एक नदी बन गई गंदा नाला

Author:आईबीएन-7
Source:आईबीएन-7, 23 सितंबर 2012

कहा जाता है कि सभी बड़ी सभ्यताएं नदियों के किनारे ही पनपीं। लेकिन आज आबादी के दबाव और उपेक्षा की शिकार होती नदियां दम तोड़ने पर मजबूर हैं। गोमती नदी भी उपेक्षा और प्रदूषण की मार झेल रही है। गोमती नदी के प्रदूषण को लेकर जहां राज्य सरकार चिंतित है, वहीं इस पौराणिक नदी के उद्गम स्थल पर गंदा नाला डालने की कोशिश की जा रही है। प्रदूषण की रोकथाम के लिए जो कोशिशें की जा रही हैं वह नाकाफी है। इसका ताजा उदाहरण गोमती नदी में दम तोड़ती मछलियां हैं। लाखों लोगों की आस्था और पूजनीय गोमती नदी आज कचरा ढोने वाली नाले के अलावा और कुछ नहीं है।

Latest

मिलिए 12 हज़ार गायों को बचाने वाले गौरक्षक से

स्वस्थ गंगा: अविरल गंगा: निर्मल गंगा

पीएम मोदी का बचपन जहाँ गुजरा कभी वहां था सूखा आज बदल गई पूरी तस्वीर 

वायु प्रदूषण के सटीक आकलन और विश्लेषण के लिए नया मॉडल

गंगा का पानी प्लास्टिक और माइक्रोप्लास्टिक से प्रदूषित, अध्ययन में पता चला

शेरनी:पर्यावरण और वन्यजीव संरक्षण पर ध्यान आकर्षित करने का प्रयास

जलवायु परिवर्तन के संकट से कैसे लड़ रहे है पहाड़ के किसान

यूसर्क द्वारा “वाटर एजुकेशन लेक्चर सीरीज” के अंतर्गत “जल स्रोत प्रबंधन के सफल प्रयास पर ऑनलाइन कार्यक्रम का आयोजन

वर्ल्ड एक्वा कांग्रेस 15वाँ अंतरराष्ट्रीय सम्मेलन का आयोजन

कोविड-19 के जोखिम को बढ़ा सकता है जंगल की आग से निकला धुआं: अध्ययन