आईएफएस डीएस मीणा की इस नई तकनीक से ना जंगल में लगेगी आग,पानी भी नही होगा दूषित,,मिलेगा सबको रोजगार

Author:ध्रुव मिश्रा

हमारे देश में आज कई जगह लीसा पुरानी पद्धति से निकाला जाता है, जिससे जंगलो में आग,पानी और मिट्टी दूषित हो जाती है। लेकिन अब उत्तखण्ड के नरेंद्रनगर डिवीजन ने इस पुरानी पद्धति को बोरवेल तकनीक से बदल दिया है। नरेंद्रनगर डिवीजन के डीएफओ धर्म सिंह मीणा ने अपने कार्य क्षेत्र में लीसा निकाले की नई तकनीक पर जोर देने  का काम शुरू कर दिया है । 

 

डीएफओ धर्म सिंह मीणा ने अब अपने कार्यक्षेत्र में बोरवेल तकनीक से  लीसा निकलने का काम कर रहे है । जिससे ना ही पानी को दूषित हो रहा है और ना ही पेडों में आग लग रही है।,यानी इस नई तकनीक से प्रकृति को किसी तरह का नुकसान नही हो  रहा है साथ ही ये आने वाले समय में युवाओं को रोजगार के अवसर दे सकता है। 

 

क्या है लीसा?आखिर क्यों हमें लीसा  निकालने के लिए पुरानी पद्धति को छोड़कर नए बोरवेल तकनीक का इस्तेमाल करना पड़ा, इस बारे में जानने के लिये इस वीडियो को देखें जिसमें आईएफएस धर्म सिंह मीणा ने  लीशा के बारे में विस्तार से जानकारी दी है।

Latest

IIT-कानपुर के शोधकर्ताओं ने पानी साफ करने वाला सबसे सस्ता उपकरण बनाया

नदियों को सदानीरा बनाने के लिए संकल्पित मध्यप्रदेश

तीन दिवसीय जल-विज्ञान प्रशिक्षण कार्यक्रम का शुभारंभ

चंद्रमा खींच रहा है पृथ्वी का पानी, वैज्ञानिक ने खोजा अनोखा चंद्र स्रोत

यदि 50 डिग्री सेल्सियस तापमान हो जाए तो हालात कैलिफोर्निया जैसे होंगे

मूलभूत सुविधा भी नहीं है गांव के स्कूलों में

घातक हो सकता है ऐसे पानी पीना

20 साल पुराना पानी पीते है अमित शाह जो है एकदम शुद्व ,जाने कैसे

चीनी शोधकर्ताओं ने मंगल में ढूंढ लिया पानी

गोवा के कृषि मंत्री ने बता दिया गृहमंत्री अमित शाह कितना महंगा पानी पीते है