कोविड-19 और तनाव मुक्ति के लिये नोलेज सत्र

ECHO India और NIMHANs के साथ कोविड-19 (COVID-19) पर एक ऑनलाइन ज्ञान सत्र का आयोजन किया जा रहा है। यह इंटरैक्शन एनजीओ और उनके कर्मचारियों पर केंद्रित है और उम्मीद करते हैं कि इससे लॉकडाउन के दौरान उत्पन्न हुए तनाव से कर्मचारियों को बेहतर तरीके से निपटने में मदद मिलेगी।

ऐसी आशा है कि उन्हें उस समुदाय के प्रश्नों का बेहतर जवाब देने में मदद मिलेगी, जिसके साथ वे काम करते हैं।

सत्र के दौरान चर्चा किए जाने वाले अंतिम विषयों और प्रश्नों को अभी अंतिम रूप नहीं दिया गया है, लेकिन सत्र में केंद्रीय विषय के रूप में मानसिक स्वास्थ्य होगा।

 

सत्र किस बारे में है?

कोविड-19 वायरस के इस संक्रमणकाल  के कठिन और अनिश्चित समय में, गलत सूचना और अपर्याप्त संसाधन ग्रामीण समुदायों को सबसे ज्यादा मार रहे हैं। संक्रमण से बचाव के लिये किये गए लॉकडाउन के कारण अपने आप में कई कठिनाइयाँ पैदा हो रही हैं जैसे कि आजीविका हानि और मानसिक तनाव।  

COVID महामारी और लॉकडाउन के दौरान मानसिक स्वास्थ्य बनाए रखने पर ECHO India के साथ NIMHANS बैंगलोर के कुछ विशेषज्ञ ज्ञान साझा करने के लिए, इस ऑनलाइन ज्ञान सत्र का आयोजन कर रहे हैं।  

कौन कर सकता है भागीदारी?

कोई भी NGO जो COVID-19 के संक्रमण काल में उत्पन्न स्थितियों या लॉकडाउन से उभरे मुद्दों से निपटने का प्रयास कर रहा है।   

आपको कैसे लाभ होगा?

इस सहभागिता से विभिन्न गैर-सरकारी संगठनों और उनके कर्मचारियों को अपनी चिंताओं से बेहतर तरीके से निपटने और उनके मानसिक स्वास्थ्य का ख्याल रखने में मदद करनी चाहिए। यह एनजीओ कर्मचारियों को विशेषज्ञ डॉक्टरों की एक टीम द्वारा उनके प्रश्नों / शंकाओं को स्पष्ट करके ग्रामीण समुदायों का बेहतर साथ देने में सक्षम बनाएगा।

दिनांक: 6 अप्रैल, 2020 सोमवार

समय: दोपहर 1-2 बजे

भाषा: अंग्रेजी / हिंदी

विषयः मानसिक स्वास्थ्य के मुद्दे #COVID 19: एक स्नैपशॉट 1-2 बजे

यहां करें रजिस्ट्रेशन: जो प्रतिभागी सत्र में भाग लेना चाहें वे नीचे दिये गए लिंक पर क्लिक करें और अपना पंजीकररण करें। पंजीकरण करने वाले प्रतिभागियों को सत्र में शामिल होने के लिये लिंक भेजा जाएगा।

https://echo.zoom.us/meeting/register/vp0qceihqzguOkSDWcTPup8d1OlKS4UmDw


 

 

 

Latest

गंगा का पानी प्लास्टिक और माइक्रोप्लास्टिक से प्रदूषित, अध्ययन में पता चला

शेरनी:पर्यावरण और वन्यजीव संरक्षण पर ध्यान आकर्षित करने का प्रयास

जलवायु परिवर्तन के संकट से कैसे लड़ रहे है पहाड़ के किसान

यूसर्क द्वारा “वाटर एजुकेशन लेक्चर सीरीज” के अंतर्गत “जल स्रोत प्रबंधन के सफल प्रयास पर ऑनलाइन कार्यक्रम का आयोजन

वर्ल्ड एक्वा कांग्रेस 15वाँ अंतरराष्ट्रीय सम्मेलन का आयोजन

कोविड-19 के जोखिम को बढ़ा सकता है जंगल की आग से निकला धुआं: अध्ययन 

गौरैया को मिल गया नया आशियाना

गंगा की अविरलता और निर्मलता को स्थापित करने के लिये वर्चुअल मीटिंग का आयोजन 

चरखा ने "संजॉय घोष मीडिया अवार्ड्स 2020" सम्मान समारोह का किया आयोजन

पर्यावरण संरक्षण, खुशहाली और समृद्धि का प्रतीक है हरेला