मंच से खदेड़े गए अफसर

Author:दैनिक भास्कर टीम
Source:दैनिक भास्कर, 08 मई 2011

रामपुर बुशहर। सतलुज नदी पर प्रस्तावित 775 मेगावाट क्षमता की लूहरी परियोजना के लिए मंडी के परलोग गांव में आयोजित जन सुनवाई शनिवार को जन विरोध के चलते रद्द करनी पड़ी। जन सुनवाई में करीब 500 स्थानीय लोग परियोजना के विरोध में नारे लगाते हुए पहुंचे। महिलाओं ने अधिकारियों को मंच से उतरवा कर विरोध किया। इसके चलते, तीन घंटे की जद्दोजहद के बाद अधिकारियों को आखिर सुनवाई रद्द करनी ही पड़ी। हिमाचल प्रदेश प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड की ओर से आयोजित परियोजना के लिए यह तीसरी सुनवाई थी।

पिछले दिनों में लगातार दो जन सुनवाइयां शिमला के नीरथ और कुल्लू के खेग्सू गांवों में की गई थी। इस दौरान भी अधिकारियों को जनता के रोष का सामना करना पड़ा था। सतलुज जल विद्युत निगम की ओर से प्रस्तावित इस परियोजना के तहत सतलुज नदी पर लूहरी के नजदीक 86 मीटर ऊंचा बांध बनाकर नदी का जल 9 मीटर व्यास की दो सुरंगों के माध्यम से 40 किलोमीटर दूर पावर हाउस में गिराया जाना है।

पर्यावरण एवं ग्रामीण विकास संस्था से जुड़े कई नेताओं का मानना है कि जब एक ओर सभी परियोजनाओं के लिए यह आकलन की प्रक्रिया जारी है तो लूहरी जैसी अकेली परियोजनाओं के लिए जन सुनवाई का कोई तर्क नहीं है। इस अवसर पर सतलुज बचाओ अभियान के समन्वयक अतुल शर्मा और देव बड़योगी संघर्ष समिति के अध्यक्ष गंगा राम ने इस बारे में अपने विचार रखे।

 

 

सतलुज का वजूद नहीं मिटने देंगे


हिमालय नीति अभियान समिति के समन्वयक गुमान सिंह ने कहा है कि सतलुज का वजूद मिटने नहीं देंगे इसके लिए हिमालय नीति सतलुज बचाओ अभियान चलाएंगे। उन्होंने कहा कि परियोजना को लेकर इन दिनों जन सुनवाई चल रही है। सुनवाई के लिए न तो जनता को सूचना दी गई और न ही पूर्ण पर्यावरण प्रभाव अंकेक्षण रिपोर्ट उपलब्ध की गई। ग्राम पंचायत प्रधानों को ही केवल पर्यावरण प्रभाव अंकेक्षण की एडजेक्टिव समरी दी गई, इसमें भी अपूर्ण जानकारी थी।

 

 

 

 

सुरंगों में बहेगी नदी


परियोजना में सतलुज का 38,138 किमी. हिस्सा सुरंग में और 6.8 किमी. हिस्सा जलाशय में होगा जबकि 40 किमी. नदी तट सूख जाएगा। गुमान सिंह ने बताया कि लूहरी जल विद्युत परियोजना की सुनवाई स्थगित की जाएं और सुनवाई के लिए जनता को पूरी जानकारी दी जाएं। शुक्ला कमेटी को अमल में लाई जाएं। भूमि अधिग्रहण की कार्रवाई को रोका जाएं, तमाम मंजूरी के बाद ही कार्य शुरू किया जाएं।

 

 

 

 

ग्राम सभा की मंजूरी जरूरी


वन अधिकार अधिनियम, 2006 के चलते किसी भी प्रोजेक्ट के लिए वन भूमि के हस्तांतरण से पहले ग्राम सभाओं की अनुमति की आवश्यकता होती है। तुंदल गांव के संजय ने कहा, इस कानून को हमारे इलाके में लागू करने से पहले सरकार का लूहरी परियोजना के बारे में सोचना उसकी जन विरोधी नीतियों का प्रमाण है। लोगों ने इतनी भारी संख्या में उपस्थित हो कर अपना रोष प्रकट किया।

 

 

Latest

वायु प्रदूषण कम करने के लिए बिहार बना रहा है नई कार्ययोजना

3.6 अरब लोगों पर पानी का संकट,भारत भी प्रभावित: विश्व मौसम विज्ञान संगठन

अब गंगा में प्रदूषण फैलाना पड़ेगा महंगा!

बीएमसी ने पानी कटौती की घोषणा की; प्रभावित क्षेत्रों की पूरी सूची देखें

देहरादून और हरिद्वार में पानी की सर्वाधिक आवश्यकता:नितेश कुमार झा

भारतीय को मिला संयुक्त राष्ट्र का सर्वोच्च पर्यावरण सम्मान

जल दायिनी के कंठ सूखे कैसे मिले बांधों को पानी

मुंबई की दूसरी सबसे बड़ी झील पर बीएमसी ने बनाया मास्टर प्लान

जल संरक्षण को लेकर वर्कशॉप का आयोजन

देश की जलवायु की गुणवत्ता को सुधारने में हिमालय का विशेष महत्व