मैली हो गई पतित पावनी

Author:आज तक
Source:आज तक, 06 जून 2014

<
मोक्षदायिनी, पतित पावनी गंगा अब मैली हो गई है। हिमालय से निकल कर मैदानी भागों में आते-आते अमृत रूपी गंगा का पानी घरों से निकलने वाले कचरे तथा कारखानों का जहरीले गंदे जल से अपवित्र हो जाती है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा गंगा सफाई का बीड़ा उठाए जाने पर आधारित आज तक का यह एपिसोड

Latest

जनमैत्री संगठन ने की हलद्वानी की रामगाड़ नदी अध्ययन यात्रा 

सीतापुर और हरदोई के 36 गांव मिलाकर हो रहा है ‘नैमिषारण्य तीर्थ विकास परिषद’ गठन  

कुकरेल नदी संरक्षण अभियान : नाले को फिर नदी बनाने की जिद

खारा पानी पीने को मजबूर ग्रामीण

कैसे प्रदूषण से किसी देश की अर्थव्यवस्था हो सकती है तबाह

भारत में क्यों मनाया जाता है राष्ट्रीय प्रदूषण नियंत्रण दिवस

वायु प्रदूषण कम करने के लिए बिहार बना रहा है नई कार्ययोजना

3.6 अरब लोगों पर पानी का संकट,भारत भी प्रभावित: विश्व मौसम विज्ञान संगठन

अब गंगा में प्रदूषण फैलाना पड़ेगा महंगा!

बीएमसी ने पानी कटौती की घोषणा की; प्रभावित क्षेत्रों की पूरी सूची देखें