हिंडन नदी कर रही तबीयत खराब

Author:दीपांकर जैन
Source:नेशनल दुनिया, 12 मार्च, 2016

नदी के किनारे वृक्षारोपण कर प्रदूषण को नियंत्रित करने की कोशिश की जा रही है। वहीं प्रदेशों के लिये निर्माण क्षेत्रों को दिशा-निर्देश जारी किये गए हैं। अगर इसके विपरीत वे कार्य करते हैं तो उनके खिलाफ कार्रवाई की जाएगी। - बीबी अवस्थी, क्षेत्रिय अधिकारी, प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड नोएडा। गाजियाबाद से आ रही हिंडन नदी नोएडावासियों की तबियत खराब कर रही है। नदी में बड़ी मात्रा में गन्दगी के चलते नोएडा में जल और वायु प्रदूषण तेजी से बढ़ रहा है। नदी में डिजॉल्व ऑक्सीजन शून्य है। ऐसे में नदी में बीओडी (बायोलॉजिकल ऑक्सीजन डिमांड) की मात्रा बढ़ रही है। नतीजन हिंडन में जीवों का पनप पाना मुश्किल है। यही हाल हिंडन नदी के किनारे बसे गाँव व सेक्टरों का भी है।

इसकी प्रमुख वजह गाजियाबाद शहर से हिंडन नदी में डाले जाने वाले प्रदूषित पानी व गन्दगी है। इसके इतर जहाँ नोएडा में हिंडन नदी समाप्त होती है, वहाँ डीओ की मात्रा 2.10 के आसपास है, जबकि पानी के प्राणियों के लिये यह मात्रा करीब 4 होनी चाहिए।

शहर में हिंडन नदी का प्रदूषण स्तर दो स्थानों से नापा जाता है। पहला, जहाँ से नदी गाजियाबाद से नोएडा में प्रवेश करती है। प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड के सर्वे के अनुसार छिजारसी में पिछले साल जनवरी में प्राणदायनी डिजाल्व ऑक्सीजन की मात्रा शून्य थी। यही हाल फरवरी-2015 में भी रहा, जबकि दूसरा एंड प्वाइंट (तिलवाड़ा) यहाँ गत वर्ष फरवरी-2015 में 1.80 रही। जबकि नदी में रहने वाले प्राणियों के लिये डीओ को मानक चार के आसपास होना चाहिए। आँकड़ों पर गौर करें तो 20 फरवरी-2015 में छिजारसी में 1.80 व तिलवाड़ा में 2.10 रिकॉर्ड किया गया। वहीं, पाँच फरवरी-2016 में छिजारसी में डीओ 1.40 व तिलवाड़ा में 2.10 रिकॉर्ड की गई। 19 फरवरी 2016 में डीओ की मात्रा 1.20 व 2.60 रही। मसलन प्रवेश के दौरान डीओ की मात्रा का शून्य से 1.40 तक रहा, जबकि लो स्ट्रीम में यह मात्रा 2.10 से लेकर 2.60 तक रही। ऐसे में लो स्ट्रीम में मात्रा बढ़ी।

आवासीय सेक्टर में भी बढ़ा प्रदूषण


बढ़ती गर्मी, भूजलस्तर का गिरना, कंस्ट्रक्शन व वाहनों बढ़ते भार के चलते शहर में शुद्ध वातावरण कोसों दूर हो चुका है। विभागीय स्तर से शहर में सेक्टर-6 से औद्योगिक व सेक्टर-01 से आवासीय सेक्टरों का प्रदूषण का स्तर चेक किया जाता है।

वायु प्रदूषण (आवासीय)

साल

मानक

प्रदूषण (आरएसपीएम)

जनवरी 2015

100

136

जनवरी 2016

100

156

फरवरी 2015

100

136

फरवरी 2016

100

159

वायु प्रदूषण (औद्योगिक)

साल

मानक

प्रदूषण (आरएसपीएम)

जनवरी 2015

100

147

जनवरी 2016

100

236

फरवरी 2015

100

148

फरवरी 2016

100

198

 


आँकड़ों में हिंडन नदी का प्रदूषण साल-फरवरी 2015

06 फरवरी

20 फरवरी

तत्व लो स्ट्रीम

अप-स्ट्रीम (छिजारसी)

लो स्ट्रीम (तिलवाड़ा)

अप स्ट्रीम

डीओ

0.0

1.80

1.80

2.10

बीओडी

22.0

18.0

18.0

15.0

साल फरवरी 2016

    

05 फरवरी

 

19 फरवरी

तत्व

अप-स्ट्रीम (छिजारसी)

लो स्ट्रीम (तिलवाड़ा)

अप स्ट्रीम

लो स्ट्रीम

डीओ

1.40

2.10

1.20

2.60

बीओडी

18.0

13.5

16.5

12.00

 



Latest

कुकरेल नदी संरक्षण अभियान : नाले को फिर नदी बनाने की जिद

खारा पानी पीने को मजबूर ग्रामीण

कैसे प्रदूषण से किसी देश की अर्थव्यवस्था हो सकती है तबाह

भारत में क्यों मनाया जाता है राष्ट्रीय प्रदूषण नियंत्रण दिवस

वायु प्रदूषण कम करने के लिए बिहार बना रहा है नई कार्ययोजना

3.6 अरब लोगों पर पानी का संकट,भारत भी प्रभावित: विश्व मौसम विज्ञान संगठन

अब गंगा में प्रदूषण फैलाना पड़ेगा महंगा!

बीएमसी ने पानी कटौती की घोषणा की; प्रभावित क्षेत्रों की पूरी सूची देखें

देहरादून और हरिद्वार में पानी की सर्वाधिक आवश्यकता:नितेश कुमार झा

भारतीय को मिला संयुक्त राष्ट्र का सर्वोच्च पर्यावरण सम्मान