कहै घाघ घाघिन से रोय

Author:घाघ और भड्डरी

कहै घाघ घाघिन से रोय,
बहु संतान दरिद्री होय।


भावार्थ- घाघ घाघिनी से रोकर कहते हैं कि अधिक संतान वाला दरिद्र होता है क्योंकि वह अपनी संतानों पर उतना ध्यान नहीं दे पाता।