भूमिगत जल/जल स्रोतों का सदुपयोग

Author:admin
बरसात की माप
(गांव तितवी, तालुका परोला, जिला- जलगांव, महाराष्ट्र)
उद्देश्य:
गांववालों को बारिश की वास्तविक मात्रा और एक जल वर्ष में पानी कुल उपलब्धता के बारे में जागरुक बनाना। अडगांव (यावल तालुका), तितवी (परोला तालुका) और मालशेवगा (चालीसगांव तालुका) में रेनगॉग बनाए गए और बारिश की मात्रा जानने की प्रक्रिया शुरू की गई। मिनरल वॉटर की एक बोतल से बने रेनगॉज की मदद से रोज़ाना हुई बारिश की मात्रा जानी जा सकती है (जैसा तस्वीर में दिखाया गया है)। इस बोतल को एक स्केल के साथ खुले स्थान खासकर छत पर रखा जाना है। तितवी मॉडल गांव में 17 जून 2006 को एक दिन में 31 मिलीमीटर बारिश रिकॉर्ड की गई। मालशेवगा मॉडल गांव में 17 जून 2006 को एक दिन में 18 मिलीमीटर बारिश रिकॉर्ड की गई। इसका उद्देश्य स्कूलों को बारिश की माप करने और रोज़ाना हुई बारिश का ग्राफ तैयार करने के लिए उत्साहित करना था। यह बच्चों के लिए शिक्षा के साथ-साथ गांववालों के लिए सूचना का जरिया है।

Latest

बीएमसी ने पानी कटौती की घोषणा की; प्रभावित क्षेत्रों की पूरी सूची देखें

देहरादून और हरिद्वार में पानी की सर्वाधिक आवश्यकता:नितेश कुमार झा

भारतीय को मिला संयुक्त राष्ट्र का सर्वोच्च पर्यावरण सम्मान

जल दायिनी के कंठ सूखे कैसे मिले बांधों को पानी

मुंबई की दूसरी सबसे बड़ी झील पर बीएमसी ने बनाया मास्टर प्लान

जल संरक्षण को लेकर वर्कशॉप का आयोजन

देश की जलवायु की गुणवत्ता को सुधारने में हिमालय का विशेष महत्व

प्रतापगढ़ की ‘चमरोरा नदी’ बनी श्रीराम राज नदी

मैंग्रोव वन जलवायु परिवर्तन के परिणामों से निपटने में सबसे अच्छा विकल्प

जिस गांव में एसडीएम से लेकर कमिश्नर तक का है घर वहाँ पानी ने पैदा कर दी सबसे बड़ी समस्या