कैसे होगी यमुना साफ

Author:यू-ट्यूब
Source:यू-ट्यूब

यमुना के पानी को निर्मल बनाने के नाम पर बार-बार करोड़ों रुपए पानी में बहाने के बावजूद उसका प्रदूषण कम होने की बजाए बढ़ता ही जा रहा है। यमुना नदी को साफ करने के लिए पिछले 14 सालों में दिल्ली सरकार भी कोई ठोस योजना नहीं बना पाई है। आलम यह है कि दिल्ली जल बोर्ड के 20 सीवेज ट्रीटमेंट प्लांटों की क्षमता तो 544 एमजीडी की है , लेकिन इन प्लांटों में 350 एमजीडी ही गंदा पानी साफ हो पा रहा है। जल बोर्ड के अधिकारी भी इस तथ्य को स्वीकार करते हैं। दूसरी ओर पानी के क्षेत्र में काम करने वाली गैर सरकारी संस्थाओं ने इन सीवेज ट्रीटमेंट प्लांटों की क्वॉलिटी पर सवाल खड़े किए हैं। राजधानी में 20 सीवेज ट्रीटमेंट प्लांटों में से 16 प्लांट किसी ना किसी रूप में प्राइवेट कंपनियां चला रही हैं और सबसे ज्यादा हालत इन्हीं प्लांटों की खराब है। उद्योगों से निकलने वाला प्रदूषित पानी नालों के जरिए सीधे यमुना में छोड़ा जा रहा है।

Latest

वायु प्रदूषण कम करने के लिए बिहार बना रहा है नई कार्ययोजना

3.6 अरब लोगों पर पानी का संकट,भारत भी प्रभावित: विश्व मौसम विज्ञान संगठन

अब गंगा में प्रदूषण फैलाना पड़ेगा महंगा!

बीएमसी ने पानी कटौती की घोषणा की; प्रभावित क्षेत्रों की पूरी सूची देखें

देहरादून और हरिद्वार में पानी की सर्वाधिक आवश्यकता:नितेश कुमार झा

भारतीय को मिला संयुक्त राष्ट्र का सर्वोच्च पर्यावरण सम्मान

जल दायिनी के कंठ सूखे कैसे मिले बांधों को पानी

मुंबई की दूसरी सबसे बड़ी झील पर बीएमसी ने बनाया मास्टर प्लान

जल संरक्षण को लेकर वर्कशॉप का आयोजन

देश की जलवायु की गुणवत्ता को सुधारने में हिमालय का विशेष महत्व