पानी में धीमा जहर पी रहे लोग

Author:सुरेंद्र स्वामी
Source:दैनिक भास्कर, 04 जुलाई 2014
फ्लोरोसिस नियंत्रण सर्वे की रिपोर्ट केंद्र को सौंपी, जयपुर समेत कई राज्यों में स्थिति खतरनाक
4 जुलाई 2014, जयपुर। केंद्र सरकार के नेशनल प्रोग्राम फॉर प्रिवेंशन एंड कंट्रोल ऑफ फ्लोरोसिस (एनपीपीसीएफ) के तहत कराए गए सर्वे में राजस्थान के आधे यानी 16 जिले फ्लोराइड से प्रभावित पाए गए हैं।

इस समस्या पर नियंत्रण के उपायों पर चर्चा करने के लिए विशेषज्ञों की दिल्ली में 9 जुलाई को राष्ट्रीय स्तर की बैठक होगी, जिसमें एसएमएस अस्पताल के ऑथोपेडिक्स विभाग के सीनियर प्रोफेसर डॉ. एसएस सांखला राजस्थान का प्रतिनिधित्व करेंगे। गौरतलब है देश के 19 राज्यों के लोग भूजल में मिला फ्लोराइड नामक धीमा जहर पीने को मजबूर हैं।

एनपीपीसीएफ की सर्वे रिपोर्ट में राजस्थान के भूजल में फ्लोराइड का मानक स्तर एक पीपीएम से भी अधिक पाया गया है, जिससे लोग हड्डियों की कमजोरी, पीले दांत, जोड़ों व घुटनों व कमर दर्द, झुककर चलना, कब्ज , पेट दर्द, उल्टी-दस्त का शिकार हो रहे हैं।

राज्य सरकार ने आज तक फ्लोरोसिस नियंत्रण कार्यक्रम नहीं चलाया। अन्य प्रभावित राज्य हैं- आंध्र प्रदेश, गुजरात, राजस्थान, कर्नाटक, उड़ीसा, पंजाब, महाराष्ट्र, मध्य प्रदेश, हरियाणा, बिहार, तमिलनाडु, उत्तर प्रदेश, बंगाल, केरल, असम, दिल्ली, जम्मू-कश्मीर, झारखंड और छत्तीसगढ़।

Latest

वायु प्रदूषण कम करने के लिए बिहार बना रहा है नई कार्ययोजना

3.6 अरब लोगों पर पानी का संकट,भारत भी प्रभावित: विश्व मौसम विज्ञान संगठन

अब गंगा में प्रदूषण फैलाना पड़ेगा महंगा!

बीएमसी ने पानी कटौती की घोषणा की; प्रभावित क्षेत्रों की पूरी सूची देखें

देहरादून और हरिद्वार में पानी की सर्वाधिक आवश्यकता:नितेश कुमार झा

भारतीय को मिला संयुक्त राष्ट्र का सर्वोच्च पर्यावरण सम्मान

जल दायिनी के कंठ सूखे कैसे मिले बांधों को पानी

मुंबई की दूसरी सबसे बड़ी झील पर बीएमसी ने बनाया मास्टर प्लान

जल संरक्षण को लेकर वर्कशॉप का आयोजन

देश की जलवायु की गुणवत्ता को सुधारने में हिमालय का विशेष महत्व