नीर फाउंडेशन का मुखपत्र ‘पर्यावरण संदेश’

Org नाम नीर फाउंडेशन का मुखपत्र ‘पर्यावरण संदेश’

नीर फाउंडेशन द्वारा द्वारा पिछले कुछ समय से यह महसूस किया जा रहा था कि पर्यावरण से जुड़े स्थानीय, राष्ट्रीय व अन्तर्राष्ट्रीय मुद्दे आम समाज तक नहीं पहुंच पा रहे हैं और न ही आम जन की पर्यावरण प्रेम की पुकार नीति-निर्माताओं व उसके कर्ता-धर्ताओं तक पहुंच पा रही है। ऐसे में हिन्दी भाषी त्रैमासिक मुखपत्र ‘पर्यावरण संदेश’ के माध्यम से प्रयास होगा कि हम पर्यावरण संबंधी नई जानकारियां समाज तक पहुंचा सकें। इस मुखपत्र के माध्यम से हम संस्था की गतिविधियों से भी आपको अवगत करा सकेंगे। इसके प्रथम विशेष अंक (जनवरी-जून, 2011) की भाषा व ज्ञान से पाठक संतुष्ट होंगे तथा कमियों व गलतियों से हमें अवश्य अवगत करायंेगे। जिससे कि हम अगले अंक में सुधार कर सकेंगे। आपके बहुमूल्य सुझाव भी सादर आमंत्रित हैं तथा जो कोई भी व्यक्ति समाज में सम्पूर्ण पृथ्वी को बचाने में अपना तनिक भी योगदान दे रहा है हम उसके प्रयास को भी इस मुखपत्रा के माध्यम से समाज के सामने लाने का कार्य करेंगे। ऐसे प्रयासों से हमें अवश्य अवगत कराएं।

धन्यवाद
सम्पादक

इस मुखपत्र की हार्ड कॉपी के लिए लिखें

सम्पादक
नीर फाउंडेशन
प्रथम तल, सम्राट शॉपिंग मॉल, गढ़ रोड़, मेरठ (उप्र) भारत

0121.4030595, 09411676951

theneerfoundation@gmail.com

‘पर्यावरण संदेश’ की कवर यहां संलग्न है।

Latest

गुजरात के विश्वविद्यालय ने वर्षा जल को सरंक्षित करने का नायाब तरीका ढूंढा 

‘अपशिष्ट जल से ऊर्जा बनाने में अधिक सक्षम है पौधा-आधारित माइक्रोबियल फ्यूल सेल’: अध्ययन

15वें वित्त आयोग द्वारा ग्रामीण स्थानीय निकायों को जल और स्वच्छता के लिए सशर्त अनुदान

गंगा किनारे लोगों के घर जब डूबने लगे

ग्रामीण स्थानीय निकायों को 15वें वित्त आयोग का अनुदान और ग्रामीण भारत में जल एवं स्वच्छता क्षेत्र पर इसका प्रभाव

जल संसाधन के प्रमुख स्त्रोत क्या है

बाढ़ की तबाही के बीच स्त्रियों की समस्याएं

अनदेखी का शिकार: शुद्ध जल संकट का स्थायी निदान

महाराष्ट्र एक्वीफर मैपिंग द्वारा जलस्रोत स्थिरता सुनिश्चित करना 

बिहार में जलवायु संकट से बढ़े हीट वेव से निपटने का बना एक्शन प्लान