घर में शौचालय से बचते हैं 50 हजार प्रति वर्ष

Author:राष्ट्रीय सहारा
Source:राष्ट्रीय सहारा, नई दिल्ली (एनएसबी), 19 सितम्बर 2017

खुले में शौच करने वाले परिवार यदि अपने घर में शौचालय का निर्माण करते हैं तो वह 50 हजार रुपये प्रति वर्ष की बचत कर सकते हैं। यह आंकड़ा यूनिसेफ द्वारा किये गये सर्वे में सामने आया है। सर्वे के अनुसार स्वच्छता अभियान शुरू होने के बाद 430 प्रतिशत लोगों ने अपने घरों में शौचालय निर्माण पर खर्च किया है।

शौचालयस्वच्छता ही सेवा है अभियान के तहत स्वच्छता मंत्रालय द्वारा आज राजधानी में आयोजित राष्ट्रीय मीडिया परामर्श में स्वच्छता को लेकर किये गये सर्वे के आंकड़े पेश किये गये। मंत्रालय के सचिव परमेश्वरन अय्यर की अध्यक्षता में हुए इस कार्यक्रम में यूनिसेफ के वरिष्ठ अधिकारी निकोलस ओसबर्ट ने सर्वे के आंकड़े पेश करते हुए बताया कि भारत के 12 राज्यों के दस हजार परिवारों में यह सर्वे किया गया, सर्वे का आश्चर्यजनक परिणाम यह था कि यदि स्वच्छता अभियान पर एक रुपया खर्च किया जाता है तो एक परिवार को चार रुपये 30 पैसे की बचत बीमारियाँ न होने के कारण होती है।

सर्वे के अनुसार खुले में शौच करने से मुक्त गाँवों एवं कस्बों में साफ-सफाई के कारण बीमारियाँ कम होती हैं जिससे दवा, चिकित्सा पर खर्च कम होता है तथा मृत्यु दर भी कम होती है उन्होंने बताया कि एक परिवार जो घर में शौचालय का निर्माण करता है तो औसतन एक परिवार को प्रत्येक वर्ष 50 हजार रुपये की बचत होती है। उन्होंने बताया कि सर्वे के अनुसार शौचालयों पर किये गये खर्च की लागत का लाभ 430 प्रतिशत है। स्वच्छता मंत्रालय के सचिव परमेश्वरन अय्यर ने स्वच्छ भारत मिशन की प्रगति का ब्यौरा देते हुए बताया कि अभी तक 5 राज्यों में लगभग 200 जिलों और देश भर में लगभग 2.4 लाख गाँवों ने खुद को खुले में शौच से मुक्त घोषित किया कर दिया है। उन्होंने बताया कि गाँवों में ठोस और तरल अपशिष्ट प्रबंधन के आधार पर 1.5 लाख गाँव स्वच्छता सूचकांक में बेहतर स्थान पर पहुँच गये हैं।

Latest

देहरादून और हरिद्वार में पानी की सर्वाधिक आवश्यकता:नितेश कुमार झा

भारतीय को मिला संयुक्त राष्ट्र का सर्वोच्च पर्यावरण सम्मान

जल दायिनी के कंठ सूखे कैसे मिले बांधों को पानी

मुंबई की दूसरी सबसे बड़ी झील पर बीएमसी ने बनाया मास्टर प्लान

जल संरक्षण को लेकर वर्कशॉप का आयोजन

देश की जलवायु की गुणवत्ता को सुधारने में हिमालय का विशेष महत्व

प्रतापगढ़ की ‘चमरोरा नदी’ बनी श्रीराम राज नदी

मैंग्रोव वन जलवायु परिवर्तन के परिणामों से निपटने में सबसे अच्छा विकल्प

जिस गांव में एसडीएम से लेकर कमिश्नर तक का है घर वहाँ पानी ने पैदा कर दी सबसे बड़ी समस्या

गढ़मुक्तेश्वर के गंगाघाट: जहां पहले पॉलीथिन तैरती थीं, वहां अब डॉलफिन तैरती हैं