नदी मुख अथवा लघु खाड़ियों की खोज

Author:admin

नदीमुख वे स्‍थान होते हैं जहां ताजे पानी की नदियां और धाराएं समुद्र के पानी से मिलती हुई महासागरों में गिरती हैं। विभिन्‍न प्रकार के पक्षी, मछली तथा अन्‍य वन्‍य जातियां इन नदी मुखों को अपना आवास बनाती हैं। इन नदी मुखों तथा इसके आसपास की भूमि पर जनता निवास करती है, मछलियां पकड़ती हैं, तैरती है और प्रकृति का आनंद उठाती है।

यहां स्थित कुछ पौधों और रहने वाले जानवरों सहित अनूठे पर्यावरण की छानबीन करने में http://www.epa.gov वेबसाइट का उपयोग करें। विभिन्‍न प्रकार के खेल और क्रियाकलापों के माध्‍यम से आप यह जान पाएंगे कि इन प्राकृतिक खजानों के संरक्षण में किस प्रकार मदद की जा सकती है। इसके अतिरिक्‍त आप यह भी जानेंगे कि किस प्रकार यू.ण्‍स. पर्यावरण संरक्षण एजेन्‍सी राष्‍ट्रीय नदीमुख कार्यक्रम के माध्‍यम से इन्‍हें पुन:संग्रहित एवं संरक्षित कर रही है।

 

Latest

IIT-कानपुर के शोधकर्ताओं ने पानी साफ करने वाला सबसे सस्ता उपकरण बनाया

नदियों को सदानीरा बनाने के लिए संकल्पित मध्यप्रदेश

तीन दिवसीय जल-विज्ञान प्रशिक्षण कार्यक्रम का शुभारंभ

चंद्रमा खींच रहा है पृथ्वी का पानी, वैज्ञानिक ने खोजा अनोखा चंद्र स्रोत

यदि 50 डिग्री सेल्सियस तापमान हो जाए तो हालात कैलिफोर्निया जैसे होंगे

मूलभूत सुविधा भी नहीं है गांव के स्कूलों में

घातक हो सकता है ऐसे पानी पीना

20 साल पुराना पानी पीते है अमित शाह जो है एकदम शुद्व ,जाने कैसे

चीनी शोधकर्ताओं ने मंगल में ढूंढ लिया पानी

गोवा के कृषि मंत्री ने बता दिया गृहमंत्री अमित शाह कितना महंगा पानी पीते है