गोपाल दास की माँ ने तोड़ा अनशन

Author:इंडिया वाटर पोर्टल (हिन्दी)
Source:इंडिया वाटर पोर्टल (हिन्दी)


सन्त गोपालदास की माँ शकुन्तला देवी (फोटो साभार: हिन्दुस्तान)सन्त गोपालदास की माँ शकुन्तला देवी (फोटो साभार: हिन्दुस्तान) दून हॉस्पिटल से 06 दिसम्बर से गायब चल रहे गंगा भक्त सन्त गोपाल दास का पता अभी तक नहीं लगाया जा सका है। बेटे के अस्पताल से अचानक गायब हो जाने के प्रतिरोध में 12 दिसम्बर से उनकी माँ शकुन्तला देवी ऋषिकेश के त्रिवेणी घाट पर अनशन पर थीं। परन्तु शुक्रवार को हरिद्वार के सब डिवीजनल मजिस्ट्रेट, प्रेमलाल द्वारा सन्त गोपाल दास को जल्द ही ढूँढ लिये जाने के आश्वासन पर उन्होंने अपना अनशन खत्म कर दिया।

गौरतलब है कि शकुन्तला देवी ने हरिद्वार में 14 दिसम्बर को आयोजित किये गए एक संवाददाता सम्मलेन के दौरान यह आरोप लगाया था कि प्रशासन की सह पर ही उनके बेटे को गायब किया गया है। गोपाल दास को दिल्ली एम्स से लाकर 5 दिसम्बर को दून हॉस्पिटल में भर्ती कराया गया था। हॉस्पिटल में भर्ती होने के कुछ ही घंटों के बाद से वे वहाँ से गायब हो गए। हालांकि, हॉस्पिटल प्रबन्धन का कहना है कि सीसीटीवी फुटेज में सन्त गोपाल दास को स्वयं अस्पताल से बाहर जाते हुए देखा गया है।

चूँकि, सन्त गोपाल दास के परिजनों द्वारा दिल्ली में भी उनके गायब होने के सम्बन्ध में मुकदमा दर्ज कराया गया है इसीलिये दिल्ली पुलिस की एक टीम शुक्रवार को छानबीन के लिये दून हॉस्पिटल पहुँची थी। इस बात की पुष्टि हॉस्पिटल के चिकित्सा अधीक्षक डॉ. केके टम्टा ने भी की। उन्होंने बताया कि पुलिस टीम ने उनसे गोपाल दास के गायब होने के दिन का सीसीटीवी फुटेज माँगा था जिसकी अनुमति उन्होंने दे दी थी।

मालूम हो कि सन्त गोपाल दास गंगा की स्वच्छता और नदी के न्यूनतम पर्यावरणीय प्रवाह को बरकरार रखने सहित अन्य माँगों को लेकर 24 जून से अनशन पर थे। स्वामी ज्ञानस्वरूप सानन्द के निधन के बाद उन्होंने उनकी माँगों के समर्थन की भी घोषणा की थी।

Latest

मिलिए 12 हज़ार गायों को बचाने वाले गौरक्षक से

स्वस्थ गंगा: अविरल गंगा: निर्मल गंगा

पीएम मोदी का बचपन जहाँ गुजरा कभी वहां था सूखा आज बदल गई पूरी तस्वीर 

वायु प्रदूषण के सटीक आकलन और विश्लेषण के लिए नया मॉडल

गंगा का पानी प्लास्टिक और माइक्रोप्लास्टिक से प्रदूषित, अध्ययन में पता चला

शेरनी:पर्यावरण और वन्यजीव संरक्षण पर ध्यान आकर्षित करने का प्रयास

जलवायु परिवर्तन के संकट से कैसे लड़ रहे है पहाड़ के किसान

यूसर्क द्वारा “वाटर एजुकेशन लेक्चर सीरीज” के अंतर्गत “जल स्रोत प्रबंधन के सफल प्रयास पर ऑनलाइन कार्यक्रम का आयोजन

वर्ल्ड एक्वा कांग्रेस 15वाँ अंतरराष्ट्रीय सम्मेलन का आयोजन

कोविड-19 के जोखिम को बढ़ा सकता है जंगल की आग से निकला धुआं: अध्ययन