मत्स्य विविधता और औद्योगिक प्रदूषण

Author:admin
परिकल्पना:
नदी में कागज मिल से गिरने वाले उत्सर्जन की दिशा में मछलियों की संख्या धारा की विपरीत दिशा के मुकाबले कम होती है।
कारण:
मिलों या अन्य औद्योगिक इकाइयों से निकलने वाले उत्सर्जन जलचर जीवों के जीवन पर कई तरह से असर डालते हैं। कुल मिलाकर इसका असर यह होगा कि बहुत कम प्रजातियां बदली हुई परिस्थितियों के मुताबिक खुद को ढ़ाल सकेंगी।
कार्यप्रणाली:
मिल से उत्सर्जन की दिशा और दिशा के विपरीत 5 स्थानों को तुलना करने के लिए चुनना चाहिए। नदी की दिशा में हर जगह मछलियां पकड़ी जाती हैं। किसी खास जगह पकड़ी जाने वाली मछलियों की जानकारी के लिए मछुआरों से संपर्क करना चाहिए। मछलियों के आंकड़ों उनके स्थानीय नाम और डिजिटल फोटोग्राफी के आधार पर जुटाने चाहिए। ज़रूरी हो तो मछुआरों से नमूने के तौर पर मछलियां ख़रीदी भी जा सकती हैं। इससे अलग-अगल जगह पर मछलियों की विभिन्न प्रजातियों की संख्या की जांच की जा सकेगी।
अगला कदम:
मिल से निकलने वाले उत्सर्जन के साथ-साथ नदी के पानी का रासायनिक विश्लेषण किया जा सकता है।

Latest

गंगा का पानी प्लास्टिक और माइक्रोप्लास्टिक से प्रदूषित, अध्ययन में पता चला

शेरनी:पर्यावरण और वन्यजीव संरक्षण पर ध्यान आकर्षित करने का प्रयास

जलवायु परिवर्तन के संकट से कैसे लड़ रहे है पहाड़ के किसान

यूसर्क द्वारा “वाटर एजुकेशन लेक्चर सीरीज” के अंतर्गत “जल स्रोत प्रबंधन के सफल प्रयास पर ऑनलाइन कार्यक्रम का आयोजन

वर्ल्ड एक्वा कांग्रेस 15वाँ अंतरराष्ट्रीय सम्मेलन का आयोजन

कोविड-19 के जोखिम को बढ़ा सकता है जंगल की आग से निकला धुआं: अध्ययन 

गौरैया को मिल गया नया आशियाना

गंगा की अविरलता और निर्मलता को स्थापित करने के लिये वर्चुअल मीटिंग का आयोजन 

चरखा ने "संजॉय घोष मीडिया अवार्ड्स 2020" सम्मान समारोह का किया आयोजन

पर्यावरण संरक्षण, खुशहाली और समृद्धि का प्रतीक है हरेला