जेठ उज्यारी तीज दिन

Author:घाघ और भड्डरी

जेठ उज्यारी तीज दिन, आद्रा रिख बरसंत।
जोसी भाखै भड्डरी दुर्भिछ अवसि करंत।।


भावार्थ- यदि ज्येष्ठ शुक्ल पक्ष तीज के दिन आर्द्रा नक्षत्र बरस जाय तो भड्डरी ज्योतिषी कहते हैं कि अकाल अवश्य पड़ेगा।