पुरोवाक्

Author:ओम थानवी
Source:जल और समाज किताब से साभार

जब वाचिक परम्परा अतीत की चीज होती चली जा रही हो तब सीमित दायरे में ही सही, इस तरह वाचिक इतिहास की रचना का महत्त्व और बढ़ जाता है। शोध को पढ़ते वक्त कई जानकारियाँ मुझे जैसे पहली बार मालूम हुई। एक खास जानकारी इसमें यह थी कि बीकानेर में सौ से अधिक जो तालाब रहे उनमें से दस तालाब भी रियासत के खर्च पर नहीं बने थे। जल संरक्षण की संस्कृति के निर्माण में लोक की भूमिका इससे बढ़कर क्या हो सकती है? पानी के साथ जीवन का रिश्ता एक होता है, लेकिन सब जगह वह एक-सा नहीं होता। रेगिस्तान में पानी की महिमा सबसे निराली है। जब नहरों का सहारा नहीं था, रेगिस्तान के हर बाशिन्दें की नजरें चौमासे में आसमान पर टिकी रहती थीं। बादल से बरसी एक-एक बूँद को सहेजने-सम्भालने और बरतने का एक अनूठा कायदा समाज ने रचा था। इस तरह एक सरोवर संस्कृति बनी, जिसका अध्ययन अजीत फाउंडेशन की फेलोशिप के तहत ब्रजरतन जोशी ने किया है।

जल और समाज शहर के तालाबों का निरा लेखा-जोखा नहीं है। यह बीकानेर के सांस्कृतिक इतिहास के सुनहरे पहलू को उजागर करने वाला काम है। जो इतिहास हमें अमूमन उपलब्ध होता है वह सामाजिक-सांस्कृतिक तो दूर-दूर तक नहीं होता, वह राजनीतिक इतिहास भी नहीं होता, सही मायनों में वह शासन का इतिहास होता है। इसलिये उसकी प्राथमिकता भी सन्दिग्ध होती है।

असल में इतिहास लोकजीवन की स्मृति का हिस्सा होता है। मगर विडम्बना है कि उसकी पड़ताल का काम अक्सर इतिहास के घेरे से बाहर समझा जाता है। ब्रजरतन जोशी ने पौराणिक आख्यानों के अध्ययन के साथ बीकानेर के लोक मानस का साक्षात्कार कर नगर के तालाबों के बहाने नगर की पारम्परिक जीवनशैली, यहाँ की लोक संस्कृति के रंग के साथ देशज वास्तुकला और तकनीक के विवेक जैसे अनेक पहलुओं को अपने शोध में बखूबी छुआ है, जो आधुनिक जीवन की पकड़ से बिल्कुल दूर हो चुके हैं।

जब वाचिक परम्परा अतीत की चीज होती चली जा रही हो तब सीमित दायरे में ही सही, इस तरह वाचिक इतिहास की रचना का महत्त्व और बढ़ जाता है। शोध को पढ़ते वक्त कई जानकारियाँ मुझे जैसे पहली बार मालूम हुई। एक खास जानकारी इसमें यह थी कि बीकानेर में सौ से अधिक जो तालाब रहे उनमें से दस तालाब भी रियासत के खर्च पर नहीं बने थे। जल संरक्षण की संस्कृति के निर्माण में लोक की भूमिका इससे बढ़कर क्या हो सकती है?

अजित फाउंडेशन के जरिए इस काम को आगे बढ़ाया जाना चाहिए। विश्वास और मान्यताओं में स्थित तथ्यों के जरिए शोधार्थी और अधिक प्रमाण जुटा सकते हैं। यह मुश्किल काम है, पर असम्भव नहीं। तालाबों के निर्माण में भूमि के चयन से लेकर औजारों और चिनाई की व्यापक जानकारियाँ इस शोध में सामने आ गई हैं। इन पर और काम हो सकता है।

इस तरह की विधिवत और वैज्ञानिक निर्माण पद्धति की जानकारी आज के इंजीनियरों की आँखें भी खोलेंगी। पत्रकारिता की शैली और मुहावरों से बचते हुए सीधे तथ्यों और प्रमाणों पर आधारित शोध को आगे बढ़ाया गया तो यह बीकानेर के ऐतिहासिक-सामाजिक परिप्रेक्ष्य में ही नहीं, देश के बौद्धिक पटल पर भी अपनी छाप छोड़ने वाला काम साबित होगा।

 

जल और समाज

(इस पुस्तक के अन्य अध्यायों को पढ़ने के लिए कृपया आलेख के लिंक पर क्लिक करें)

क्र.सं.

अध्याय

1

जल और समाज

2

सामाजिक एवं सांस्कृतिक इतिहास

3

पुरोवाक्

4

इतिहास के झरोखों में बीकानेर के तालाब

5

आगोर से आगार तक

6

आकार का व्याकरण

7

सृष्टा के उपकरण

8

सरोवर के प्रहरी

9

सांस्कृतिक अस्मिता के सारथी

10

जायज है जलाशय

11

बीकानेर के प्रमुख ताल-तलैया

 

Latest

मिलिए 12 हज़ार गायों को बचाने वाले गौरक्षक से

स्वस्थ गंगा: अविरल गंगा: निर्मल गंगा

पीएम मोदी का बचपन जहाँ गुजरा कभी वहां था सूखा आज बदल गई पूरी तस्वीर 

वायु प्रदूषण के सटीक आकलन और विश्लेषण के लिए नया मॉडल

गंगा का पानी प्लास्टिक और माइक्रोप्लास्टिक से प्रदूषित, अध्ययन में पता चला

शेरनी:पर्यावरण और वन्यजीव संरक्षण पर ध्यान आकर्षित करने का प्रयास

जलवायु परिवर्तन के संकट से कैसे लड़ रहे है पहाड़ के किसान

यूसर्क द्वारा “वाटर एजुकेशन लेक्चर सीरीज” के अंतर्गत “जल स्रोत प्रबंधन के सफल प्रयास पर ऑनलाइन कार्यक्रम का आयोजन

वर्ल्ड एक्वा कांग्रेस 15वाँ अंतरराष्ट्रीय सम्मेलन का आयोजन

कोविड-19 के जोखिम को बढ़ा सकता है जंगल की आग से निकला धुआं: अध्ययन