देवास के भगीरथ

Author:हिंदी वाटर पोर्टल टीम
Source:हिंदी वाटर पोर्टल


साल 2005 तक देवास जिले के खेत-खलिहान सब सूखे पड़े थे। लोग बूंद-बूंद पानी के लिए तरस रहे थे तथा किसान अपने घरों से पलायन कर रहे थे। देवास जिले के पारंपरिक जलस्रोतों को पाट दिया गया और उन पर मकान, कल-कारखाने खुल गए। पानी का कोई स्रोत नहीं बचा तो शहर को ट्रेन से पानी मंगाना पड़ा।रोज सुबह ट्रेन से पानी आता तो देवास जिले को मिलता था। लेकिन सैकड़ों-हजारों किसानों के अदम्य साहस की वजह से देवास जिला आज खुशहाल है। उनके पानी सहेजने के पारंपरिक तरीकों को देखकर अन्य जिलों के किसानों ने भी अपने-अपने यहां पारंपरिक तालाबों के खुदाई की शुरूआत की है। देवास के जल ज्ञान और कमाल पर आधारित एक डॉक्युमेंट्री फिल्म।

 

 

देवास के भगीरथ, भाग-2


 

 

 

 

 

 

 

 

Latest

IIT-कानपुर के शोधकर्ताओं ने पानी साफ करने वाला सबसे सस्ता उपकरण बनाया

नदियों को सदानीरा बनाने के लिए संकल्पित मध्यप्रदेश

तीन दिवसीय जल-विज्ञान प्रशिक्षण कार्यक्रम का शुभारंभ

चंद्रमा खींच रहा है पृथ्वी का पानी, वैज्ञानिक ने खोजा अनोखा चंद्र स्रोत

यदि 50 डिग्री सेल्सियस तापमान हो जाए तो हालात कैलिफोर्निया जैसे होंगे

मूलभूत सुविधा भी नहीं है गांव के स्कूलों में

घातक हो सकता है ऐसे पानी पीना

20 साल पुराना पानी पीते है अमित शाह जो है एकदम शुद्व ,जाने कैसे

चीनी शोधकर्ताओं ने मंगल में ढूंढ लिया पानी

गोवा के कृषि मंत्री ने बता दिया गृहमंत्री अमित शाह कितना महंगा पानी पीते है