कहने को तीन नहरें पर तीनों सूखी

Author:आईबीएन-7
Source:आईबीएन-7, 13 जनवरी 2012

उत्तर प्रदेश के गाज़ीपुर जिले में जहां किसान बेहद परेशान हैं। कहने को तो इलाके में तीन नहरें हैं, लेकिन फसलों को पानी नसीब नहीं होता। गाज़ीपुर की तीनों नहरें सूखी पड़ी है और प्रशासन किसानों की परेशानी जानते हुए भी कोई कदम नहीं उठा रहा है। लेकिन यहां किसानों के लिए सिटीजन जर्नलिस्ट जगदीश सिंह वरदान साबित हुए। दरअसल शारदा नदी से गाजीपुर जिले के सैदपुर, जखनिया और सदात ब्लॉक में नहरों के माध्यम से सिंचाई की व्यवस्था है। लेकिन ये व्यवस्था सिर्फ नाम की है क्योंकि साल के 3 महीनों को छोड़ बाकी समय ये नहर सूखी रहती हैं और इससे प्रभावित होती हैं करीब तीन सौ ग्राम सभाएं। पानी के लिये किसान मजबूर होते हैं पंप सेटों के इस्तेमाल के लिये।

यहां के हजारों बीघा फसलों की सिंचाई अब पंपों से ही हो रही हैं इसलिये कुछ साल पहले तक जहां 20 फीट की गहराई में भी पानी मिल जाता था। वहीं अब 60 फीट की गहराई में भी पानी मुश्किल से मिल रहा है। गिरते जल स्तर का असर फसलों पर भी पड़ रहा है। जलस्तर के नीचे गिरने से सिंचाई का काम तो प्रभावित हुआ ही, इलाके के कुएं सूख गए ऐसे में पीने के पानी की समस्या दिनों दिन बढ़ते जा रही है। सीजे जगदीश ने किसानों की हक को लेकर कई आंदोलन किए। अफसरों से मुलाकातें की। लेकिन बात आश्वासन से आगे कभी नहीं बढ़ी। सिंचाई विभाग का कहना है कि पानी मुहैया कराने की सारी जिम्मेदारी सिर्फ सिंचाई विभाग की नहीं है इस मामले में जिला प्रशासन भी बराबर का जिम्मेदार है। जिसके बाद जिला प्रशासन से मुलाकात की गई। साथ ही सांसद राधे मोहन सिंह के सामने भी इस बात को रखी गई।

सांसद के इस आश्वासन से थोड़ी उम्मीद बंधी है कि मामला संसद में उठेगा तो जरूर कुछ होगा। जब तक समस्या का हल नहीं हो जाता, ये अपनी मुहिम जारी रखेंगे।

Latest

भारत में 2030 तक 70 फीसदी कॉमर्शियल गाड़ियां होंगी इलेक्ट्रिक

राष्ट्रीय स्वाभिमान आंदोलन की कार्यकारिणी में पास हुआ प्रकृति केंद्रित विकास का प्रस्ताव

भारतीय नदियों का भाग्य संकट में

गंगा बेसिन में बाढ़ की घटनाओं में वृद्धि

"रिसेंट एडवांसेज इन वॉटर क्वॉलिटी एनालिसिस"पर ऑनलाइन आयोजन

स्वच्छता सर्वेक्षण में उत्तराखण्ड और इंदौर इस बार भी अव्वल कैसे

यूसर्क देहरादून ने चमन लाल महाविद्यालय में एक दिवसीय ऑनलाइन राष्ट्रीय सेमिनार का आयोजन किया

प्राकृतिक नाले को बचाने का अनोखा प्रयास

यमुना हमारे सीवेज से ही दिख रही है, नाले बंद कर देंगे तो वो नजर नहीं आएगी

29 लाख कृषकों को मिलेगा सरयू नहर परियोजना का लाभ