बुन्देलखण्ड का सूखाग्रस्त गांव बन गया पानीदार

Source:इंडिया वाटर पोर्टल

मध्यप्रदेश में बुन्देलखण्ड के क्षेत्र के  छतरपुर जिले मध्यप्रदेश में बुन्देलखण्ड के क्षेत्र के  छतरपुर जिले का  क्यूपिया गाँव कम बारिश के कारण बुरी तरह प्रभावित हुआ है।पिछले कुछ सालों से इस गाँव में पर्याप्त वर्षा नही हुई है। यहाँ सिर्फ खरीफ  की फसल ही संभव है और इसी कारण गाँव के अधिकतर लोग शहर की और रुख कर मजदूरी करने के लिये विवश है।  लेकिन अब हरीतिक फाउंडेशन की मदद से पानी को लेकर गांव की स्थिति सुधरी है। पहले जहां कुँए और पानी के अन्य स्त्रोत सूख चुक थे अब उनमें  पानी की मात्रा बढ़ी है। खरीफ की फसलें भी पहले से बेहतर हो रही है।जो लोग पहले गांव से पलायन कर शहर की और मजदूरी करने जाते थे अब वह वापिस गांव की और लौट रहे है और खेती-बाड़ी में रूचि दिखा रहे है। आखिर ये सब हुआ कैसे,कैसे गांव के लोगों ने इस कार्य में शामिल हुए, जानने के लिए देखे पूरा वीडियो। 

Latest

बीएमसी ने पानी कटौती की घोषणा की; प्रभावित क्षेत्रों की पूरी सूची देखें

देहरादून और हरिद्वार में पानी की सर्वाधिक आवश्यकता:नितेश कुमार झा

भारतीय को मिला संयुक्त राष्ट्र का सर्वोच्च पर्यावरण सम्मान

जल दायिनी के कंठ सूखे कैसे मिले बांधों को पानी

मुंबई की दूसरी सबसे बड़ी झील पर बीएमसी ने बनाया मास्टर प्लान

जल संरक्षण को लेकर वर्कशॉप का आयोजन

देश की जलवायु की गुणवत्ता को सुधारने में हिमालय का विशेष महत्व

प्रतापगढ़ की ‘चमरोरा नदी’ बनी श्रीराम राज नदी

मैंग्रोव वन जलवायु परिवर्तन के परिणामों से निपटने में सबसे अच्छा विकल्प

जिस गांव में एसडीएम से लेकर कमिश्नर तक का है घर वहाँ पानी ने पैदा कर दी सबसे बड़ी समस्या