एक नई पत्रिका

Author:सीएसई
उड़ीसा वाटरशेड मिशन ने जलपंढाल विकास के अनुभवों को बांटने के लिए भूमि पंचायत नामक एक पत्रिका निकालनी शुरु की है। यह पत्रिका अंग्रेजी और उड़िया, दोनों भाषाओं में निकाली जा रही है, ताकि किसानों को भी इस कार्यक्रम की प्रगति के बारे में नियमित रूप से जानकारी मिलती रहे।

जून 2000 में 25 लाख हेक्टेयर जमीन में सुधार के लिए एक 10 वर्षीय योजना का क्रियान्वयन होना शुरु हो गया है। इस पत्रिका में जल पंढाल प्रबंधन की सोच के बारे में बताया जाता है। इसके चार्ट में वर्तमान के संस्थापक ढांचों और इस मिशन की उपलब्धियों के बारे में बताया जाता है। इनकी मुख्य सुर्खियों में `जल संचयन अभियान सपथा´ मुख्य है, जिसके जरिए सभी जिलों में जल संग्रहण संबंधी संदेश फैलाए जाते हैं।

परन्तु इस पत्रिका में सामुदायिक सहभागिता संबंधी बातों का अभाव है। इसमें सरकारी उपलब्धियों का ज्यादा जिक्र किया गया है। अगर यह पत्रिका प्रशासन और समुदाय को आमने-सामने रखकर निकाली जाए तो इससे सामुदायिक नजरिए को जानने में काफी मदद मिल सकती है।

अधिक जानकारी के लिए संपर्क करें : निदेशक वॉटर मिशन कृषि विभाग उड़ीसा सरकार, भुवनेश्वर

Latest

बीएमसी ने पानी कटौती की घोषणा की; प्रभावित क्षेत्रों की पूरी सूची देखें

देहरादून और हरिद्वार में पानी की सर्वाधिक आवश्यकता:नितेश कुमार झा

भारतीय को मिला संयुक्त राष्ट्र का सर्वोच्च पर्यावरण सम्मान

जल दायिनी के कंठ सूखे कैसे मिले बांधों को पानी

मुंबई की दूसरी सबसे बड़ी झील पर बीएमसी ने बनाया मास्टर प्लान

जल संरक्षण को लेकर वर्कशॉप का आयोजन

देश की जलवायु की गुणवत्ता को सुधारने में हिमालय का विशेष महत्व

प्रतापगढ़ की ‘चमरोरा नदी’ बनी श्रीराम राज नदी

मैंग्रोव वन जलवायु परिवर्तन के परिणामों से निपटने में सबसे अच्छा विकल्प

जिस गांव में एसडीएम से लेकर कमिश्नर तक का है घर वहाँ पानी ने पैदा कर दी सबसे बड़ी समस्या