पेयजल की समस्या होगी दूर

Author:नेशनल दुनिया डेस्क
Source:नेशनल दुनिया, 16 मार्च 2015
सवा दो करोड़ रुपए का बजट जारी, दो दशक से परेशानी झेल रहे राजनगरवासी
.नई दिल्ली (नेशनल दुनिया)। पिछले दो दशकों से केवल द्वारका सब सिटी के लोग ही पेयजल की समस्या से नहीं जूझ रहे थे, बल्कि बिजवासन विधानसभा क्षेत्र स्थित राजनगर के विभिन्न ब्ल़ाकों के करीब डेढ़ लाख आबादी भी पेयजल समस्या से परेशान थी।

दिल्ली जल बोर्ड द्वारा पेरीफेरी लाइन को द्वारका की मेन ब्रांच लाइन से जोड़ने के फैसले से अब इस समस्या के समाधान का रास्ता खुल गया है।

बिजवासन विधानसभा क्षेत्र में राजनगर का इलाका सबसे बड़ा इलाका है। यह राजनगर पार्ट नगर पार्ट 1, 2, एक्सटेंशन आदि भागों में बंटा है। इस क्षेत्र की आबादी करीब डेढ़ लाख है।

खास तौर से डीडीए पार्क क्षेत्र के लोगों का यह हाल है कि विगत ढाई वर्ष से नहाने के लिए भी पानी खरीद रहे हैं। टैंकर माफिया और दिल्ली जल बोर्ड के अधिकारियों की मिलीभगत की वजह से लोग ऐसा करने को मजबूर हैं। बिजवासन क्षेत्र से आप विधायक कर्नल देवेन्द्र सहरावत ने बताया कि यह बात सही है।

खास तौर से डीडीए पार्क के सामने का इलाका तो पूरी तरह से ड्राई जोन में है। उन्होंने बताया कि यहाँ पूरे इलाके में ट्यूबवेल से पानी की आपूर्ति सम्भव नहीं है। कहीं-कहीं ट्यूबवेल से पानी की आपूर्ति है भी तो वो लोगों के स्वास्थ्य के लिए पूरी तरह से हानिकारक ही कहा जा सकता है। यही कारण है कि यहाँ पर दिल्ली जल बोर्ड द्वारा टैंकरों से पानी की आपूर्ति लम्बे अरसे से जारी है।

उन्होंने कहा कि इस क्षेत्र में गर्मी के दौरान पानी की समस्या को दूर करने के लिए 10 अतिरिक्त टैंकर दिल्ली जल बोर्ड से पास कराए हैं। ये टैंकर पहले से जारी टैंकरों से अतिरिक्त हैं। इस क्षेत्र में पेयजल समस्याओं के स्थाई समाधान के लिए तीन क्षेत्रों में पाइप लाइन डालने का काम आगामी दो महीनों के दौरान किया जाएगा। इसके लिए करीब सवा दो करोड़ रुपए का बजट पास करा लिया गया है। इस बजट से तीन क्षेत्रों में पाइप लाइन डालकर उसे द्वारका के मेन ब्रांच लाइन से जोड़ने का काम किया जाएगा।

अभी तक मेन ब्रान्च लाइन से पाइप का कनेक्शन नहीं होने की वजह से द्वारका स्थित यूजीआर से इन क्षेत्रों में पानी आपूर्ति सम्भव नहीं हो पाया है। लेकिन अब इस समस्या का आगामी दो महीने में समाधान हो जाएगा।

Latest

मिलिए 12 हज़ार गायों को बचाने वाले गौरक्षक से

स्वस्थ गंगा: अविरल गंगा: निर्मल गंगा

पीएम मोदी का बचपन जहाँ गुजरा कभी वहां था सूखा आज बदल गई पूरी तस्वीर 

वायु प्रदूषण के सटीक आकलन और विश्लेषण के लिए नया मॉडल

गंगा का पानी प्लास्टिक और माइक्रोप्लास्टिक से प्रदूषित, अध्ययन में पता चला

शेरनी:पर्यावरण और वन्यजीव संरक्षण पर ध्यान आकर्षित करने का प्रयास

जलवायु परिवर्तन के संकट से कैसे लड़ रहे है पहाड़ के किसान

यूसर्क द्वारा “वाटर एजुकेशन लेक्चर सीरीज” के अंतर्गत “जल स्रोत प्रबंधन के सफल प्रयास पर ऑनलाइन कार्यक्रम का आयोजन

वर्ल्ड एक्वा कांग्रेस 15वाँ अंतरराष्ट्रीय सम्मेलन का आयोजन

कोविड-19 के जोखिम को बढ़ा सकता है जंगल की आग से निकला धुआं: अध्ययन