कर्नाटक में भूजल गुणवत्ता का परिदृश्य - जिलेवार रिपोर्ट (2004)

Author:Karnataka Rural Water Supply and Sanitation Agency (KRWSSA)
Source:Karnataka Rural Water Supply and Sanitation Agency (KRWSSA)

ग्रामीणों को सुरक्षित पेयजल उपलब्ध कराने की प्रतिबद्धता के मद्देनजर, विश्व बैंक की सहायता और कर्नाटक के ग्रामीण जल आपूर्ति और स्वच्छता एजेंसी ने एक कार्यक्रम 'जलनिर्मल योजना' चलाया। इस योजना के ही एक भाग के रूप में कर्नाटक राज्य-सरकार ने राज्य के भूजल गुणवत्ता पर भौगोलिक सूचना प्रणाली (जीआईएस) के आधार पर एक नोलेज बेस विकसित करने का निर्णय लिया।

इस निर्णय के परिणामस्वरूप राज्य में ग्रामीण क्षेत्रों में मुहैया कराए जाने वाले भूजल की गुणवत्ता का न केवल व्यापक अध्ययन किया गया है बल्कि मानचित्रण भी किया जा रहा है, 27 जिलों और 175 तालुकों का जीआईएस डेटाबेस और प्रोफाइल बनाया गया है। इसके लिए आरडीईडी द्वारा ग्रामीण क्षेत्रों में इक्ट्ठा किए गए बोरवेलों के नमूनों के रासायनिक विश्लेषण डाटा का इस्तेमाल किया गया है। कुल 1,54,491 भूजल के नमूने लिए गए, और 14 पैरामीटर का विश्लेषण किया गया। राज्य में कुल 56,682 गांवों में से 33,647 गांवों को कवर किया गया है।

यहां जिले वार प्रोफ़ाइल फ़ाइलें हैं. प्रत्येक जिला प्रोफ़ाइल में विभिन्न मापदंडों में जिला और तहसील स्तर की जानकारी मौजूद है।

प्रत्येक जिले का प्रोफ़ाइल अलग से डाउनलोड किया जा सकता है

Latest

भारत में क्यों मनाया जाता है राष्ट्रीय प्रदूषण नियंत्रण दिवस

वायु प्रदूषण कम करने के लिए बिहार बना रहा है नई कार्ययोजना

3.6 अरब लोगों पर पानी का संकट,भारत भी प्रभावित: विश्व मौसम विज्ञान संगठन

अब गंगा में प्रदूषण फैलाना पड़ेगा महंगा!

बीएमसी ने पानी कटौती की घोषणा की; प्रभावित क्षेत्रों की पूरी सूची देखें

देहरादून और हरिद्वार में पानी की सर्वाधिक आवश्यकता:नितेश कुमार झा

भारतीय को मिला संयुक्त राष्ट्र का सर्वोच्च पर्यावरण सम्मान

जल दायिनी के कंठ सूखे कैसे मिले बांधों को पानी

मुंबई की दूसरी सबसे बड़ी झील पर बीएमसी ने बनाया मास्टर प्लान

जल संरक्षण को लेकर वर्कशॉप का आयोजन