घड़ियालों के बचाव के लिए राव की मुहिम

Author:आईबीएन-7
Source:आईबीएन-7


चंबल, मध्य प्रदेश। अवैध शिकार और बढ़ती मानव गतिविधियों की वजह से कई जीव-जंतुओं का जीवन खतरे में पड़ गया है। गंगा डाल्फिन्स और घड़ियालों के लिए मशहूर मध्यप्रदेश की चंबल घाटी में भी कुछ ऐसा ही हो रहा है। अवैध उत्खनन के चलते घड़ियाल बेमौत मर रहे हैं। ऐसे में सिटीज़न ज़र्नलिस्ट आर.जे. राव ने घड़ियालों को बचाने की मुहिम छेड़ी है।

चंबल नदी का किनारा घड़ियालों की मनपसंद जगह है लेकिन कोई नहीं जानता कि पानी में मस्त ये घड़ियाल कब बेमौत मार दिए जाएं। सिटीजन जर्नलिस्ट राव पिछले 26 साल से इन घड़ियालों के संरक्षण के काम में लगे हैं।

धरती के सबसे पुराने प्राणियों में से एक घड़ियाल डायनासोर से भी पहले इस धरती पर आए। मछलियों की आबादी बहुत तेज़ी से बढ़ती है और घड़ियाल इन्हें खाकर जैविक संतुलन बनाये रखने में मदद करते हैं। इन्हें ख

Latest

मिलिए 12 हज़ार गायों को बचाने वाले गौरक्षक से

स्वस्थ गंगा: अविरल गंगा: निर्मल गंगा

पीएम मोदी का बचपन जहाँ गुजरा कभी वहां था सूखा आज बदल गई पूरी तस्वीर 

वायु प्रदूषण के सटीक आकलन और विश्लेषण के लिए नया मॉडल

गंगा का पानी प्लास्टिक और माइक्रोप्लास्टिक से प्रदूषित, अध्ययन में पता चला

शेरनी:पर्यावरण और वन्यजीव संरक्षण पर ध्यान आकर्षित करने का प्रयास

जलवायु परिवर्तन के संकट से कैसे लड़ रहे है पहाड़ के किसान

यूसर्क द्वारा “वाटर एजुकेशन लेक्चर सीरीज” के अंतर्गत “जल स्रोत प्रबंधन के सफल प्रयास पर ऑनलाइन कार्यक्रम का आयोजन

वर्ल्ड एक्वा कांग्रेस 15वाँ अंतरराष्ट्रीय सम्मेलन का आयोजन

कोविड-19 के जोखिम को बढ़ा सकता है जंगल की आग से निकला धुआं: अध्ययन