गोपाल दास की माँ ने प्रशासन पर लगाए गम्भीर आरोप

Author:इंडिया वाटर पोर्टल (हिन्दी)
Source:इंडिया वाटर पोर्टल (हिन्दी)


सन्त गोपालदास की माँ शकुन्तला देवी (फोटो साभार: हिन्दुस्तान)सन्त गोपालदास की माँ शकुन्तला देवी (फोटो साभार: हिन्दुस्तान)देहरादून स्थित दून हॉस्पिटल से 06 दिसम्बर से गायब हुए सन्त गोपाल दास का अभी तक कोई पता नहीं चल पाया है। उनके लापता होने से आहत उनकी माँ ने बुधवार को अन्न त्यागकर ऋषिकेश स्थित त्रिवेणीघाट पर धरना शुरू कर दिया है। गुरूवार को पत्रकारों से बात करते हुए सन्त गोपाल दास की माँ शकुन्तला देवी ने प्रशासन पर गम्भीर आरोप लगाया। उन्होंने कहा कि प्रशासन ने ही उनके बेटे को गायब किया है।

गौरतलब है कि गंगा की रक्षा के लिये 24 जून से सन्त गोपाल दास अनशन पर हैं। स्वामी ज्ञानस्वरुप सानंद उर्फ प्रोफेसर जीडी अग्रवाल के निधन के बाद उन्होंने उनकी राह पर चलते हुए मातृ सदन में ही रह कर आमरण अनशन करने का संकल्प लिया था। इसके बाद स्वास्थ्य कारणों का हवाला देते हुए पहले उन्हें प्रशासन ने एम्स ऋषिकेश फिर पीजीआई चंडीगढ़ और दिल्ली एम्स जैसे अस्पतालों के कई बार चक्कर कटवाए। अन्त में उन्हें दून हॉस्पिटल में दाखिल कराया गया था जहाँ से वे पिछले आठ दिनों से लापता हैं। इस सम्बन्ध में देहरादून के कोतवाली थाने में रिपोर्ट दर्ज कराई गई है।

सन्त गोपालदास के लापता होने के आठ दिनों के बाद भी पुलिस उनका पता नहीं लगा पाई है। हालांकि, पुलिस ने उनका पता लगाने के लिये हरियाणा के विभिन्न हिस्सों में दबिश दी थी लेकिन उनका पता नहीं चल सका है। उनकी माँ शकुन्तला देवी ने आरोप लगाया कि सरकार की शह पर जिला प्रशासन उनके बेटे की हत्या करना चाहता है। उन्होंने चेतावनी दी है कि अगर जल्द ही उनके बेटे का पता नहीं चला तो वो आमरण अनशन करेंगी।

Latest

गंगा का पानी प्लास्टिक और माइक्रोप्लास्टिक से प्रदूषित, अध्ययन में पता चला

शेरनी:पर्यावरण और वन्यजीव संरक्षण पर ध्यान आकर्षित करने का प्रयास

जलवायु परिवर्तन के संकट से कैसे लड़ रहे है पहाड़ के किसान

यूसर्क द्वारा “वाटर एजुकेशन लेक्चर सीरीज” के अंतर्गत “जल स्रोत प्रबंधन के सफल प्रयास पर ऑनलाइन कार्यक्रम का आयोजन

वर्ल्ड एक्वा कांग्रेस 15वाँ अंतरराष्ट्रीय सम्मेलन का आयोजन

कोविड-19 के जोखिम को बढ़ा सकता है जंगल की आग से निकला धुआं: अध्ययन 

गौरैया को मिल गया नया आशियाना

गंगा की अविरलता और निर्मलता को स्थापित करने के लिये वर्चुअल मीटिंग का आयोजन 

चरखा ने "संजॉय घोष मीडिया अवार्ड्स 2020" सम्मान समारोह का किया आयोजन

पर्यावरण संरक्षण, खुशहाली और समृद्धि का प्रतीक है हरेला