पेयजल समस्या पर भड़के मसूरी विधायक जोशी

Author:अमर उजाला ब्यूरो
Source:अमर उजाला, देहरादून 17 मई 2019

गढ़ी डाकरा क्षेत्र में लगातार बनी पेयजल समस्या को लेकर मसूरी विधानसभा क्षेत्र के विधायक गणेश जोशी ने कैंट प्रशासन से मुलाक़ात कर जल्द समस्या का समाधान कराने को कहा है। विधायक ने इस पर रोष जताते हुए अधिकारियों को निर्देश दिया कि समस्या का तत्काल निराकरण किया जाए।

कैंट अफसर से वार्ता में मसूरी विधायक गणेश जोशी ने बताया कि गढ़ी डाकरा क्षेत्र में पेयजल आपूर्ति व्यवस्था के लगातार लचर हो जाने से जनता खासी परेशान है। गढ़ी कैंट के सीईओ ने बताया कि जलाशय बनाने वाले दोनों ट्यूबवेल एक साथ खराब हो जाने के कारण पानी का सिस्टम ध्वस्त हो गया है।] वर्तमान में यह समस्या जल्द ही सामान्य हो जाएगी।

विधायक जोशी ने कहा कि जब जलाशय बाधित हुआ था उस दौरान टैंकरों के माध्यम से वैकल्पिक व्यवस्था की जानी चाहिए थी। इस पर कैंट सीईओ जाकिर हुसैन ने बताया कि वह अपने कोष से टैंकर की व्यवस्था करेंगे। स्ट्रीट नंबर दस टपकेश्वर वार्ड के लोगों ने बताया कि गर्मियों में पानी की डिमांड बढ़ रही है। इसलिए वैकल्पिक व्यवस्था भी की जाए इस पर सीईओ ने सहायक अभियंता को मौके पर नजर रखने के मामले की वास्तविकता का परीक्षण किया जाना के लिए आदेश दिया है।

उन्होंने कहा कि जरूरत पड़ी तो नई लाइन भी चलेगी। विधायक जोशी ने बताया कि मुख्यमंत्री की घोषणा के अनुसार भंडारी मोहल्ले में ट्यूबवेल का निर्माण अंतिम चरण पर है। 20 दिन में यह कार्य पूर्ण हो जाएगा। इससे गढ़ी कैंट की समस्या का समाधान हो जाएगा।
मौके पर विष्णु गुप्ता, पार्षद मेघा भट्ट, मधु खत्री, प्रभा शाह, बेला गुप्ता, अनिल सैनी, अर्जुन, मनोज क्षेत्री, सुनीता प्रधान, नीतू बिष्ट, सोनू बिष्ट आदि मौजूद रहे।

Latest

कैसे प्रदूषण से किसी देश की अर्थव्यवस्था हो सकती है तबाह

भारत में क्यों मनाया जाता है राष्ट्रीय प्रदूषण नियंत्रण दिवस

वायु प्रदूषण कम करने के लिए बिहार बना रहा है नई कार्ययोजना

3.6 अरब लोगों पर पानी का संकट,भारत भी प्रभावित: विश्व मौसम विज्ञान संगठन

अब गंगा में प्रदूषण फैलाना पड़ेगा महंगा!

बीएमसी ने पानी कटौती की घोषणा की; प्रभावित क्षेत्रों की पूरी सूची देखें

देहरादून और हरिद्वार में पानी की सर्वाधिक आवश्यकता:नितेश कुमार झा

भारतीय को मिला संयुक्त राष्ट्र का सर्वोच्च पर्यावरण सम्मान

जल दायिनी के कंठ सूखे कैसे मिले बांधों को पानी

मुंबई की दूसरी सबसे बड़ी झील पर बीएमसी ने बनाया मास्टर प्लान