निर्मल भारत यात्रा -प्रेस कॉन्फ्रेंस आमंत्रण

Author:संपादक
स्थान : गुलमोहर, इंडिया हैबिटेट सेंटर, लोधी रोड, नई दिल्ली
समय व तिथि : 28 सितंबर 2012, सायं 3:00 बजे


वॉश युनाइटेड और क्विकसैंड डिजाइन स्टूडियों निर्मल भारत यात्रा के प्रारंभ से पहले सभी मीडियाकर्मियों का आह्वान और स्वागत करते हैं। जल्द ही शुरू होने वाली ‘निर्मल भारत यात्रा’, एनबीवाई महाराष्ट्र के वर्धा से शुरू होकर बिहार के बेतिया में समाप्त होगी। यह यात्रा मात्र एक यात्रा या मेला नहीं है बल्कि भारत में सेनिटेशन के मुद्दों के प्रति लोगों में जागरुकता उत्पन्न करना और व्यवहार में बदलाव लाने के लिए प्रोत्साहित करने के लिए की जा रही है।

प्रेस कॉन्फ्रेंस में पेयजल और स्वच्छता मंत्री श्री जयराम रमेश संयुक्त सचिव जितेंद्र शंकर माथुर और अर्घ्यम की चेयरपर्सन रोहिणी निलेकणी शिरकत करेंगे। इस यात्रा की सेनिटेशन अंबेसडर अभिनेत्री विद्या बालन भी मीडियाकर्मियों से रूबरू होंगी।

इस यात्रा के मुख्य सहयोगियों में निर्मल भारत अभियान, भारत सरकार, स्विस एजेंसी फॉर डेवलपमेंट एंड कोऑपरेशन (एसडीसी) जीआईजेड, बिल और मिलिंडा गेट्स फाउंडेशन, वॉटर सप्लाई एंड सेनिटेशन कोलैबोरेटिव काउंसिल (डब्ल्यूएसएससीसी), वाटर एड, अर्घ्यम, हिंदी वॉटर पोर्टल, गूंज, यूनिसेफ, फैन्सा और ईएडब्ल्यूएजी आदि शामिल हैं।

सभी मीडियाकर्मी इस प्रेस कॉन्फ्रेंस के लिए आमंत्रित हैं। अधिक जानकारी के लिए संपर्क करें

संपर्क :
हिंदी वाटर पोर्टल
ईमेल : hindi@indiawaterportal.org
सबरीना अग्रवाल, संचार और जनसंपर्क प्रबंधक, वॉश युनाइटेड
ईमेल : sabrina.aggarwal@wash-united.org
फोन : 09958295877

Latest

मिलिए 12 हज़ार गायों को बचाने वाले गौरक्षक से

स्वस्थ गंगा: अविरल गंगा: निर्मल गंगा

पीएम मोदी का बचपन जहाँ गुजरा कभी वहां था सूखा आज बदल गई पूरी तस्वीर 

वायु प्रदूषण के सटीक आकलन और विश्लेषण के लिए नया मॉडल

गंगा का पानी प्लास्टिक और माइक्रोप्लास्टिक से प्रदूषित, अध्ययन में पता चला

शेरनी:पर्यावरण और वन्यजीव संरक्षण पर ध्यान आकर्षित करने का प्रयास

जलवायु परिवर्तन के संकट से कैसे लड़ रहे है पहाड़ के किसान

यूसर्क द्वारा “वाटर एजुकेशन लेक्चर सीरीज” के अंतर्गत “जल स्रोत प्रबंधन के सफल प्रयास पर ऑनलाइन कार्यक्रम का आयोजन

वर्ल्ड एक्वा कांग्रेस 15वाँ अंतरराष्ट्रीय सम्मेलन का आयोजन

कोविड-19 के जोखिम को बढ़ा सकता है जंगल की आग से निकला धुआं: अध्ययन