गांधी शांति प्रतिष्ठान व्याख्यानमाला 2017

Author:इंडिया वाटर पोर्टल (हिन्दी)

.गांधी शांति प्रतिष्ठान की वार्षिक व्याख्यानमाला के 23वें व्याख्यान में आप सहर्ष-सादर आमंत्रित हैं।

तिथि : 2 अक्टूबर 2017
समय : 3:15 दोपहर
स्थान : गांधी शांति प्रतिष्ठान सभागार

वक्ता : श्री हिलाल अहमद
विषय : गांधी का भारत छोड़ो आंदोलन (चंपारण में 1917 में गांधी की पहली लड़ाई और 1942 में उनकी आखिरी लड़ाई के बीच का भारत और उसमें गांधी की भूमिका)

स्वयं भी आएँ और अपने सभी मित्रों-परिजनों को भी साथ लाएँ!

श्री हिलाल अहमद


इतिहास पढ़ना और इतिहास में उतरना दो अलग-अलग चीजें हैं। श्री हिलाल अहमद दूसरी श्रेणी में आते हैं। आधुनिक भारतीय इतिहास के कई पक्ष अभी भी अंधकार में हैं क्योंकि इतिहास गढ़ने-पढ़ने और लिखने के लिये हमने जिनका अनुगमन किया, वे औपनिवेशिक ताकतें नहीं चाहती थीं कि भारतीय इतिहास को, उसके प्रवाहों को, भारतीय समाज की संरचना को वैसी रोशनी में रखा जाए जिससे उनका अपना खेल बिगड़ जाए! इसलिये स्वतंत्रता भारत के इतिहास का पुनर्पाठ जरूरी है।

हिलाल भाई ने 2007 में लंदन विश्वविद्यालय के ‘स्कूल ऑफ ओरियंटल एंड अफ्रीकन स्टडीज’ से पीएचडी की और फिर विभिन्न विदेशी-देशी संस्थानों में इतिहास के विभिन्न कालखंडों पर लेखन व अध्यापन किया। आपने दिल्ली विश्वविद्यालय में राजनीति विज्ञान पढ़ाया है तथा वेलिंग्टन के विक्टोरिया विश्वविद्यालय, ढाका विश्वविद्यालय तथा पुणे विश्वविद्यालय में विजिटिंग प्रोफेसर रह चुके हैं। वर्तमान मुस्लिम राजनीति की बारीकियों को समझने में 2014 में प्रकाशित हिलाल भाई की पुस्तक ‘मुस्लिम पॉलिटिकल डिस्कोर्स इन कोलोनियल इंडिया’ महत्त्वपूर्ण मानी जाती है। हिलाल भाई समसामयिक विषयों पर भी हिंदी व अंग्रेजी दोनों भाषाओं में लिखते हैं और जामा मस्जिद तथा कुतुब मीनार को लेकर बनी दो अच्छी डॉक्यूमेंटरी भी आपके नाम है। आप 2015-16 में राज्यसभा फेलो थे और राजनीति में मुसलमानों के प्रतिनिधित्व पर शोध कर रहे हैं।

गांधीजी के नेतृत्व में, भारत में लड़ी गई पहली लड़ाई चंपारण में हुई थी तो अंतिम लड़ाई 1942 में हुई थी। उस ‘भारत छोड़ो आंदोलन’ का यह 75वां वर्ष है। 1917 के चंपारण और 1942 के भारत के बीच का रिश्ता और उसमें गांधी को समझना दिलचस्प भी होगा और विचारोत्तेजक भी। हिलाल भाई 2 अक्तूबर 2017 को हमसे ‘गांधी का भारत छोड़ो आंदोलन’ विषय पर बात करेंगे।

(कृपया 3 बजे तक अपना स्थान ग्रहण कर लें)
निवेदक

गांधी शांति प्रतिष्ठान परिवार
फोन : 011- 23237491-93 मेल : gpf18@rediffmail.com

Latest

गंगा का पानी प्लास्टिक और माइक्रोप्लास्टिक से प्रदूषित, अध्ययन में पता चला

शेरनी:पर्यावरण और वन्यजीव संरक्षण पर ध्यान आकर्षित करने का प्रयास

जलवायु परिवर्तन के संकट से कैसे लड़ रहे है पहाड़ के किसान

यूसर्क द्वारा “वाटर एजुकेशन लेक्चर सीरीज” के अंतर्गत “जल स्रोत प्रबंधन के सफल प्रयास पर ऑनलाइन कार्यक्रम का आयोजन

वर्ल्ड एक्वा कांग्रेस 15वाँ अंतरराष्ट्रीय सम्मेलन का आयोजन

कोविड-19 के जोखिम को बढ़ा सकता है जंगल की आग से निकला धुआं: अध्ययन 

गौरैया को मिल गया नया आशियाना

गंगा की अविरलता और निर्मलता को स्थापित करने के लिये वर्चुअल मीटिंग का आयोजन 

चरखा ने "संजॉय घोष मीडिया अवार्ड्स 2020" सम्मान समारोह का किया आयोजन

पर्यावरण संरक्षण, खुशहाली और समृद्धि का प्रतीक है हरेला