गंगाजल में बैक्टीरिया

Author:स्टार न्यूज
Source:स्टार न्यूज, 17 जून 2011


गंगाजल में बैक्टीरिया के आंकड़ों का असर समझने के लिए यह जानना ज़रूरी है कि एमपीएन कॉलीफॉर्म आखिर क्या है। दरअसल मोस्ट प्रोबेबल नंबर मेथर्ड वो तरीका है जिससे पानी में मौजूद बैक्टीरिया का पता लगाया जाता है। कॉलीफॉर्म बैक्टीरिया इस बात का संकेत होते हैं कि पानी में बैक्टीरिया की बस्तियां पनप रही है। आईएस 10500-1991 के पैमाने के मुताबिक प्रति 100 एमएल में इसकी अधिकतम सीमा सिर्फ दस होनी चाहिए। जबकि खुद उत्तराखंड सरकार के प्रदूषण बोर्ड के मुताबिक नहाने के लिए ये सीमा 500 और खेती के लिए 5500 है।