिक टेलीफोन नंबरों (डॉक्टर, हॉस्पिटल, पुलिस आदि) को याद रखें।
15. भारी वस्तुओं (बुककेश, दर्पण, अलमारी आदि) को दीवार से मजबूती से बांधे या सटाए रखें।
16. बिस्तर के ऊपर भारी वस्तुएं न हों।
17. भारी वस्तुएं परिवार के सबसे छोटे सदस्य की लंबाई से भी कम ऊंचाई पर रखें।

स्वयंसेवकों के लिए सुझाव


यदि स्वयंसेवक भूकंप पश्चात के परिदृश्य में राहत कार्य करना चाहे तो इन वस्तुओं को ले जाना याद रखें।

1. बैटरी चालित टार्च, रेडियो।
2. अतिरिक्त बैटरी।
3. अतिरिक्त कपड़ें।
4. मोटे तले वाले सख्त जूते।
5. अतिरिक्त दवाईयां।
6. मोमबत्ती और माचिस।
7. जलसह (वॉटरप्रूफ) पात्र में मोमबत्ती और माचिस।
8. पूर्ण प्राथमिक चिकित्सा किट।
9. शुद्ध पेयजल या क्लोरीन बुंद मिला हुआ पेयजल।
10. सूखा और डिब्बाबंद भोजन। कागज की प्लेटें, कप, प्लास्टिक के बर्तन।
11. कंबल और बिस्तर।
12. टुथब्रश, टुथपेस्ट, प्रतिजीवाणु घोल, दास्ताने आदि।
13. महत्वपूर्ण फोन नंबरों की सूची।
14. स्टोव, तंबु, ईंधन, अग्निशामक, उपकरण, बारिश से बचाव का साधन।

तैयारी के साथ आकस्मिक स्थिति का सामना अधिक कुशलता से किया जा सकता है। अधिकतर भूकंप बिना चेतावनी के आते हैं इसलिए इस तरह की अप्रत्याशित घटनाओं में पहले से बनाई गई योजना काफी महत्वपूर्ण साबित होती है।