बुन्देलखण्ड के जल संकट के बीच रास्ता तलाशती फ़िल्म बूंद, साल के आखिर तक रिलीज होने की उम्मीद

Author:लक्ष्मी नारायण शर्मा

फ़िल्म बूंद की टीम के सदस्य,फोटो साभार - लक्ष्मी नारायण शर्मा

बुंदेलखंड के जल संकट को लेकर उपजे संघर्षों के हालात और इनके बीच एक समाधान को खोजने की कोशिश करती ’’बूंद’’ नाम की फिल्म जैनी सरकार एवं दीपायन मण्डल के निर्देशन में बनायी जा रही है। इस फिल्म में बुन्देलखण्ड के अलग-अलग हिस्सों में जल संकट की कहानियों और उनके बीच संघर्ष से निकले रास्तों को फ़िल्म के कथानक का हिस्सा बनाया गया है। फ़िल्म का काफी हिस्सा छतरपुर जिले में शूट हुआ है।  इस फिल्म की शूटिंग पूरी हो चुकी है। फिल्म में गोविंद नामदेव सहित कई बडे सिनेमा कलाकारों और बुन्देलखण्ड के कलाकारों ने अभिनय किया है। झांसी के आरिफ शहडोली व कई अन्य कलाकार अभिनय करते नजर आएंगे। 

फिल्म में विजय राज, इंदिरा तिवारी, यशपाल शर्मा, गोविन्द नामदेव, बबीता बाग जैसे कलाकार पर्दे पर अलग-अलग भूमिकाओं में दिखाई देंगे। फिल्म में बुंदेलखंड के चर्चित सामाजिक कार्यकर्ता डॉ. संजय सिंह के किरदार को भी शामिल किया गया है और झांसी के रहने वाले अभिनेता आरिफ शहडोली ने यह भूमिका निभाई है। फ़िल्म के निर्देशक दावा करते हैं कि बूंद नाम की यह फिल्म पानी को लेकर उपजे संघर्षों और तनाव के बीच एक रास्ता भी दिखाने का प्रयास है।

फ़िल्म की शूटिंग के दृश्य फोटो - फोटो साभार - लक्ष्मी नारायण शर्मा

सामाजिक कार्यकर्ता डॉ संजय सिंह बताते हैं कि भारतीय सिनेमा के इतिहास में पहली बार कोई फ़िल्म बन रही है, जो पूरी तरह से पानी की समस्या पर केंद्रित है और जिसमें यथार्थ को चित्रित किया गया है। बुन्देलखण्ड में पानी को लेकर जल सहेलियों के प्रयासों और उनकी सफलताओं को कहानी का हिस्सा बनाया गया है। फिल्म में बुंदेलखंड के जल संकट, यहां की महिलाओं के प्रयास और इन प्रयासों से बदलाव की स्थिति का चित्रण इस फ़िल्म में किया जा रहा है। फ़िल्म के निर्देशक दीपायन मण्डल और जैनी सरकार बताते हैं कि पानी की समस्या पूरे देश में है और इस कहानी के माध्यम से हम उन सभी समस्याओं को जोड़ना चाहते हैं। साथ ही बुन्देलखण्ड के कुछ प्रयासों ने हमें प्रभावित किया, जिससे हमने यहां के कथानक को कहानी का केंद्रबिंदु बनाया। इस साल के आखिर तक यह फ़िल्म रिलीज हो जाएगी।