एक नदी बन गई गंदा नाला

Author:आईबीएन-7
Source:आईबीएन-7, 23 सितंबर 2012

कहा जाता है कि सभी बड़ी सभ्यताएं नदियों के किनारे ही पनपीं। लेकिन आज आबादी के दबाव और उपेक्षा की शिकार होती नदियां दम तोड़ने पर मजबूर हैं। गोमती नदी भी उपेक्षा और प्रदूषण की मार झेल रही है। गोमती नदी के प्रदूषण को लेकर जहां राज्य सरकार चिंतित है, वहीं इस पौराणिक नदी के उद्गम स्थल पर गंदा नाला डालने की कोशिश की जा रही है। प्रदूषण की रोकथाम के लिए जो कोशिशें की जा रही हैं वह नाकाफी है। इसका ताजा उदाहरण गोमती नदी में दम तोड़ती मछलियां हैं। लाखों लोगों की आस्था और पूजनीय गोमती नदी आज कचरा ढोने वाली नाले के अलावा और कुछ नहीं है।

Latest

IIT-कानपुर के शोधकर्ताओं ने पानी साफ करने वाला सबसे सस्ता उपकरण बनाया

नदियों को सदानीरा बनाने के लिए संकल्पित मध्यप्रदेश

तीन दिवसीय जल-विज्ञान प्रशिक्षण कार्यक्रम का शुभारंभ

चंद्रमा खींच रहा है पृथ्वी का पानी, वैज्ञानिक ने खोजा अनोखा चंद्र स्रोत

यदि 50 डिग्री सेल्सियस तापमान हो जाए तो हालात कैलिफोर्निया जैसे होंगे

मूलभूत सुविधा भी नहीं है गांव के स्कूलों में

घातक हो सकता है ऐसे पानी पीना

20 साल पुराना पानी पीते है अमित शाह जो है एकदम शुद्व ,जाने कैसे

चीनी शोधकर्ताओं ने मंगल में ढूंढ लिया पानी

गोवा के कृषि मंत्री ने बता दिया गृहमंत्री अमित शाह कितना महंगा पानी पीते है