नदियों में प्रदूषण के स्रोत

Author:admin
(1) गंगा अथवा ऐसी किसी भी नदी के प्रदूषण के स्रोतों को दो प्रकार की श्रेणियों में बांटा जा सकता है :

( (अ) पाइंट स्रोत -
ये प्रदूषण के ऐसे संगठित स्रोत हैं जहां प्रदूषण के भार को मापा जा सकता है जैसे - औद्योगिक कचरा और म्यूनिसिपल सीवेज बहाकर लाने वाले नाले, सीवेज पम्पिंग स्टेशन और सीवेज सिस्टमस्, उद्योगों से व्यापारिक कचरा आदि।

....( (ब) नॉन पाइंट स्रोत -
ये प्रदूषण के ऐसे स्रोत हैं जिन्हे मापा नहीं जा सकता जैसे- खेतों से बहकर आने वाले रसायन और फर्टीलाइजर, कचरा डालने के लिए इस्तेमाल होने वाले क्षेत्रों से बहकर आने वाली गंदगी, खुले में शौच और अधजली या अनजली लाशें और जानवरों के कंकाल, धोबी घाट, मवेशियों आदि द्वारा।

....

http://envfor.nic.in/nrcd/source.html

Latest

शेरनी:पर्यावरण और वन्यजीव संरक्षण पर ध्यान आकर्षित करने का प्रयास

जलवायु परिवर्तन के संकट से कैसे लड़ रहे है पहाड़ के किसान

यूसर्क द्वारा “वाटर एजुकेशन लेक्चर सीरीज” के अंतर्गत “जल स्रोत प्रबंधन के सफल प्रयास पर ऑनलाइन कार्यक्रम का आयोजन

वर्ल्ड एक्वा कांग्रेस 15वाँ अंतरराष्ट्रीय सम्मेलन का आयोजन

कोविड-19 के जोखिम को बढ़ा सकता है जंगल की आग से निकला धुआं: अध्ययन 

गौरैया को मिल गया नया आशियाना

गंगा की अविरलता और निर्मलता को स्थापित करने के लिये वर्चुअल मीटिंग का आयोजन 

चरखा ने "संजॉय घोष मीडिया अवार्ड्स 2020" सम्मान समारोह का किया आयोजन

पर्यावरण संरक्षण, खुशहाली और समृद्धि का प्रतीक है हरेला

कोविड महामारी के बावजूद 1,00,275 गांवों को मिल चुके है नल कनेक्शन