मिलिए 12 हज़ार गायों को बचाने वाले गौरक्षक से

Author:अंकित तिवारी
Source:रिपोर्ट-अंकित तिवारी

पिछले कुछ सालों से गौ क्षक अपने काम को लेकर विवादों में रहे है जो काम उन्हें करना चाहिए उसे छोड़ मोब लिंचिंग में व्यस्त हो गए है। जिसके कारण सामज में उनकी एक नकारात्मक छवि बन गई है। लेकिन  आज हम आपको एक ऐसे गौरक्षक से मिलायेंगे जिन्होंने, गौरक्षक की क्या जिम्मेदारी होती है उसकी एक छोटी सी मिसाल पेश की है

उत्तर प्रदेश के ललितपुर जिले के रहने वाले और गौपुत्र संस्था के  संस्थापक  प्रशांत शुक्ला एक फार्मा कंपनी चलाने के साथ पिछले 6 साल से गायों की सेवा कर रहे हैं और अब तक करीब 12 हज़ार गायों  का निशुल्क इलाज करने के साथ ही उनके लिए 1100 से अधिक पानी पीने की टंकियों विभिन्न क्षेत्रों में लागा चुके है।  प्रशांत ने कई गायों को कई बार गौ तस्करों के  चंगुल से भी बचाया है। 

अब तक हजारों गायों का  इलाज कर चुके प्रशांत बताते है कि वह अपने जिले में एक एनिमल इमरजेंसी सेवा भी संचालित करते है जिसमें वह हाइवे में बीमार और सड़क दुर्घटना में चोटिल  गायों को रेस्क्यू कर उनका निशुल्क  इलाज करते है और तब तक उसे छोड़ते नही जब तक वह पूरी तरह स्वास्थ्य ना हो जाए। प्रशांत आगे कहते है कि उनकी संस्था हर साल गायों के इलाज पर  8 से 10 लाख रुपए खर्च करती है । और उन्हें ये पूरा ख़र्चा आमजन के सहयोग से प्राप्त होता है। 

प्रशांत का मानना है कि अगर आप अच्छा काम कर रहे है और  आपके  काम मे खोट भी नही है तो लोग खुदी ही आपकी मदद करने के लिये आगे आ जाते है। उन्होंने भी आज तक निरस्वार्थ भाव से काम किया इसलिए लोग इन नेक कार्य के लिये उनकी मदद कर रहे है

प्रशांत को उनके इस कार्य के लिए राज्य के मंत्री, विधायक से लेकर जिला अधिकारी तक सम्मानित कर चुके हैं । प्रशांत का गौ सेवा का  ये अनोखा  प्रयास एक दिन जरूर समाज मे गोरक्षक की नकारात्मक छवि को बदल देगा। 

 

gao.png
1672KB

Latest

बीएमसी ने पानी कटौती की घोषणा की; प्रभावित क्षेत्रों की पूरी सूची देखें

देहरादून और हरिद्वार में पानी की सर्वाधिक आवश्यकता:नितेश कुमार झा

भारतीय को मिला संयुक्त राष्ट्र का सर्वोच्च पर्यावरण सम्मान

जल दायिनी के कंठ सूखे कैसे मिले बांधों को पानी

मुंबई की दूसरी सबसे बड़ी झील पर बीएमसी ने बनाया मास्टर प्लान

जल संरक्षण को लेकर वर्कशॉप का आयोजन

देश की जलवायु की गुणवत्ता को सुधारने में हिमालय का विशेष महत्व

प्रतापगढ़ की ‘चमरोरा नदी’ बनी श्रीराम राज नदी

मैंग्रोव वन जलवायु परिवर्तन के परिणामों से निपटने में सबसे अच्छा विकल्प

जिस गांव में एसडीएम से लेकर कमिश्नर तक का है घर वहाँ पानी ने पैदा कर दी सबसे बड़ी समस्या