कैंडल लाइट सेमीनार में ऊर्जा बचाने पर हुई चर्चा

Author:रमन त्यागी
Source:नीर फाउंडेशन, मेरठ
रखा एक घण्टा स्विच ऑफ हमारा नारा रहा - स्विच ऑफ लाइट, स्विच ऑन लाइफ। नीर फाउंडेशन द्वारा वर्ल्ड वाइड फंड के सहयोग से मेरठ व आस-पास के जनपदों में अर्थ आवर मनाने के लिए अभियान चलाया गया। इस अभियान में मेरठ, बागपत, हरिद्वार, ऋषिकेश पंचशीलनगर में अभियान चला। संस्था द्वारा इस अभियान हेतु सभी निजी व सरकारी स्कूलों में पत्र भिजवाए गए। इन पत्रों के माध्यम से बच्चों से अपील की गई थी कि वे अर्थ आवर को एक घण्टे बिजली बंद करें और देश के हीरो बनें। इसके अतिरिक्त बिजली विभाग से 31 मार्च को एक दिवसीय ऊर्जा बचत कार्यशाला आयोजित करने का भी निवेदन किया गया था। जिलाधिकारी, बिजली विभाग, नगर निगम व जिला पंचायत को एक पत्र के माध्यम से आग्रह किया गया था कि वे अपने विभाग में आदेश जारी कर दें कि अर्थ आवर के दौरान लाइट बंद रखें। जागरूकता के लिए शहर में कुछ होर्डिंग्स व पोस्टर भी लगवाए गए। संस्था द्वारा इस दौरान 31 मार्च को एक कैंडल लाइट सेमीनार आयोजित की गई।

रात 8.30 से 9.30 बजे तक चौधरी चरण सिंह पार्क (मेरठ कॉलेज के सामने) में एक ऊर्जा बचत के लिए कैंडल लाइट सेमीनार आयोजित की गई, जसमें कि सभी शहरवासियों से अपील की गई कि वे ऊर्जा की बचत करें। इस दौरान यहां की सभी लाइट्स को बंद कर दिया गया और यह परिचर्चा मोमबत्ती व तेल के दीयों के उजाले में ही आयोजित की गई।

संस्था के निदेशक रमन त्यागी ने परिचर्चा में बताया कि सम्पूर्ण विश्व में लगातार बढ़ती जा रही ऊर्जा की जरूरत को पूरा करने हेतु सभी देश अपने-अपने संसाधनों का धड़ल्ले से उपयोग कर रहे हैं। लेकिन फिर भी ऊर्जा की जरूरत पूरी ही नहीं हो पा रही है। इसके विपरीत प्राकृतिक संसाधनों की कमी जरूर हो रही है। ऐसे कठिन समय में पूरी दुनिया चिंतित है कि किस प्रकार से ऊर्जा के क्षेत्र में हमारा भविष्य सुरक्षित रह सकता है। अर्थ आवर ऊर्जा की बचत करने का एक सांकेतिक माध्यम है। इसमें एक घण्टे (रात 8.30-9.30) बजे तक के लिए बिजली बंद करने का रिवाज तय किया गया है। इस दिन विश्व के सभी देशों में एक घण्टे बिजली बंद करने के लिए जागरूकता अभियान महीनों पहले से प्रारम्भ कर दिये जाते हैं। भारत में इस अभियान का अगुवा वर्ल्ड वाइड फंड अर्थात डब्ल्यूडब्ल्यूएफ है। इस दौरान सभी को अपने घर की लाइटों को बंद रखना चाहिए, जो जरूरी हों वही लाइट जलाएं या बिजली से चलने वाले उपकरण उपयोग में लाएं। यही नहीं इस क्रम को अपने दैनिक जीवन में भी उतारने की कोशिश करें और ऊर्जा बचत कर पृथ्वी के सच्चे हितैषी बनें।

कार्यक्रम के मुख्य अतिथि मेरठ के जिलाधिकारी विकास गोठलवाल ने कार्यक्रम का शुभारम्भ पार्क की लाइटस अपने हाथों से बंद करके किया तथा ऊर्जा की बचत करने पर जोर दिया। मेरठ के सांसद राजेन्द्र अग्रवाल ने अपने संबोधन में बताया कि पर्यावरण संरक्षण हेतु ऊर्जा की बचत करनी ही होगी। मेरठ के एडीएम सिटी नीरज शुक्ला ने अर्थ आवर का महत्व समझाया और ऊर्जा की बचत करने पर बल दिया। इस वर्ष के अभियान को सफल बनाने के लिए देश की सेलेब्रेटी भी आगे आए। इसके लिए सचिन तेंदुलकर ने भी अपना संदेश दिया और उन्होंने इस अभियान को प्रोत्साहित भी किया।

इस कार्यक्रम में मुख्य अतिथि जिलाधिकारी विकास गोठलवाल, जिला पंचायत अध्यक्ष मनिन्दरपाल सिंह, सांसद राजेन्द्र अग्रवाल, एडीएम सिटी नीरज शुक्ला, सिंचाई विभाग के अजयपाल सिंह, पर्यावरण विभाग के देवेन्द्र सिंह, राजकुमार सांगवान अन्य अधिकारी, सामाजिक कार्यकर्ता व जागरूक नागरिक शामिल हुए। सभी ने पर्यावरण बचाओ इस परिचर्चा में अपने विचार व्यक्त किए तथा ईश्वर चंद गंभीर ने पर्यावरण पर दो कविताएं भी प्रस्तुत कीं।