मृदा एवं जल संरक्षण विधियां

Author:admin

भूक्षरण समस्याभूक्षरण समस्यामृदा एवं जल संरक्षण विधियों द्वारा वर्षा की बूंदों को भूमि की सतह पर रोककर मृदा के विखराव को रोका जा सकता हैं। इसमें सतही अपवाह को रोककर भूमि में निस्तारण भी शामिल है। मृदा संरक्षण की व्यवहारिक विधियों को कृष्य एवं अकृष्य दोनों प्रकार की भूमि पर अपनाना चाहिए। इन विधियों द्वारा उपजाऊ ऊपरी मृदा परत के संरक्षण के साथ-साथ भूमि में जल का संरक्षण भी हो जाता है। ये विधियॉं वानस्पतिक या सस्य विज्ञानात्मक तथा अभियांत्रिक या यांत्रिक भी होती है, जिनका विवरण निम्नवत्‌ है –

कृष्य भूमि पर वानस्पतिक विधियॉं -

• समोच्च-रेखीय कृषि कार्य अर्थात सभी कृषि कार्य जैसे जुताई, बुवाई, निराई-गुड़ाई आदि को समोच्च रेखाओं पर या भूमि के ढाल के विपरीत दिशा में करना (विशेषकर अधिक वर्षा वाले क्षेत्रों में)।

• एक खेत में विभिन्न फसलों की क्रमशः पट्टियां बनाकर खेती करना (स्ट्रिप क्रोपिंग)। इसमें भूक्षरणकारी फसलों (मक्का, कपास, आलू आदि) तथा भूक्षरणरोधी फसलों (सोयाबीन, बाजरा, मूंग आदि) को क्रमशः पट्टियों में बोया जाता है। फसलों को भूमि के ढाल के विपरीत दिशा में पट्टी बनाकर भी बोया जाता है, जिसे क्षेत्र-पट्टीदार खेती कहते हैं। कहीं पर समोच्च रेखीय पट्टियों की चौड़ाई समान रखी जाती है, जिसे बफर-पट्टीदार खेती कहते हैं तथा इसमें पट्टियों के बीच के स्थान पर घास या फलीदार फसलें बोयी जाती है।



समोच्च रेखीय पट्टीदार खेतीसमोच्च रेखीय पट्टीदार खेतीसमोच्च रेखीय पट्टीदार खेती

समोच्च रेखीय पट्टीदार खेतीसमोच्च रेखीय पट्टीदार खेती

पलवार जुताई हेतु खेत में पूर्व फसलों के अवच्चेषों पर जुताई की जाती है ताकि भूक्षरण रोका जा सके। पूर्व फसलों के अवशेष खेत में पलवार का काम करते हैं जिससे भूमि संरक्षण के साथ नमी संरक्षण भी हो जाता है।

कृष्य भूमि पर यांत्रिक विधियॉं-

• छः प्रतिशत तक ढालू भूमि पर जहॉं भूमि की जल-शोषण क्षमता अधिक हो तथा 600 मिमी प्रतिवर्ष से कम वर्षा वाले क्षेत्रों में समोच्च-बन्ध बनाकर खेती की जानी चाहिए ताकि एक समान ढाल की लम्बाई कम की जा सके तथा दो बन्धों के बीच की भूमि पर खेती की जा सके। इस प्रकार भूमि एवं नमी संरक्षण साथ-साथ हो जाते हैं।

• 600 मिमी0/वर्ष से अधिक वर्षा वाले क्षेत्रों में बन्धों को लम्बाई के अनुरूप थोड़ा ढालू बनाया जाता है ताकि अतिरिक्त अपवाह सुरक्षित रूप से बाहर निकाला जा सके।

• अधिक ढालू भूमि के ढाल की लम्बाई को कम करने की संरचना वेदिका कहलाती है तॉकि भूक्षरण न हो सके। उच्च पर्वतीय क्षेत्रों में ढाल की लम्बाई के साथ ढाल की तीव्रता भी कम की जाती है, ऐसी संरचना को बैंच वेदिका कहते हैं। बैंच वेदिका के चार भाग होते है- चबूतरा, राइजर, निकास नाली तथ कंधा-बन्ध। चबूतरे पर खेती की जाती है जिसका ढाल अन्दर की ओर (अधिक वर्षा वाले क्षेत्रों में) या बाहर की ओर (कम वर्षा वाले क्षेत्रों में)।

बैंच वेदिकाबैंच वेदिका