आईएफएस डीएस मीणा की इस नई तकनीक से ना जंगल में लगेगी आग,पानी भी नही होगा दूषित,,मिलेगा सबको रोजगार

Author:ध्रुव मिश्रा

हमारे देश में आज कई जगह लीसा पुरानी पद्धति से निकाला जाता है, जिससे जंगलो में आग,पानी और मिट्टी दूषित हो जाती है। लेकिन अब उत्तखण्ड के नरेंद्रनगर डिवीजन ने इस पुरानी पद्धति को बोरवेल तकनीक से बदल दिया है। नरेंद्रनगर डिवीजन के डीएफओ धर्म सिंह मीणा ने अपने कार्य क्षेत्र में लीसा निकाले की नई तकनीक पर जोर देने  का काम शुरू कर दिया है । 

 

डीएफओ धर्म सिंह मीणा ने अब अपने कार्यक्षेत्र में बोरवेल तकनीक से  लीसा निकलने का काम कर रहे है । जिससे ना ही पानी को दूषित हो रहा है और ना ही पेडों में आग लग रही है।,यानी इस नई तकनीक से प्रकृति को किसी तरह का नुकसान नही हो  रहा है साथ ही ये आने वाले समय में युवाओं को रोजगार के अवसर दे सकता है। 

 

क्या है लीसा?आखिर क्यों हमें लीसा  निकालने के लिए पुरानी पद्धति को छोड़कर नए बोरवेल तकनीक का इस्तेमाल करना पड़ा, इस बारे में जानने के लिये इस वीडियो को देखें जिसमें आईएफएस धर्म सिंह मीणा ने  लीशा के बारे में विस्तार से जानकारी दी है।