ग्लोबल वार्मिंग (जलवायु परिवर्तन)

Author:मीनाक्षी अरोड़ा
Source:हिंदी वाटर पोर्टल

हमारी पृथ्वी का तापमान लगातार तेजी से बढ़ रहा है, तापमान में वृद्धि अथवा जलवायु परिवर्तन से मतलब है कि लंबे समय में मौसम में देखे जाने वाले बदलाव। इसकी कुछ वजह प्राकृतिक हैं और अधिकतर मानव के क्रिया-कलापों की वजह से हैं। जैसे अधिक औद्योगिकरण, जनसंख्या वृद्धि, पेड़ों का कटान अधिक ऊर्जा का प्रयोग, बढ़ता हुआ शहरीकरण, वाहनों का बढ़ना, भूमि के उपयोग में बदलाव, गांवों से बढ़ता हुआ पलायन। जलवायु परिवर्तन धीरे-धीरे होता है। पिछले कुछ वर्षों से जलवायु में तेजी से परिवर्तन हो रहे हैं, जिससे कभी ठंड अधिक पड़ रही है तो कभी गर्मी अधिक पड़ रही है। जिसकी वजह से धरती के पेड़-पौधे एवं जीव-जंतु इससे अनुकूलन नहीं बैठा पा रहे हैं इसी से आभास हो रहा है कि जलवायु परिवर्तन हो रहा है

जलवायु परिवर्तन पर आधारित यह ऑडियो फाइल।

 

डाउनलोड करें।

 

Latest

बीएमसी ने पानी कटौती की घोषणा की; प्रभावित क्षेत्रों की पूरी सूची देखें

देहरादून और हरिद्वार में पानी की सर्वाधिक आवश्यकता:नितेश कुमार झा

भारतीय को मिला संयुक्त राष्ट्र का सर्वोच्च पर्यावरण सम्मान

जल दायिनी के कंठ सूखे कैसे मिले बांधों को पानी

मुंबई की दूसरी सबसे बड़ी झील पर बीएमसी ने बनाया मास्टर प्लान

जल संरक्षण को लेकर वर्कशॉप का आयोजन

देश की जलवायु की गुणवत्ता को सुधारने में हिमालय का विशेष महत्व

प्रतापगढ़ की ‘चमरोरा नदी’ बनी श्रीराम राज नदी

मैंग्रोव वन जलवायु परिवर्तन के परिणामों से निपटने में सबसे अच्छा विकल्प

जिस गांव में एसडीएम से लेकर कमिश्नर तक का है घर वहाँ पानी ने पैदा कर दी सबसे बड़ी समस्या