हल्की जमीन में प्लास्टिक खड़ी मल्च का धान में जल रुकाव एवं उत्पादन पर प्रभाव

Author:यू.डी. गोडखिंडी, एस.के. त्रिपाठी
यह प्रयोग में विभिन्न उपचारों जैसे कि नियंत्रित (T.1) खेत में 15 से.मी. गहराई तक वर्टिकल मल्च (T.2) खेत में बंद की चोटी से 15 से.मी. भूमि की गहराई तक (T.3) तक प्लास्टिक मल्च द्वारा खेत में बंद को पूर्ण रूप से ढकते हुए एवं भूमि में 15 से.मी. गहराई तक (T.4) रखते हुए जल स्रोत विकास प्रशिक्षण केन्द्र, रुड़की विश्वविद्यालय के प्रदर्शन फार्म पर खरीफ वर्ष 1995 में किया गया। सर्वाधिक पैदावार 69.17 कुंतल/हेक्टर T.3 में 4628 मि.मी. दिन संचित पोन्डिंग द्वारा पायी गई; प्रति बाल 120 भरे हुए अनाज के दाने, प्रति मीटर 287 तथा 30.13 ग्राम प्रति 1000 दाने पाये गये। इसके विपरीत, T.1 में जांच वजन द्वारा 2015 मिमी. दिन की संचित पोन्डिंग से 59.53 कुंतल/हेक्टर; प्रति बाल 110 दाने; 236 बाल प्रति मीटर तथा 31.13 ग्राम प्रति 1000 दाने पाये गये।

इस रिसर्च पेपर को पूरा पढ़ने के लिए अटैचमेंट देखें



Latest

सीतापुर और हरदोई के 36 गांव मिलाकर हो रहा है ‘नैमिषारण्य तीर्थ विकास परिषद’ गठन  

कुकरेल नदी संरक्षण अभियान : नाले को फिर नदी बनाने की जिद

खारा पानी पीने को मजबूर ग्रामीण

कैसे प्रदूषण से किसी देश की अर्थव्यवस्था हो सकती है तबाह

भारत में क्यों मनाया जाता है राष्ट्रीय प्रदूषण नियंत्रण दिवस

वायु प्रदूषण कम करने के लिए बिहार बना रहा है नई कार्ययोजना

3.6 अरब लोगों पर पानी का संकट,भारत भी प्रभावित: विश्व मौसम विज्ञान संगठन

अब गंगा में प्रदूषण फैलाना पड़ेगा महंगा!

बीएमसी ने पानी कटौती की घोषणा की; प्रभावित क्षेत्रों की पूरी सूची देखें

देहरादून और हरिद्वार में पानी की सर्वाधिक आवश्यकता:नितेश कुमार झा