गंगा : गोमुख से गंगासागर तक

Author:यू-ट्यूब
Source:यू-ट्यूब

स्वर्ग से उतरकर राजा भगीरथ के पुरखों का उद्धार करने की गंगा-कथा सिर्फ मिथ नहीं है। वह अब तक हमें तारती आई है। गोमुख से गंगा सागर तक गंगा हमारे देश की लगभग आधी आबादी को पालती है। विश्व की कोई भी नदी ऐसी नहीं, जो इतनी बड़ी जनसंख्या की पालनहार हो। गंगा के प्रति हिंदुओं की आस्था एक विषय है, लेकिन इसका अर्थ यह नहीं कि गंगा पर सिर्फ हिंदुओं का ही एकाधिकार हो। वह हम सभी भारतवंशियों के लिए प्रेरक भी है और प्रेरणा भी। शहनाई के शहंशाह उस्ताद बिस्मिलाह खां का वह प्रसंग अनेक लोगों को विदित होगा कि जब उन्हें अमेरिका में बसने का प्रस्ताव दिया गया, तो उस्ताद का जवाब था कि यहां गंगा को ले आओ, तो मैं भी आ जाऊंगा। गंगा के बगैर इस देश का समूचा वैभव व्यर्थ है। अबुल फजल ने आईने अकबरी में लिखा है कि बादशाह अकबर अपने घर या यात्रा में सदैव गंगा जल ही पीता था। गंगा गोमुख से लेकर गंगा सागर तक भारतीय संस्कृति, कृषि तथा लोगों के पाप धोती आ रही है।

Latest

जनमैत्री संगठन ने की हलद्वानी की रामगाड़ नदी अध्ययन यात्रा 

सीतापुर और हरदोई के 36 गांव मिलाकर हो रहा है ‘नैमिषारण्य तीर्थ विकास परिषद’ गठन  

कुकरेल नदी संरक्षण अभियान : नाले को फिर नदी बनाने की जिद

खारा पानी पीने को मजबूर ग्रामीण

कैसे प्रदूषण से किसी देश की अर्थव्यवस्था हो सकती है तबाह

भारत में क्यों मनाया जाता है राष्ट्रीय प्रदूषण नियंत्रण दिवस

वायु प्रदूषण कम करने के लिए बिहार बना रहा है नई कार्ययोजना

3.6 अरब लोगों पर पानी का संकट,भारत भी प्रभावित: विश्व मौसम विज्ञान संगठन

अब गंगा में प्रदूषण फैलाना पड़ेगा महंगा!

बीएमसी ने पानी कटौती की घोषणा की; प्रभावित क्षेत्रों की पूरी सूची देखें