पानी सहेजने का अनुपम तरीका

Author:यू-ट्यूब
Source:यू-ट्यूब

आज हम पानी के परंपरागत जल स्रोत कुएँ, बावड़ियां, टांके, झालरे, जोहड़, नाड़ियां, बेरियों, तालाब और जलाशयों जैसे पानी के स्रोत को बिसरा चुके हैं। जो अभी भी हमारे लिए जल संग्रहण का काम कर रहे हैं और लोगों के लिए लाइफ लाइन साबित हो सकते हैं।समय रहते इन्हें नहीं संभाला गया और गंभीरता से इनकी देखरेख नहीं की गई तो इनको मरने से कोई नहीं बचा पाएगा। पानी की कमी से न सिर्फ लोग त्रस्त हो रहे हैं बल्कि जानवर भी पानी के लिए त्राहि-त्राहि करने लगते हैं। जल संरक्षण का काम आने वाली वॉटर बॉडीज लगभग खत्म हो चुकी हैं और इसी का नतीजा जल संकट के रूप में सामने है। राजस्थान के रेगिस्तान में लोगों द्वारा पानी सहेजने के तरीके को समझाते अनुपम मिश्र।

Latest

वायु प्रदूषण कम करने के लिए बिहार बना रहा है नई कार्ययोजना

3.6 अरब लोगों पर पानी का संकट,भारत भी प्रभावित: विश्व मौसम विज्ञान संगठन

अब गंगा में प्रदूषण फैलाना पड़ेगा महंगा!

बीएमसी ने पानी कटौती की घोषणा की; प्रभावित क्षेत्रों की पूरी सूची देखें

देहरादून और हरिद्वार में पानी की सर्वाधिक आवश्यकता:नितेश कुमार झा

भारतीय को मिला संयुक्त राष्ट्र का सर्वोच्च पर्यावरण सम्मान

जल दायिनी के कंठ सूखे कैसे मिले बांधों को पानी

मुंबई की दूसरी सबसे बड़ी झील पर बीएमसी ने बनाया मास्टर प्लान

जल संरक्षण को लेकर वर्कशॉप का आयोजन

देश की जलवायु की गुणवत्ता को सुधारने में हिमालय का विशेष महत्व