जलवायु परिवर्तन के संकट से कैसे लड़ रहे है पहाड़ के किसान

Author:देव चौहान
Source:इंडिया हिंदी वाटर पोर्टल

पिछले करीब एक दशक से बदलते मौसम ने खेती को पूरी तरह से बदल दिया है जलवायु में आये परिवर्तन ने कुछ परंपरागत खेती पर भी असर डाला है पहाड़ो में किसान आमतौर ओर पूरी तरह बरसात के पानी पर निर्भर रहते है और अगर समय से बारिश न हो तो बोया हुआ बीज भी खेत से वापिस नही आता अब आप अंदाजा लगा सकते है कि जिस फसल के लिए किसान 6 महीने का लंबा इंतजार  करता है और 1 से 2 महीना लगातार खेतों  में काम करता है अंत मे वो फसल पूरी तरह भगवान भरोसे होती है

यानी किसान जुआ अपनी खेती के साथ हर 6 महीने में एक बार खेलता है जिसमे उसे ज्यादातर हार का ही सामना करना पड़ता है ,पानी के सरंक्षण को लेकर अगर कोई व्यक्तिगत रूप से प्रयास भी करता है तो पहाड़ो पर वो सफल नही हो पाते और अगर सरकार ग्रामीण को हौज बनाकर देती भी तो उसे भरने के लिए प्राकृतिक जल स्रोत पर्याप्त नही है ऐसे में किसान पूरी  तरह बरसात के पानी पर निर्भर रहता है

जनजातीय क्षेत्र जौनसार के किसान स्वराज चौहान कहते है कि मात्र एक गेंहू की फसल ही ऐसी है जिसे सबसे कम पानी की जरूरत होती है बाकी इसके अलावा हर फसल को समय समय पर पानी की जरूरत होती है और क्या कुछ कहा किसान स्वराज चौहान ने सुनिए उनके साथ हुई बातचीत का पूरा साक्षात्कार

Latest

मिलिए 12 हज़ार गायों को बचाने वाले गौरक्षक से

स्वस्थ गंगा: अविरल गंगा: निर्मल गंगा

पीएम मोदी का बचपन जहाँ गुजरा कभी वहां था सूखा आज बदल गई पूरी तस्वीर 

वायु प्रदूषण के सटीक आकलन और विश्लेषण के लिए नया मॉडल

गंगा का पानी प्लास्टिक और माइक्रोप्लास्टिक से प्रदूषित, अध्ययन में पता चला

शेरनी:पर्यावरण और वन्यजीव संरक्षण पर ध्यान आकर्षित करने का प्रयास

जलवायु परिवर्तन के संकट से कैसे लड़ रहे है पहाड़ के किसान

यूसर्क द्वारा “वाटर एजुकेशन लेक्चर सीरीज” के अंतर्गत “जल स्रोत प्रबंधन के सफल प्रयास पर ऑनलाइन कार्यक्रम का आयोजन

वर्ल्ड एक्वा कांग्रेस 15वाँ अंतरराष्ट्रीय सम्मेलन का आयोजन

कोविड-19 के जोखिम को बढ़ा सकता है जंगल की आग से निकला धुआं: अध्ययन